कलेक्टर ओपी चौधरी का इस्तीफा मंजूर, भाजपा में जाना लगभग तय

प्रधानमंत्री सेक्रेट्रिएट के मंत्री जितेंद्र सिंह के अनुमति के बाद केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय ने उनको इस्तीफे को मंजूर कर लिया है। ओपी चौधरी ने 16 अगस्त को अपना इस्तीफा मुख्य सचिव को सौंपा था। संभावना है कि उन्हें उमेश पटेल के खिलाफ मैदान में उतारा जाएगा।

रायपुर। राजधानी के कलेक्टर ओपी चौधरी का भाजपा में जाना लगभग तय हो गया है। और इस बात की भी पूरी संभावना है कि उन्हें उमेश पटेल के खिलाफ मैदान में उतारा जाएगा।

पिछले कई दिनों से कलेक्टर श्री चौधरी के राजनीतिक प्रवेश को लेकर चर्चाओं का बाजार गरम है। जो बातें निकल कर सामने आ रही है उसके मुताबिक अमित शाह के सामने ओपी चौधरी को भाजपा प्रवेश कराया जाना था लेकिन, 24 अगस्त को होने वाला दौरा टल गया इस वजह से कलेक्टर चौधरी का भी राजनीतिक प्रवेश टल गया है।

जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक उन्होंने अपना इस्तीफा भी भेज दिया है। ओपी चौधरी मध्यम वर्गीय परिवार से कलेक्टर तक पहुँचे हैं। उमेश पटेल जिस समुदाय से आते हैं उसी समुदाय के ओपी चौधरी भी हैं। इस समुदाय का उस विधानसभा क्षेत्र में अच्छा खासा दबदबा है।




इसके अलावा ओपी चौधरी एक अच्छे प्रशासनिक अधिकारी माने जाते हैं। उनकी छवि भी साफ , सौम्य और सरल है जिसका फायदा BJP चुनाव में उठाना चाहती है।

सूत्रों का कहना है कि कलेक्टर ओपी चौधरी के विधानसभा परिणाम अगर अपेक्षा के अनुरूप नही भी आते तो उन्हें संगठन मे बड़ा ओहदा मिलेगा।कलेक्टर ओपी चौधरी ने करीब एक हफ्ता पहले अपना इस्तीफा भेज दिया था।

कई दिनों तक चले प्रयास के बाद शनिवार को उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है। इसके बाद यह साफ हो गया है कि वो अब भाजपा मे जाएंगे।

प्रधानमंत्री सेक्रेट्रिएट के मंत्री जितेंद्र सिंह के अनुमति के बाद केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय ने उनको इस्तीफे को मंजूर कर लिया है। ओपी चौधरी ने 16 अगस्त को अपना इस्तीफा मुख्य सचिव को सौंपा था।



Leave a Reply