poshan-abhiyan-tracker-app-16-march-2021
Chhattisgarh

पोषण अभियान : पोषण ट्रेकर एप के माध्यम से प्रतिदिन पोषण प्रगति की निगरानी

भारत सरकार के निर्देशानुसार महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ में 16 मार्च से 31 मार्च तक पोषण अभियान अंतर्गत पोषण पखवाड़ा का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका पोषण ट्रेकर एप के माध्यम से रोज बच्चों, किशोरियों, गर्भवती माताओं और स्तनपान करानी वाली माताओं के पोषण प्रगति और गतिविधियों की जानकारी देंगी।

पोषण ट्रेकर एप में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रोज भेरेंगी ऑनलाईन जानकारी

इस संबंध में आज मंगलवार को इन्द्रावती भवन स्थित महिला एवं बाल विकास संचालनालय से सभी जिला कार्यक्रम अधिकारियों, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारियों, परियोजना अधिकारियों, पर्यवेक्षकों का ऑनलाईन उन्मुखीकरण प्रशिक्षण आयोजित किया गया। इसमें पोषण ट्रेकर एप डाउनलोड करने, हितग्राहियों का पंजीयन और पोषण टेªकर का संचालन, डैश बोर्ड के माध्यम से डाटा प्रमाणीकरण, क्रियान्वयन और कार्ययोजना पर विस्तृत प्रशिक्षण दिया गया।

महिला एवं बाल विकास अधिकारियों का वर्चुअल उन्मुखीकरण प्रशिक्षण आयोजित

प्रशिक्षण में विभागीय संचालक श्रीमती दिव्या उमेश मिश्रा ने सभी जिलों में विभिन्न विभागों के सक्रिय सहयोग से पोषण पखवाडे का आयोजन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पोषण पखवाड़ा का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य पोषण के प्रति हितग्राहियों को जागरूक करना और सेवाओं तक उनकी पहुंच को सुगम बनाना है। पोषण पखवाड़ा के दौरान अधिक से अधिक पोषण वाटिका निर्माण को बढ़ावा दिया जाए। वन, उद्यानिकी और औषधि पादप बोर्ड की सहायता से आंगनबाड़ियों में पपीता, मुनगा, आम, जामुन जैसे पौष्टिक और औषधियुक्त पौधे रोपे जाएं।

उन्होंने पोषण पंचायतों और नगरीय क्षेत्रों में पोषण विविधता और जागरूकता संबंधी कार्यक्रमों के आयोजनों के निर्देश दिए, जिससे अधिक से अधिक लोगों तक सुपोषण का संदेश पहुंचाया जा सके। श्रीमती मिश्रा ने कहा कि अंतरविभागीय समन्वय से पोषण के पांच सूत्रों का व्यापक प्रचार-प्रसार करें और स्वास्थ्य के लिए योग के महत्व को भी लोगों तक पहुंचाएं। उल्लेखनीय है कि पोषण पखवाड़ा के दौरान प्रदेश में सुपोषण संबंधी संदेशों को लोगों तक पहुंचाने के लिए विभिन्न आयोजन किए जाएंगे और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और मितानिनों द्वारा हितग्राहियों के घर-घर भेंट कर पोषण, स्तनपान, उपरी आहार, पोषण आहार में विविधता संबंधी जानकारी दी जाएगी।

Leave a Reply