प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के दौरे पर, बेलूर मठ रुके, विपक्ष पर किया नागरिकता बिल (CAA) मुद्दे के विरोध पर हमला - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के दौरे पर, बेलूर मठ रुके, विपक्ष पर किया नागरिकता बिल (CAA) मुद्दे के विरोध पर हमला

narendra-modi-kolkata-port-west-bengal

कोलकाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के दो दिन के दौरे पर शनिवार को कोलकाता पहुंचे. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और कोलकाता के मेयर और बंगाल के शहरी विकास और नगरपालिका मामलों के मंत्री फिरहाद खान ने पीएम मोदी का एयरपोर्ट पर स्वागत किया. इसके बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राजभवन में पीएम मोदी से मुलाकात की.

शनिवार को पीएम मोदी ने कोलकाता में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की थी. उन्होंने पीएम मोदी के सामने नागरिकता कानून (CAA), एनआरसी (NRC) और एनपीआर (NPR) का विरोध दर्ज कराते हुए CAA को वापस लेने की मांग की. इसके जवाब में पीएम मोदी ने उन्हें दिल्ली आकर इस मुद्दे पर बात करने के लिए कहा. पीएम मोदी ने शनिवार को हावड़ा ब्रिज के नाम से मशहूर रबींद्र सेतु के इंटरैक्टिव लाइट एंड साउंड शो का शुभारंभ किया.

पीएम के रात्रि विश्राम का कार्यक्रम पहले राजभवन में आयोजित किया गया था लेकिन ऐन मौके पर इसे बदल दिया गया. पीएम मोदी ने रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय बेलूर मठ में रात विश्राम किया. आज स्वामी विवेकानंद की जयंती है. सुबह पूजा-अर्चना के बाद पीएम मोदी मठ के साधु-संतों से मिले. इसके बाद पीएम कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के कार्यक्रम में पहुंचे.

belur-math-pm-modi-2

मुलाकात के बाद सीएम ममता बनर्जी ने बताया, ‘मैंने पीएम से कहा कि बंगाल के लोग एनआरसी और सीएए स्वीकार नहीं है. इस पर पीएम ने कहा कि यहां मैं दूसरे कार्यक्रमों में शामिल होने  के लिए आया हूं. उन्होंने कहा कि इस पर बात करने के लिए आप दिल्ली आइए.’ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे एक शिष्टाचार मुलाकात बताया.

प्रधानमंत्री ने दौरे से पहले ट्वीट किया, ‘मैं आज और कल पश्चिम बंगाल में रहने को लेकर उत्साहित हूं. मैं रामकृष्ण मिशन में समय बिताने को लेकर खुश हूं और वह भी तब जब हम स्वामी विवेकानंद की जयंती मना रहे हैं. उस स्थान के बारे में एक विशेष स्थान भी है.’ उन्होंने आगे लिखा, “फिर भी वहां कुछ कमी होगी.”

उन्होंने लिखा, “आदरणीय स्वामी आत्मस्थानंदजी वहां नहीं होंगे. मुझे जन सेवा को प्रभु सेवा का सिद्धांत उन्होंने ही सिखाया था. रामकृष्ण मिशन में उनकी अनुपस्थिति अकल्पनीय है.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण देखे 

Leave a Reply