100-rs-petrol
Chhattisgarh India

विशेष लेख : देश में हाहाकार 100 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल-डीज़ल, सिर्फ बढ़ती महंगाई नहीं छिनेगा रोजगार भी

राजिम, (गरियाबंद)। इन दिनों पेट्रोल डीज़ल की कीमतों में भारी इजाफा हुआ, कीमते 100 रूपए प्रति लीटर तक जा पहुंची है। पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमते महंगाई तो बढ़ता ही है, साथ में आमजनो  के रोजगार छीनने का भी कारण बन जाता है। पेट्रोल डीज़ल मुख्यत रूप से परिवहन एवं माल ढुलाई वाहनों में इस्तेमाल होता है। माल ढुलाई वाहनों में सब्जी-भाजी, किराना, अन्न, कपडे इत्यादि जरुरी सामान भी आते है फलस्वरूप वो भी महंगे हो जाते है।

पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमते परिवहन संचालन कंपनियों को भारी नुकसान पहुँचाती है क्योंकि यात्री एवं सामन विक्रेता बढ़ता भाड़ा नहीं देना चाहता, फलस्वरूप बस या ट्रक को बंद करना पड़ता है जिससे छोटे मजदुर जैसे ड्राइवर, कंडक्टर इत्यादि को नौकरी से हटाना पड़ता है ताकि नुकसान को बर्दाश्त किया जा सके। सब्जी-फल सब इतने महंगे हो जाते है कि छोटे दुकानदारों को भी अपनी दुकाने बंद तक करनी पड़ जाती है क्यूंकि ग्राहक नए बढ़े दामों में सामान बिलकुल भी खरीदना नहीं चाहता।

अन्य सेक्टर जैसे सीमेंट, स्टील आदि के उत्पादों की कीमतों में भारी इजाफा होता है, इन सेक्टर में भी नौकरी कर रहे नौजवान भी छटनी का शिकार बन जाते है। सिर्फ निजी संस्थान ही नहीं सरकारी विभागों को भी खूब नुकसान हो रहा है। हालत ऐसे है की ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रो में भी पेट्रोल डीज़ल 100 रुपये प्रति लीटर से कम नहीं मिल रहा।

भारत देश पहले से ही कोरोना महामारी से जूझ रहा है ऊपर से पेट्रोल-डीज़ल की कीमते दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही है। वर्तमान परिस्थितयो को देख कर अहसास हो रहा है कि भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पेट्रोल डीज़ल के बढ़ते दामों पर लगाम लगाने में पूर्ण रूप से नाकाम साबित हो रही है और देश को आर्थिक संकट एवं बेरोजगारी के तरफ धकेल रही है।

priyanka dudani
श्रीमती प्रियंका दुदानी (राजिम-गरियाबंद)

 

 

 

 

 

 

लेखक/पत्रकार के विचार अपने निजी है।

Advertisement
Rahul Gandhi Ji Birthday 19 June

Leave a Reply