‘पेथई’ हुआ कमजोर, रात को ठंड बढ़ेगी, घना काेहरा छाने की दी चेतावनी, ठंड से 3 की मौत, सरकार का अलर्ट जारी - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

‘पेथई’ हुआ कमजोर, रात को ठंड बढ़ेगी, घना काेहरा छाने की दी चेतावनी, ठंड से 3 की मौत, सरकार का अलर्ट जारी

रायपुर (एजेंसी) | ‘पेथई’ चक्रवात कमजोर होकर निम्न दाब के रूप में उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी, संगत पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के तटीय क्षेत्र पर स्थित है। सिस्टम की वजह से प्रदेश के एक दो स्थानों पर हल्की बारिश या फिर गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की अति संभावना है। इसके अलावा कुछ स्थानों पर मध्यम से घना कोहरा और एक दो स्थानों पर बहुत घना कोहरा छाने की चेतावनी रायपुर मौसम विभाग की ओर से जारी की गई है।

प्रदेश के कई हिस्सों में मंगलवार को भी बारिश और ठंड जारी रही। रायपुर समेत राज्य के बड़े हिस्से में बुधवार को भी घना कोहरा छाने के आसार हैं। इस वजह से राज्य सरकार ने शीतलहर और कड़ाके की सर्दी के हालात को देखते हुए अलर्ट जारी कर दिया है। सोमवार को सदी का सबसे ठंडा दिन रहा। दिन का तापमान 16 डिग्री तक पहुंच गया। यह सामान्य से 12 डिग्री कम था। मंगलवार को दिन का तापमान थोड़ा बढ़कर 19 डिग्री हुआ, लेकिन तेज ठंडी हवा से सुबह से रात तक पूरा प्रदेश ठिठुरता रहा।




इसकी वजह ये थी कि सुबह 10 बजे दक्षिण छत्तीसगढ़ में ऊपरी हवा में एक चक्रवात बन गया। इस वजह से नमी वाले बादलों ने राजधानी समेत प्रदेश के बड़े हिस्से को फिर घेर लिया। बादल इतने घने थे कि मंगलवार को दिनभर रोशनी भी कम रही। इस दौरान शीतलहर जैसे हालात से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ। बड़ी संख्या में लोग घरों से नहीं निकले।

चक्रवात के असर के कारण मंगलवार को प्रदेश के अधिकांश स्थानों में हल्की व मध्यम वर्षा हुई। संस्कारधानी में बारिश नहीं हुई। लेकिन दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। बारिश के बाद मंगलवार को राजनांदगांव अधिकतम तापमान में कमी दर्ज की गई है।

न्यूनतम पारा 13.8 डिग्री 

दिन का पारा 18.6 डिग्री पर रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 13.8 डिग्री पर रहा। मौसम विभाग की ताजा रिपोर्ट में आगामी दो दिनों के बाद न्यूनतम तापमान में गिरावट के साथ आकाश मुख्यत:साफ रहने की संभावना बतलाई गई है। बीच के दिनों में आसमान में बादल छाए रहेंगे। फेथई तूफान के कारण पूरे प्रदेशभर में बारिश से शीतलहर जैसे हालात बन गए हैं। फेथई तूफान से प्रदेश में कहीं मौत नहीं हुई, लेकिन इस वजह से चली शीतलहर और कड़ाके की सर्दी के कारण जशपुर और इससे लगे इलाके में दो लोगों की जान चली गई। इसी तरह से रायगढ़ में भी एक व्यक्ति की मौत होने की खबर है।

कई जगह भारी बारिश

फेथई तूफान के असर से राज्य के कुछ हिस्से में पिछले 24 घंटे में भारी वर्षा हुई। राजधानी रायपुर में करीब 5 सेमी पानी बरसा। लेकिन कुसमी (सामरी) में सर्वाधिक 80 मिमी बारिश हो गई। बिल्हा, शिवरीनारायण में 70, सिमगा, कसडोल, बालोद, गुरूर, बिलासपुर, सारंगढ़, माकड़ी में 60, रायपुर, बिलाईगढ़, छुरा, मैनपुर, देवभोग, धमतरी, कुरुद, नगरी, गुंडरदोही, डौंडीलोहारा समेत 15 जगहों पर बारिश करीब 50 मिमी रिकार्ड की गई।

दिन रात के पारे में सिर्फ 3 डिग्री का फर्क

बस्तर संभाग के सुकमा,कोंटा, बीजापुर,कोंडागांव,जगदलपुर,नारायणपुर के सभी इलाकों में मंगलवार को घने बादल छाए रहे। यहां अधिकतम तापमान 17.1 डिग्री और न्यूनतम तापमान 13.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिन रात के पारे में एक तरह से 3 डिग्री का ही फर्क है। मौसम वैज्ञानिक आर के सोरी ने बताया कि इस तरह की स्थिति बेहद दुर्लभ रहती है। जब पारे में ज्यादा अंतर नहीं रहता तो काफी ठंड का एहसास लोगों को होता है। इस समय बस्तर में हवाएं भी 8 से 10 किलोमीटर की रफ्तार से चल रही है। जिससे और ज्यादा सर्दी बढ़ी हुई है।

स्कूलों काे समय बदलने, रात में अलाव जलाने का निर्देश

प्रदेशभर में पड़ रही कड़ाके की ठंड को लेकर राज्य शासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। सभी संभागायुक्त, कलेक्टरों और सीएमओ को आवासहीन लोगों को रैनबसेरों में शिफ्ट करने और चौक-चौराहों पर अलाव जलाने के निर्देश दिए गए हैं। मौसम सामान्य होने तक मिडिल तक के स्कूलों की सुबह की पाली का समय बदलने के लिए कहा गया है।

इन लोगों की हुई मौत

ठंड से जशपुर जिले में दो लोगों की मौत हो गई।  पत्थलगांव के करडेगा का किसान लोहर साय (48) की खेत में सोते समय मौत हो गई। इसी तरह सन्ना थाना क्षेत्र के लेदरपाठ गांव में पहाड़ी कोरवा महिला सुंदरी बाई (40) की भी ठंड से मौत हो गई। रायगढ़ के गोगाराइस मिल गेट के पास सो रहे एक व्यक्ति की भी ठंड से मौत हो गई।



Leave a Reply