president-kovind-budget-2020
India Politics

बजट सत्र 2020: राष्ट्रपति कोविंद का अभिभाषण, ‘संसद ने सीएए बनाकर गांधीजी की इच्छा को पूरा किया’ विपक्ष के हंगामे से, राष्ट्रपति को 2 बार भाषण रोकना पड़ा

president-kovind-budget-2020

नई दिल्ली | बजट सत्र आज से शुरू हो गया। सबसे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि मसले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश ने परिपक्वता का परिचय दिया। विरोध के नाम पर हिंसा लोकतंत्र को अपवित्र करती है। कोविंद ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का भी जिक्र किया। इस दौरान विपक्षी सांसदों ने हंगामा किया। आज ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश करेंगी।

‘इस दशक में आजादी के 75 साल पूरे’

  • कोविंद ने कहा, ‘‘21वीं सदी के पहले सत्र को संबोधित करते हुए खुशी हो रही है। यह दशक भारत के लिए महत्वपूर्ण है। हमारी स्वतंत्रता के 75 साल पूरे होंगे। सरकार के प्रयास से इस सदी को भारत की मजबूत सदी बनाने की नींव रखी जा चुकी है।’’
  • ‘‘हम भारत के लोग महापुरुषों के सपने को पूरा करेंगे। इसमें संविधान हमारे लिए काफी मददगार है। संविधान हमें कर्तव्यों का बोध कराता है और नागरिकों से राष्ट्रहित को सर्वोपरि रखने की अपेक्षा भी रखता है।’’
  • ‘‘लोकसभा में तीन तलाक विरोधी कानून, उपभोक्ता संरक्षण कानून, अनियमित जमा योजना कानून, चिट फंड संशोधन कानून, मोटरवाहन कानून जैसे अनेक कानून बनाए गए। इसके लिए सांसदों का अभिनंदन करता हूं।’’
  • ‘‘राम जन्मभूमि मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश ने परिपक्वता दिखाई। विरोध के नाम पर किसी भी तरह की हिंसा लोकतंत्र को अपवित्र करती है। सरकार को यह जनादेश लोकतंत्र की रक्षा के लिए मिला है। नए भारत में विकास के नए अध्याय लिखे जाएं। हर क्षेत्र में सबका विकास हो।’’

दिल्ली में सरकार के विकास के काम बताए
कोविंद ने कहा कि दिल्ली में रहने वाले 40 लाख से ज्यादा लोग बरसों से इस अपेक्षा में जी रहे थे कि एक दिन उन्हें अपने घर का मालिकाना हक और गरिमापूर्ण जीवन जीने का अधिकार मिलेगा। दिल्ली की 1700 से अधिक कॉलोनियों में रहने वाले लोगों की इस अपेक्षा को भी सरकार ने पूरा किया है।

अनुच्छेद 370
राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने कहा था कि अनुच्छेद 370 हटाने से जम्मू-कश्मीर के लोग विकास की मुख्यधारा से जुड़ेंगे। वहां के हर व्यक्ति को मूल अधिकार मिलेंगे। पिछले साल जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव कराए गए। 24 हजार से ज्यादा घर बनाए गए। करतारपुर कॉरिडोर खोलना सौभाग्य की बात है। श्रद्धालु गुरु नानक देव के 500वें प्रकाश पर्व पर लोग करतारपुर जा पाए।’’

सरकार की योजनाएं-काम बताए
कोविंद के मुताबिक, ‘‘आयुष्मान योजना के तहत 27 हजार वेलनेस सेंटर खुल चुके हैं। गरीबों को इलाज का फायदा मिला है। 75 हजार मेडिकल कॉलेज बनाने के लिए मंजूरी दी गई। मिशन इंद्रधनुष का लाभ दलितों और आदिवासी क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। बच्चों के साथ यौन शोषण करने वालों को फांसी तक का प्रावधान किया है। 58 और कानूनों को समाप्त करने के साथ ही अब कानूनों को खत्म करने की संख्या 1500 तक पहुंच गई है। देश में 121 करोड़ लोगों के पास आधार कार्ड है। 60 लाख लोगों ने रूपे कार्ड का इस्तेमाल किया। लीकेज रुकने की वजह से सरकार ने 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए गलत हाथों में जाने से बचाया।’’

‘उज्ज्वल भविष्य के लिए नींव बने’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2020 का यह प्रथम सत्र है। दशक का भी यह प्रथम सत्र है। हम सबकी कोशिश हो कि इस सत्र में दशक के उज्ज्वल भविष्य के लिए मजबूत नींव बनाई जाए। यह सत्र मूलत: आर्थिक नीतियों पर केंद्रित होगा। वैश्विक परिस्थितियों में भारत के सभी लोगों को लाभ मिले, इस पर हमारा बल रहेगा। मैं चाहता हूं कि इस सत्र में लोगों के सशक्तिकरण पर सार्थक चर्चा हो।

कांग्रेस का प्रदर्शन

बजट सत्र के पहले कांग्रेस ने संसद परिसर में प्रदर्शन किया। इसमें पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत कई नेता शामिल हुए। विरोध के दौरान ‘भारत बचाओ’, ‘संविधान बचाओ’ और ‘सीएए नहीं चाहिए’ के नारे लगाए।

Leave a Reply