cm-bhupesh-speaks-with-cg-police
Chhattisgarh

कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों को अब मिला सरकार का सहारा, आप भी बन सकते हैं किसी बच्चे के मददगार

कोरोना वायरस ने बहुत से परिवारों से उनकी खुशियां हमेशा के लिए छीन ली हैं, जिन परिवार में कल तक किलकारियां गूंजा करतीं थीं, आज उसी घर में बच्चे गुमसुम नजर आ रहे हैं। ऐसे ही बच्चों के जीवन में फिर से खुशियां लाने की हरसंभव कोशिश में सरकार जुटी है। जिन बच्चों ने कोरोना के चलते अपने माता-पिता को खोया है, उनकी चिंता सरकार को है और अब ऐसे बच्चों और परिवार की पहचान कर उन्हें हरसंभव मदद पहुंचाने की तरफ बाल संरक्षण विभाग ने कदम बढ़ाया गया है। इसके अलावा ऐसे बच्चे, जिनके माता-पिता कोरोना को मात देने के लिए अस्पताल में भर्ती हैं या होम आइसोलेशन में हैं और बच्चे की देखभाल करने वाला परिवार में कोई नहीं है, उन बच्चों के संरक्षण पर भी पूरा ध्यान दिया जाना है। कोरोना काल में जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों या किसी एक को खो दिया है, उनके संबंध में सूचना कोई भी व्यक्ति चाइल्ड लाइन के हेल्पलाइन नंबर-1098 या कार्यालय नम्बर 07856202440, जिला बाल संरक्षण समितिध्इकाई 7587120168, 9993787731,78696696902, 9340479477, बालक कल्याण समिति 9406003094, 6263143893, 9753707077 नम्बरों पर संपर्क कर सूचना की जानकारी दे सकेगें।

हेल्पलाइन पर दें ऐसे बच्चों की सूचना- कोरोना वायरस संक्रमण काल में जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों या किसी एक को खो दिया है, उनके सम्बन्ध में सूचना कोई भी व्यक्ति चाइल्ड लाइन के हेल्पलाइन नम्बर-1098 या महिला हेल्पलाइन-181 पर दे सकता है। ऐसे बच्चों को चाइल्ड लाइन 24 घंटे के अन्दर बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत करेगी। ऐसे बच्चों की सूचना राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के हेल्पलाइन- 011-23478250 पर भी दी जा सकती है।

Advertisement
Rahul Gandhi Ji Birthday 19 June

Leave a Reply