Chhattisgarh

स्कूल ड्रेस का ऑर्डर दूसरे प्रदेश के कारीगरों को, ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने पंद्रह दिन में मांगी जांच रिपोर्ट

ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने कहा कि स्कूली ड्रेस की सिलाई में अनियमितता बरतने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि गणवेश निर्माण के काम में किसी भी प्रकार की अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

ग्रामोद्योग मंत्री ने हाथकरघा संघ की विभागीय समीक्षा बैठक के दौरान यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था के सुदृढ़ीकरण की दिशा में ग्रामोद्योग विभाग ने स्थानीय लोगों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराया है। मंत्री ने प्रबंध संचालक राजेश सिंह राणा को गणवेश निर्माण में अनियमितता जांच और परीक्षण कराकर 15 दिन रिपोर्ट मांगा है।

राज्य हाथकरघा विकास एवं विपणन सहकारी संघ को स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से 62 लाख स्कूल ड्रेस सिलाई का काम मिला है। लेकिन संघ द्वारा स्थानीय कारीगरों से काम के बदले पैसे मांगने और दूसरे प्रदेश के कारीगरों को काम देने की शिकायत हुई थी। जबकि काेरोना संक्रमण के कारण अधिकांश कारीगर खाली बैठे थे लेकिन जब काम आया तो पैसे मांगे जा रहे थे। लंबे समय से काम बंद होने के कारण वे पैसे देने में असमर्थ थे जिसके बाद दूसरे राज्य के कारीगरों की काम देने का मामला सामने आया था।

45 हजार लोगों को दिया रोजगार

प्रबंध संचालक ने बताया कि प्रदेश के 234 बुनकर सहकारी समितियों के माध्यम से हाथकरघा वस्त्र उत्पादन तथा 486 महिला स्व-सहायता समूहों को गणवेश सिलाई में संलग्न कर 45000 लोगों को नियमित रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है।

Leave a Reply