अटकले समाप्त, ओ. पी. चौधरी हुए भाजपा में शामिल

रायपुर (एजेंसी) | भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा देने के बाद ओम प्रकाश चौधरी ने भाजपा की सदस्यता ले ही ली। मंगलवार को राष्ट्रीय मुख्यालय में अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने उन्हें सदस्यता दिलाई।

इस अवसर पर डॉ. रमन सिंह ने कहा, “ओमप्रकाश चौधरी जैसा युवा आईएएस कॅरियर दांव पर लगा संघर्ष का रास्ता चुन रहा है, ये भाजपा की ताकत है। यह बहुत बड़ा निर्णय है, मैं इसका स्वागत करता हूं। चौधरी चाहते तो 30 साल नौकरशाह के रूप में बेहतर भविष्य बनाते। पर उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से कहा मैं जीवन पार्टी को समर्पित करना चाहता हूं। छत्तीसगढ़ में हम उनका बेहतर उपयोग करेंगे।”

चौधरी ने शाह के साथ फोटो और एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर अपलोड किया।

कर्तव्य पथ पर जो भी मिला,
यह भी सही, वह भी सही..
वरदान नहीं मागूँगा,
हो कुछ, पर हार नहीं मानूँगा…




अटल जी के इन शब्दों को दिल में रखते हुए, मैंने माननीय श्री अमित शाह जी और माननीय डॉ रमन सिंह जी की उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता दिल्ली में ग्रहण की।

वीडियो छत्तीसगढ़ी में है। प्रस्तुत है चौधरी के वीडियो में जैसा उन्होंने कहा- “मोर ये निर्णय के केंद्र में केवल अउ केवल आप मन ह…..”

में आप मन ला बताना चाहत हों कि आईएस ल छोड़ के राजनीति में आय के जो मोर निर्णय हे आेला मे अच्छी तरह से सोंच समझ के ले हों। आठ साल के उमर में जब बाबूजी गुजर गे रिहिस त मां हमन तीन झन लइका मन ल स्कूल भेजे, आे स्कूल ह खपरा के छत वाला रिसिस, आेमे पानी चूहे। आे स्कूल के नीचे भी जब पढ़ई करन त अपन क्षेत्र के मनसे मन के बारे म कुछ -कुछ सपना देखंव। आईएएस के नौकरी म आए के बाद मनसे मन बर जो बेहतर में कर सकत रेहेवं आेला करे के पूरा परयास करेंव। लेकिन अब कलेक्टरशिप मोर समाप्त होत रिहिस हे अउ मंत्रालय के नाैकरी चालू होने वाला रिहिस हे। अइसने स्थिति में बचपन से जो में अपन के क्षेत्र के मनसे मन बर राजनीति ह एकठन चुनौती आय, अऊ ओ ह अवसर भी हावय …
जो सपना देखेंव आेला पूरा करेबर एकठन बंधन टइप के मोला महसूस होय ल लगे रिहिस हे। एकठन लोकतांत्रिक व्यवस्था में चाहे राजनीति के कतको भी आलोचना किए जाए लेकिन आेकर व्यापक प्रभाव अउ महत्व ल स्वीकार करना ही परही। अगर आप मन मोर नजरिया से देखियव तो राजनीति हर एकठौ चुनाैती के संगे संग एकठौ अवसर भी हे जेकर माध्यम से सैकड़ो प्रशासक खड़े किए जा सकत हे अउ समाज के निचले पायदान में रहने वाला गरीब जो मनसे हे आेमन के सपना ला साकार किए जा सकत हे। मे अब सीधा आपमन के संग म जुड़के आपमन के द्वारा दिए गए प्यार आैर विश्वास ल एकठौ नया आयाम देना चाहत हों। मे आप सबमन ल बताना चाहत हों कि में जो निर्णय ले हों आेकर केन्द्र में आपमन ही हो। में पहली जइसे ही पूरा प्रयास करत रहवं, अउ मोला पूरा भरोसा हे कि आपमन भी मोर उपर प्यार अउ आर्शीवाद ल पहली जइसे ही बनाय रखियव। अप सब मन के आेपी।



Leave a Reply