Chhattisgarh Education & Jobs

ऑनलाइन परीक्षा प्राइवेट छात्रों के ईमेल पर भेजे जाएंगे प्रश्न पत्र, लेकिन यूनिवर्सिटी और कॉलेजों के पास उनकी आईडी ही नहीं

रायपुर : कोरोना काल में परीक्षा केंद्रों में परीक्षा का आयोजन मुश्किल है। इसे लेकर उच्च शिक्षा विभाग ने यह तय किया कि प्राइवेट (स्वाध्यायी) छात्रों की भी घर बैठे परीक्षा आयोजित की जाएगी। छात्रों के ईमेल पर प्रश्नपत्र भेजे जाएंगे। अब मामला यहीं फंस गया है। क्योंकि, रविवि या अन्य राजकीय विवि के पास छात्रों का ई-मेल आईडी ही नहीं है। इसलिए रविवि ने अब काॅलेजों को पत्र भेजकर प्राइवेट छात्रों की जानकारी मांगी है।

इसके लिए विवि की ओर से काॅलेजों को पत्र भेजा गया है। इसके तहत काॅलेजों से छात्रों के ईमेल आईडी व व्हाट्सएप नंबर की जानकारी 10 अगस्त तक मांगी गई है। प्राइवेट छात्रों का डाटा काॅलेजों के पास भी नहीं है। इसलिए प्राइवेट छात्रों की जानकारी जुटाने में काफी मशक्कत हो रही है। कुछ प्राइवेट काॅलेज के अधिकारियों ने बताया कि वार्षिक परीक्षा के लिए आवेदन ऑनलाइन भरे जाते हैं। रविवि की देखरेख में आवेदन लिए जाते हैं। इसके बाद भी काॅलेजों से जानकारी मांगी जा रही है। जबकि प्राइवेट छात्रों के लिए काॅलेज सिर्फ एक सेंटर है। इसलिए जानकारी जुटाने में परेशानी आएगी।

मोबाइल नंबर अब भी वैध है या नहीं इसमें भी समस्या : 

शिक्षाविदों ने बताया कि पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय हो या फिर कोई अन्य राजकीय विवि। वार्षिक परीक्षा के आवेदन के समय छात्रों से विभिन्न तरह जानकारी जैसे, मोबाइल नंबर या ईमेल की जानकारी ली जाती है। लेकिन अब वे ई-मेल या फोन नंबर एक्टिव हैं या नहीं ये भी जानना परेशानी का सबब है। क्योंकि बड़ी संख्या में ऐसे छात्र रहते हैं जो आवेदन के दौरान जिस मोबाइल नंबर का उपयोग करते हैं बाद में वह बदल जाता है। या बंद हो जाता है। कई छात्र ईमेल बनाते हैं लेकिन इसका उपयोग नहीं करते या पासवर्ड भूल जाते हैं। प्राइवेट छात्रों के साथ यह समस्या ज्यादा है। इसलिए नए सिरे से ईमेल व व्हाट्सएप नंबर मंगाए जा रहे हैं ताकि उसमें प्रश्नपत्र भेजा जा सके। रविवि की वार्षिक परीक्षा मार्च में शुरू हुई। लेकिन कोरोना संक्रमण की वजह से परीक्षाएं स्थगित की गईं। अब नए फार्मूले से परीक्षा होगी। वार्षिक परीक्षा में इस बार करीब 70 हजार से अधिक छात्र हैं।

Leave a Reply