India

निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज कुरियन जोसेफ का सवाल- क्या दोषियों को फांसी पर लटकाने से अपराध रुकेंगे?

नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस कुरियन जोसेफ ने निर्भया के दोषियों की फांसी की सजा पर सवाल खड़े किए हैं। जस्टिस कुरियन ने बुधवार को पूछा कि इन दोषियों को फांसी पर लटकाने से क्या इस तरह के अपराध कम हो जाएंगे? उन्होंने कहा कि ऐस दोषियों को हमेशा के लिए जेल भेज देना चाहिए।

इस तरह से समाज को बताया जा सकता है कि अगर कोई भी इस तरह के अपराधों में लिप्त होता है तो वह हमेशा के लिए सलाखों के पीछे होगा। उन्होंने कहा कि फांसी दे देने पर लोग अपराध को भूल जाएंगे। जस्टिस कुरियन ने बचन सिंह मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कहा था कि फांसी की सजा तभी दी जाए, जब मामला काफी दुर्लभतम हो और सजा देने का कोई दूसरा विकल्प न बचा हो।

20 मार्च को दी जाएगी फांसी

तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्भया के गुनहगारों को फांसी देने की तैयारी शुरू कर दी है। उत्तर प्रदेश के मेरठ निवासी पवन जल्लाद 17 मार्च को तिहाड़ जेल पहुंचे। फांसी से एक दिन पहले 19 मार्च को डमी को फांसी देकर टेस्टिंग की जाएगी। नए डेथ वॉरंट के मुताबिक, निर्भया के सभी दोषियों को 20 मार्च को सुबह 5.30 बजे फांसी दी जाएगी।

जेल अधिकारियों ने दोषियों के परिवार को इसकी सूचना दे दी है। मुकेश, पवन और विनय अपने परिजन से मिल चुके हैं। अक्षय के परिवार से अभी तक कोई सदस्य मिलने नहीं आया है। हालांकि, जेल अधिकारियों ने उसके परिवार को चिट्‌ठी लिखकर कहा है कि वे अगर चाहें तो आखिरी बार उससे मिल सकते हैं।

Leave a Reply