नक्सलियों की नई चाल, जवानो को एम्बुश में फसाने के लिए पेड़ पर बांध रहे है लकड़ी की बन्दूक थमाया हुआ पुतला, नीचे लगा होता है बम

 

दोरनापाल (एजेंसी) | दोरनापाल-जगरगुंडा के जंगलो में नक्सली सुरक्षाबल के जवानो को एम्बुश में फसाने का नया पैतरा अपना रहे है। हालांकि सुरक्षा बलों ने नक्सलियों की छद्म युद्ध लड़ने की साजिश विफल कर दी है। जवानों को एंबुश में फंसाने के लिए नक्सली लकड़ी की एसएलआर थमाकर पेड़ के सहारे पुतला खड़ा कर देते थे। पुतले के नीचे बम भी लगा होता था जो फोर्स के पास जाने पर फटता था।




गुरुवार को दोरनापाल-जगरगुंडा मार्ग पर सीआरपीएफ की 150वीं बटालियन के जवानों ने नक्सलियों की इस साजिश को विफल कर दिया। इस मार्ग पर नक्सलियों ने चिंतागुफा इलाके के जंगल में 50-50 मीटर की दूरी पर लकड़ी की बंदूक थामे 3 पुतले लगा रखे थे। इनके नीचे बम भी प्लांट किए गए थे।

जवानों ने जब दूर से इन पुतलों को देखा तो उन्हें नक्सलियों के बंदूक लेकर खड़े होने का भ्रम हुआ। लेकिन थोड़ी ही देर में जवान सब समझ गए और बॉम्ब डिस्पोजल स्क्वाड (बीडीएस) को बुला लिया, एक पुतले के नीचे से 7 किलो वजनी बम बरामद कर निष्क्रिय कर दिया गया।



Leave a Reply