#Temple लक्ष्मण मंदिर सिरपुर, महासमुंद

सिरपुर में लक्ष्मण मंदिर भारत में पहली ईंट से निर्मित मंदिर है। सिरपुर को श्रीपुर के नाम से भी जाना जाता है इसका अर्थ है “शुभता का शहर”, “बहुतायत”, “लक्ष्मी”। यह छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में एक गांव है और यह महानदी नदी के तट पर राजधानी रायपुर से 78 किमी दूर और महासामंद शहर से 35 किमी दूर है। सन 1872 में अलेक्जेंडर कनिंघम द्वारा ( जो कि एक औपनिवेशिक ब्रिटिश भारत में अधिकारी थे) सिरपुर में लक्ष्मण मंदिर पर उनकी रिपोर्ट द्वारा अंतर्राष्ट्रीय ध्यान में लाई गई। भारत में यह एकमात्र लक्षमण मंदिर है।

6 वीं शताब्दी के दौरान  सरभपुरियस और पाण्डुवंसिस के शासन काल में सिरपुर दक्षिण कोशल राज्य का केंद्र था। सिरपुर में और आसपास के पुरातात्विक अवशेष मंदिरों और मठों के रूप में हिन्दू और बौद्ध स्मारकों दोनों के हैं। उनमें से, सबसे अच्छी तरह से संरक्षित शानदार मंदिर, वसाता द्वारा निर्मित पूर्व मुखी लक्ष्मण मंदिर है, जिसे 7 वीं शताब्दी में महाशिवगुप्त बालारजुना की मां वसाता ने इस मंदिर का निर्मण कराया था।

भगवान विष्णु को समर्पित, यह मंदिर पूरी तरह ईंट का बना हुआ है। जो की एक नहुत बड़े मंच पर बना हुआ है जिसमे उत्तर और दक्षिण दिशा की और ऊपर पहुंचने के लिए सीढिया भी बानी हुई है। मंदिर में एक गर्भगृह, अंतराल और मंडप शामिल हैं। मंडप जो अब नष्ट हो चूका है, उसे मूल रूप से पंक्तियों में पत्थर के खंभे द्वारा संरक्षित रखा गया था। उत्कृष्ट रूप से नक्काशीदार दरवाजाफलक, शेषसायी विष्णु के अपने अवतारों के साथदर्शाए गए हैं। यह मंदिर प्राचीन भारत के ईंट मंदिरों के सर्वोत्तम उदाहरणों में से एक है।

लक्ष्मण मंदिर के बारे में

गर्भगृह के प्रवेश द्वार के दरवाज़े के ऊपर, नक्काशियों से शेष नाग पर लेते हुए भगवान् विष्णु (अनंतसयायन विष्णु) और भागवत पुराण से भगवान् श्री कृष्ण के दृश्यों दिखाया गया है। द्वार के आसपास नक्काशी किये गए हैं जो विष्णु के दस अवतार को दैनिक जीवन और प्रणयशक्ति और मिथुना के विभिन्न चरणों में जोड़े के साथ दिखाते हैं।

गर्भगृह और मंडप को छोड़कर, शेष मंदिर का भाग बहुत अधिक खंडहर हो गया है। गर्भगृह में एक पत्थर का फ्रेम बना हुआ है जो बाहर की तरफ 22×22 वर्ग फ़ीट चौकोर है और अंदर की तरफ 10×10 वर्ग फ़ीट है। गर्भगृह की दीवारें सामान्य हिंदू मंदिरों की तरह ही हैं। गर्भगृह से मूर्ति की मूल प्रतिमा गायब है। साइट मैनेजमेंट ने आगंतुकों के लिए खंडहर के ढेर में पाए जाने वाले कई छोटी मूर्तियां स्थापित की हैं।

प्रवेश शुल्क:

भारतीयों के लिए: भारत के नागरिक और सार्क देशो (बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, पाकिस्तान, मालदीव और अफगानिस्तान) और बिम्सटेक देशों (बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, थाईलैंड और म्यांमार) के आगंतुकों – 15रु  प्रति व्यक्ति।
दूसरों के लिए: 200 / -रु प्रति व्यक्ति।

लक्ष्मण मंदिर सिरपुर तक कैसे पहुंचे

सड़क मार्ग से: सिरपुर शहर छत्तीसगढ़ के महासामुंड जिले में है। राजधानी रायपुर से यह लगभग 78 किलोमीटर दूर है और महासामुंद मुख्य शहर से लगभग 35 किमी दूर है। सिटी बस और टैक्सी उपलब्ध हैं।

ट्रेन से: निकटतम रेलवे स्टेशन रायपुर है, रायपुर रेलवे स्टेशन सिटी बस और ऑटो से उपलब्ध हैं।

उड़ान से: निकटतम हवाई अड्डा स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डा, रायपुर है जो सभी घरेलू उड़ानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

Leave a Reply