Chhattisgarh Gondwana Special

हौसला: गांव से बहिष्कार होने के बाद भी दिव्यांग बुजुर्ग ने हार नहीं मानी, चुनाव लड़े और जीते भी

कोंडागांव | छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले के चिचाड़ी गांव के दिव्यांग सरपंच देवीराम कोर्राम ने गांव के दबंगों के विरोध और उनके दबाव में गांव से बहिष्कृत होने के बाद भी सरपंच का चुनाव लड़ा और जीता। सरपंच देवी राम कोर्राम ने 117 मतों से जीत हासिल की। गांव में 564 मतदाता हैं। अब यह मामला मीडिया में आया है।

आरोप है कि चिचोड़ी में करीब 6 महीने पहले गांव के प्रमुख लोगों ने चौपाल में एक बैठक करके दिव्यांग देवीराम को बुलाया। यह बैठक उन्हें चुनाव न लड़ने की धमकी देने के लिए बुलाई गई थी। लेकिन देवीराम इसमें नहीं पहुंचे। इससे नाराज होकर दंबगों ने उन्हें गांव से बहिष्कृत कर दिया। हुक्का पानी बंद कर दिया गया। गांव में मुनादी करवाकर चेतावनी दी गई को देवीराम से कोई संपर्क नहीं रखेगा। उसके घर पर जाने पर 7051 रुपए का जुर्माना देना होगा।

हार नहीं मानी

इस मुश्किल घड़ी में देवीराम और उनके परिवार ने हार नहीं मानी। उन्होंने दो प्रस्तावक और समर्थक के माध्यम से नामांकन किया और फिर से सरपंच पद के लिए चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। मामला कोंडागांव जिला के बडेराजपुर जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम पंचायत चिचाड़ी का है। जीत हासिल करने के लिए उसे चार प्रत्याशियों को हराना था।

न किमी दूर से लाता था पानी

बहिष्कार के दौरान देवीराम को तीन किलोमीटर दूर लिहागांव पंचायत से पानी लाना पड़ता था। क्योंकि गांव के किसी कुएं या हैंडपंप से पानी लेने की मनाही थी। घर का जरूरी सामान भी वह दूसरे गांव जाकर लेता था। देवीराम ने बताया कि किसी कारण से गांव वालों को शौचालय का पैसा मिलने में देर हो गई। इसी का बहाना बनाकर गांव के कुछ लोगों ने खुद को मुखिया बताते हुए बैठक बुलाई जिसमें वह नहीं जा पाया। उसके बाद उसका हुक्का पानी बंद कर दिया गया। देवीराम ने कहा कि वह पिछले चुनाव में भी ग्राम पंचायत चिचाडी से सरपंच चुना गया था। वह अपने कार्यकाल में किसी प्रकार के विवादों में नहीं रहा।

उधर, गांव के बुजुर्ग मुखिया लच्छू राम कश्यप ने बताया कि सरपंच देवीराम कोर्राम ने शौचालय निर्माण की राशि देने में देरी की। पहले यह शर्त रखी गई थी कि तीन दिन के अंदर ग्रामीणों को शौचालय बनवाने का पैसा नहीं मिला तो उसका बहिष्कार किया जाएगा। देवीराम तीन दिन तक पैसा नहीं दे पाया, इसके बाद उसका बहिष्कार कर दिया गया।

Leave a Reply