भाजपा को घोषणा पत्र जारी करने में लगा डर छूटे पसीने: किरणमयी नायक

रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य किरणमयी नायक ने कहा है कि 2013 कांग्रेस का घोषणा पत्र की नकल कर चोरी करके वाली भाजपा ने चूंकि अब तक कभी भी घोषणा पत्र के लिए जमीनी तैयारी नहीं किया था। हर चुनाव में कांग्रेस के घोषणा पत्र जारी होने के बाद उसमें फेरबदल कर अपना संकल्प (घोषणा) पत्र जारी करते रहे हैं। वर्ष 2013 में जब कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर 2000 रू. प्रति क्विंटल धान खरीदी का मूल्य तय किया था, तब दूसरे दिन ही भाजपा ने उसकी नकल करते हुए 2100 रुपए पर धान खरीदी की दर को घोषणा कर दिया था।




नवा छत्तीसगढ़ की बात करने वाली भाजपा के पास छत्तीसगढ़ के लिये कोई योजना नहीं इसलिये घोषणा पत्र जारी करने में देरी कर रहे है। कांग्रेस की घोषण पत्र जारी होने के बाद नकल कर भाजपा घोषणा पत्र जारी करेगे। भाजपा की अनुभवहीनता के कारण ही 15 साल से छत्तीसगढ़ को नुकसान हो रहा है।

कांग्रेस के घोषणा पत्र चोरी करने का प्लान फेल होने के कारण दहशत में भाजपा: किरणमयी नायक

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य किरणमयी नायक ने कहा है कि भाजपा की इस चोरी को अब छत्तीसगढ़ की जनता अच्छे से समझ चुकी है और त्राहि-त्राहि कर रही है कि अपने द्वारा जारी घोषणा पत्र को भी भाजपा ने शत-प्रतिशत पूरा नहीं किया। आज तक किसानों को 2100 रू. में धान खरीदी की कीमत नहीं मिला।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य किरणमयी नायक ने कहा है कि आज बड़े जोर-शोर से भाजपा ने घोषणा किया था कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के द्वारा 4 नवंबर को घोषणा पत्र जारी किया जाएगा। लेकिन इसकी तैयारी भी वह नहीं कर पाए थे और कांग्रेस का घोषणा पत्र की नकल मारने का मौका भी नहीं मिला, तब मुंह से घोषणा पत्र जारी करते। भाजपा वादाखिलाफी के डर से घोषणा पत्र जारी करने से बच रही, बहाना कर रही है। बच्चे की तरह व्यवहार कर रहे है परीक्षा में फेल होने के डर से परीक्षा की तारीख बढ़ाने की बात करते है

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य किरणमयी नायक ने कहा है कि इसलिए छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता के द्वारा पूर्णतः नकार दिए गए भाजपा के नेताओं ने बहाना बनाया है कि अब दीवाली के बाद घोषणा पत्र जारी करेंगे क्योंकि राष्ट्रीय अध्यक्ष के पास समय नहीं है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के सदस्य किरणमयी नायक ने कहा है कि यदि 15 साल का विकास है कि अपने प्रथम चरण के चुनाव के पहले घोषणा पत्र जारी करने का नैतिक साहस भी भाजपा के पास नहीं रहा। जब राष्ट्रीय अध्यक्ष तीन जगह दौरा कर सकते हैं, तब घोषणा पर जारी क्यों नहीं कर सकती? इसका जवाब छत्तीसगढ़ की जनता को देना होगा। छत्तीसगढ़ की जनता को अब झूठे वादों से बहलाना, फुसलाना असंभव है, यह बात भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को समझ आ चुका है, 15 साल में भाजपा के नेताओं ने केवल कमीशनखोरी किया किया है इसलिए जनता के विकास के लिये ठोस योजनायें बनाना नहीं आता तभी तो घोषणा पत्र न बना सके और न ही जारी करने का कोई नैतिक साहस है।



Leave a Reply