Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के हर जिला मुख्यालय पर अजीत जोगी की प्रतिमा लगाने की कोशिश करेगी जकांछ, एक महीने तक जोगी पर ही केंद्रित कार्यक्रम

छत्तीसगढ़ विधानसभा में तीसरी सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जोगी) को अब अजीत जोगी के नाम का ही सहारा है। आज दिनभर चली पार्टी कोर कमेटी की बैठक के फैसलों से तो यही दिख रहा है। 2023 विधानसभा चुनाव में उतरने से पहले पार्टी अजीत जोगी के नाम के सहारे छत्तीसगढ़िया भावना वाले लोगों को लामबंद करने की रणनीति बनाई है।

जकांछ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने बताया, दिवंगत अजीत जोगी के जन्मदिन 29 अप्रेल से लेकर उनकी पहली पुण्यतिथी 29 मई तक उनसे जुड़े अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसके अलावा 29 अप्रेल को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में उनकी प्रतिमा लगाई जाएगी। अमित जोगी ने कहा, हमारी पार्टी के लोगों ने बिरगांव में अजीत जाेगी और छत्तीसगढ़ महतारी की मुर्ति लगाने की अनुमति सरकार से मांगी थी।

अमित जोगी ने कहा, जैसे कौरवों ने पाण्डवों को सूई की नोंक के बराबर भी जमीन नहीं दी थी, वैसे ही यह सरकार भी बिरगांव में, भिलाई में, दुर्ग में, जामुल में प्रतिमा लगाने की अनुमति नहीं दे रही है। उन्होंने कहा, प्रतिमा बनकर तैयार है, लेकिन अनुमति नहीं मिल रही है। उन्होंने कहा, 29 अप्रेल को उनकी पार्टी सभी जिला मुख्यालयों पर अजीत जोगी और छत्तीसगढ़ महतारी की प्रतिमा लगाएगी। उन्हें नहीं लगता कि इसके हमें किसी की अनुमति की आवश्यकता होगी।

अमित जोगी ने कहा, संघर्ष हमें विरासत में मिला हैं। हम तब तक संघर्ष करेंगे जब तक हम छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ियों की सरकार नहीं बना लेते। उन्होंने कहा, हमारी पार्टी की सबसे बड़ी ताकत हैं जोगी जी का नाम है। उनके नाम के सहारे हम गांव-गांव से नए नेतृत्वकर्ता तैयार करेंगे। जकांछ के प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक ने बताया, बैठक में कोर कमेटी के सदस्यों और पदाधिकारियों ने अपनी बात रखी। उन्होंने 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत के लिए अभी से जी-जान लगा देने का संकल्प लिया।

नगरीय निकाय चुनावों पर निशाना

बैठक में भिलाई, बिरगांव नगर निगमों के साथ जामुल नगरीय निकाय चुनाव में भी दमखम के साथ उतरने का फैसला हुआ। अमित जोगी ने कहा, नगरीय निकाय चुनाव हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। इसके लिए हमें अभी से कमर कस लेना चाहिए। इन चुनावों के बेहतर परिणाम से प्रदेश में एक माहौल बनेगा। इसमें जीत का फायदा 2023 के विधानसभा चुनाव में मिलेगा।

दूसरे प्रदेशों के क्षेत्रीय दलों से संबंध बढ़ाने की कोशिश

अमित जोगी ने कहा, हम छत्तीसगढ़ में देश के दूसरे क्षेत्रीय दलों से मिलकर काम करेंगे। उन्होंने विभिन्न राज्यों के क्षेत्रीय दलों के प्रमुखों से बातचीत की है। इसमें बिहार के तेजस्वी यादव, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी प्रमुख हैं।

Leave a Reply