Chhattisgarh

नक्सलियों के कैंप में पहुंची पुलिस, किलेपाल मुंडानार के जंगलों में हुई मुठभेड़, 12 संदिग्ध गिरफ्तार और कैंप से भारी मात्रा में सामान बरामद

जगदलपुर | छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा और बस्तर सीमा पर बुधवार शाम पुलिस ने नक्सलियों के कैंप पर धावा बोल दिया। अचानक अपने को घिरा देख नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाब में जवानों ने भी कार्रवाई की। करीब आधा घंटे चली मुठभेड़ के बाद नक्सली मौके से भाग निकले। इस दौरान आईईडी विस्फोट की चपेट में आकर डीआरजी (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व फोर्स) का एक जवान घायल हाे गया। वहीं जवानों ने 12 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। इनके नक्सली होने की आशंका है।

नक्सलियों की सूचना पर सर्चिंग के दौरान पहुंचे जवान कैंप तक

जानकारी के मुताबिक,  कटेकल्याण एरिया कमेटी के नक्सलियों के किलेपाल मुंडानार के जंगलों में मौजूदगी की खबरों के बीच पुलिस को मिली थी। इस पर  जवान ने बुधवार को इलाके की घेराबंदी कर सर्चिंग शुरू की। शाम करीब चार बजे के जवान नक्सलियों के कैंप तक पहुंच गए। जिस स्थान पर नक्सलियों ने कैंप बनाया था वह बस्तर और दंतेवाड़ा की सरहद पर पड़ता है। जैसे ही जवान कैंप के पास पहुंचे तो नक्सलियों ने गोलाबारी शुरू कर दी। करीब आधे घंटे की मुठभेड़ के बाद नक्सली भाग खड़े हुए।

इसके बाद जवानों ने कैंप को ध्वस्त कर दिया और मौके से करीब 12 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस का कहना है कि ये सभी संदिग्ध हैं और इनके नक्सली होने की आंशका है। जवानों ने यहां से भारी मात्रा में सामग्री भी बरामद की है। अफसरों के अनुसार सहायक आरक्षक योगेश पांडेय नक्सलियों की लगाई आईईडी की चपेट में आ गया। घटना में उसे चोट पहुंची है। ब्लास्ट के बाद उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाया गया। जहां पर उसका उपचार जारी है।

बीजापुर 4 गाड़ियों को नक्सलियों ने फूंका

बीजापुर. सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहनों को नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया है। कुटरू थाना से 10 किमी दूर पीएमजीएसवाई के तहत केतुलनार से मंडीमरका तक 5 किमीर मिट्टी मुरुम सड़क का काम चल रहा था। बुधवार दोपहर 12 से 1 बजे के बीच कुछ नक्सली निर्माण स्थल में आ धमके और काम बंद करने को कहा। नक्सली काम में लगे मजदूरों को वहां से जाने कहा और वहां खड़ी 6 गाड़ियों में एक जेसीबी, एक ग्रेडर, एक ट्रैक्टर और एक टैंकर को आग के हवाले कर दिया।

Leave a Reply