#अच्छीपहल वीआईपी रोड स्थित राम मंदिर के अन्न प्रसादम् केंद्र में सिर्फ 20 रु. में मिलता है भोजन - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

#अच्छीपहल वीआईपी रोड स्थित राम मंदिर के अन्न प्रसादम् केंद्र में सिर्फ 20 रु. में मिलता है भोजन

रायपुर (एजेंसी) | रायपुर महंगाई के इस दौर में जहां 20 रुपए में नाश्ता भी मिल पाना मुश्किल है। वहाँ राजधानी में एक ऐसी जगह भी है जिसमे 20 रूपये में ही शुद्ध और सात्विक भोजन मिल रहा है। राजधानी के वीआईपी रोड स्थित श्रीराम मंदिर में अन्न प्रसादम् केंद्र यानी भोजनालय की स्थापना की गई है। 20 रूपये प्रति थाली की दर से मिल रहे इस भोजन में  बगैर लहसुन-प्याज की एक सब्जी, रोटी, दाल और चावल परोसी जाती है। किसी रेस्टोरेंट की तरह ही यहां तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं। यहां पहुंचने वाले ज्यादातर लोग नौकरीपेशा हैं।

राम मंदिर, रायपुर के बगल में स्थित है- अन्न प्रसादम (भोजन प्रसाद), यहाँ सुबह 10:30 से लेकर दोपहर 2:00 तक भोजन की उत्तम व्यस्था रहती है। भोजन में रोटी, दाल, सब्जी, चावल और आचार मिलता है।

भोजन इतना स्वादिष्ट की आत्मा तृप्त हो जाए और इस भर पेट भोजन के बदले दक्षिणा के तौर पर मात्र 20 रूपए मंदिर के ट्रस्ट द्वारा लिया जाता है। भोजन के लिए डाइनिंग हाल के साथ-साथ वाटर कूलर, वाश बेसिन, वाश रूम की भी सुविधा है।




मंदिर परिसर में ही एक भवन तैयार किया गया है। इसमें एक वक्त में 4 से 5 सौ लोग एक साथ बैठकर भोजन कर सकते हैं। यहां हर दिन एक समय पर 5 से 7 सौ लोग भोजन करते हैं।

यानी दोनों टाइम में लगभग 15 सौ लोगों को यहां सस्ता भोजन परोसा जा रहा है। भोजन बनाने के लिए बाहर से रसोइए बुलवाए गए हैं। रसोई में रोटी मशीन लगी हुई है, जो चंद मिनट में सैकड़ों रोटियां निकालती है। भोजनालय सुबह 10.30 बजे से दोपहर 2 बजे तक और शाम 7.30 बजे से रात 10 बजे तक खुला रहता है।

केवल धर्मार्थ ही है उद्देश्य  

वीआईपी रोड के श्रीराम मंदिर में चल रहा भोजनालय मंदिर समिति का नो प्रॉफिट प्रोजेक्ट है। इससे मंदिर समिति को किसी तरह का मुनाफा नहीं है। मंदिर समिति के लोगों का कहना है कि किसी को सस्ते दर पर भोजन करवाना एक धर्मार्थ का काम है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए मंदिर समिति ने भोजनालय की शुरुआत की है।

जन्मदिन पर औरों को करवा सकते हैं भोजन 

मंदिर समिति ने भोजनालय में व्यवस्था की है कि अगर आपका या आपके किसी परिजन का जन्मदिन है तो उस दिन आप समिति के कार्यालय में संपर्क कर जितने लोगों को भोजन करवाना चाहें उनकी राशि जमा करवा सकते हैं। इसके बाद जो भी व्यक्ति भोजनालय पहुंचेगा उसे टोकन तो दिया जाएगा लेकिन पैसे नहीं लिए जाएंगे। जन्मदिन पर परोसे जाने वाला भोजन भी खास होता है। इसमें पूरी, सब्जी और मीठा परोसा जाता है।

वीआईपी भी पहुंच रहे परिवार के साथ 

मंदिर ट्रस्ट के अनुसार भोजनालय का जैसे-जैसे प्रचार हो रहा है, वैसे-वैसे यहां आने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। ट्रस्ट के मुताबिक छुट्टी के दिनों में शहर के अधिकारी, बड़े व्यापारी अपने परिवार के साथ यहां पहुंचते हैं और भोजन का स्वाद लेते हैं। उनके लिए भी वही व्यवस्था है।

वसुधैव कुटुम्बकम का उदाहरण

श्री राम मंदिर अन्न प्रसादम उन लोगों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है जो किसी कारणवश सुबह/दोपहर का खाना खाने या खाने का इन्तेजाम करने में असमर्थ होते है। अन्न प्रसादम बिना किसी भेद-भाव के हर धर्म, जाती और वर्ग के लोगों को भोजन प्रदान करता है। यहाँ भोजन का सेवन करने रिक्शाचालक से लेकर ऑफिस कर्मचारी और बड़े-बड़े बिज़नसमेन आते है. समाज के हर वर्ग के लोग एक ही छत के नीचे साथ में भोजन करते है। अन्न प्रसादम, श्री राम मंदिर रायपुर के ट्रस्ट द्वारा चलाया जा रहा है। यहाँ भोजन करने वालों को भोजन में एक आध्यात्मिक एहसास प्रतीत होता है. भगवान श्री राम की प्रतिमा के सानिध्य में बना यह भोजन लोगों में एक अंदरूनी शक्ति जगाता है। मन में संतुष्टि, आस्था, भक्ति, और समाज कल्याण की भावना उत्पन्न होने लगती है. भेद-भाव, जात-पात, ऊंच-नीच की भावना जैसे ख़त्म हो जाती है। पूरा विश्व एक परिवार सा प्रतीत होता है। अतः ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का कथन स्वतः ही सच हो जाता है।



Leave a Reply