Chhattisgarh Tourism

राजिम माघी पुन्नी मेला का शुभारंभ: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भगवान राजीव लोचन की महाआरती कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की  

रायपुर | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज राजिम के भगवान राजीव लोचन मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की। मुख्यमंत्री राजिम माघी पुन्नी मेला के शुभारंभ अवसर पर महानदी की महाआरती में भी शामिल हुए। सीएम बघेल ने कहा है कि राजिम में महानदी, पैरी और सोंढूर नदियों के पवित्र त्रिवेणी संगम में सदियों से इस मेले का आयोजन हो रहा है। छत्तीसगढ़ ही नहीं आसपास के राज्यों के लोग भी बड़ी संख्या में श्रद्धा के साथ इस मेले में शामिल होते हैं।

मेला की शुरुआत कल्पवाश से होती है पखवाड़े भर पहले से श्रद्धालु पंचकोशी यात्रा प्रारंभ कर देते है पंचकोशी यात्रा में श्रद्धालु पटेश्वर, फिंगेश्वर, ब्रम्हनेश्वर, कोपेश्वर तथा चम्पेश्वर नाथ के पैदल भ्रमण कर दर्शन करते है तथा धुनी रमाते है। 101 कि.मी. की यात्रा का समापन होता है और माघ पूर्णिमा से मेला का आगाज होता है, राजिम माघी पुन्नी मेला में विभिन्न जगहों से हजारो साधू संतो का आगमन होता है, प्रतिवर्ष हजारो के संख्या में नागा साधू, संत आदि आते है, तथा विशेष पर्व स्नान तथा संत समागम में भाग लेते है।

प्रतिवर्ष होने वाले इस माघी पुन्नी मेला में विभिन्न राज्यों से लाखो की संख्या में लोग आते है और भगवान श्री राजीव लोचन तथा श्री कुलेश्वर नाथ महादेव जी के दर्शन करते है और अपना जीवन धन्य मानते है। लोगो में मान्यता है की भनवान जगन्नाथपुरी जी की यात्रा तब तक पूरी नही मानी जाती जब तक भगवान श्री राजीव लोचन तथा श्री कुलेश्वर नाथ के दर्शन नहीं कर लिए जाते, राजिम माघी पुन्नी मेला का अंचल में अपना एक विशेष महत्व है।

इस दौरान उनके साथ धर्मस्व मंत्री ताम्रध्वज साहू, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, वाणिज्य कर मंत्री कवासी लखमा, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडि़या, अभनपुर विधायक धनेन्द्र साहू, राजिम विधायक अमितेष शुक्ल, सिहावा विधायक लक्ष्मी धु्रव सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। साथ ही साधु-संत और बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन शामिल हुए।

Leave a Reply