चुनाव आयोग ने लांच किया सिविजिल एप, चुनाव के दौरान हो रही गड़बड़ी की शिकायत कर सकते है

रायपुर (एजेंसी) | इस बार छत्तीसगढ़ समेत चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में आयोग आयोग ने एक नए एप सिविजिल (CVIGIL  APP) लांच किया। जिसका मकसद है तकनीक के इस्तेमाल से चुनावी पारदर्शिता को एक नया विस्तार देना। इस एप की जानकारी देते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि वोटर को सशक्त बनाना ही हमारा सबसे बड़ा मकसद है।




इस एप की मदद से शिकायतकर्ता आचार संहिता उल्लंघन से जुड़ी कोई भी सूचना को अपना नाम गुप्त रखते हुए भी आयोग को बता सकते हैं। उनकी शिकायतों पर 100 मिनिट के अंदर एक्शन भी लिया जाएगा। जिसमें नागरिक खुद भी देख सकेंगे कि उनकी शिकायत पर क्या कार्रवाई की गई। साथ ही चुनाव के दौरान होने वाली कार्रवाई का एक्शन टेकन रिपोर्ट कोई भी देख सकेगा। छत्तीसगढ़ सहित चार राज्यों के निर्वाचन इतिहास में यह पहला मौका है जब इस तरह की सुविधाएं सभी विधानसभा सीटों पर लागू होंगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले फेक न्यूज को रोकने पर हमारा सबसे ज्यादा फोकस है। इसके लिए हमने फेसबुक, ट्विटर, वॉट्सएप वगैरह से बात की है। इसके बावजूद फिर भी कोई गड़बड़ी होती है तो सीविजिल यानी सिटिजन विजिलेंस एप से शिकायतकर्ता या वोटर खुद अपनी शिकायत सीधे हमसे कर सकते है। उनकी शिकायतों पर 100 मिनिट के अंदर एक्शन भी लिया जाएगा। जिसमें नागरिक खुद भी देख सकेंगे कि उनकी शिकायत पर क्या कार्रवाई की गई। चुनाव के दौरान होने वाली कार्रवाई का एक्शन टेकन रिपोर्ट कोई भी देख सकेगा।

शिकायतकर्ता आचार संहिता उल्लंघन से जुड़ी किसी भी सूचना को अपना नाम गुप्त रखते हुए भी आयोग को बता सकते हैं। हालांकि इस स्थिति में की गई कार्रवाई का एक्शन टेकन रिपोर्ट शिकायत करने वाले को नहीं मिलेगा। सोशल मीडिया के चरम विस्तार के परिप्रेक्ष्य में इस बार होने जा रहे विधानसभा चुनाव में इन सभी तकनीकों और मोबाइल एप का इस्तेमाल किया जाएगा।




जानकारों की राय अच्छा प्रयोग

जानकारो का कहना हैं कि चुनाव आयोग ने फेक न्यूज कंट्रोल और सीविजिल जैसी अच्छी पहल की है। चुनावी मौसम में फेक न्यूज की बाढ़ आ जाती है। उसे रोकने के लिए ये बेहद जरूरी है। साइबर सुरक्षा को अब रोजाना की जिंदगी का हिस्सा बनाने की दरकार है। वैसे ये काफी हद तक आत्मनियंत्रण पर भी निर्भर करेगा।

ऐसे कर सकेंगे शिकायत

सीविजिल का अब बीटा वर्जन भी आ गया है। किसी भी स्मार्ट फोन पर इसी डाउनलोड किया जा सकता है। एप के एक्टिव होते ही इसमें यूजर के सामने दो ऑप्शन आते हैं। अगर यूजर अपनी पहचान बताकर शिकायत फॉलोअप भी लेना चाहता है। तो उसे अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। इससे उसके पास ओटीपी आता है। इसे सबमिट कर आगे फोटो या वीडियो के ऑप्शन चुनकर शिकायत की जा सकती है। जबकि पहचान छिपाने के लिए गुमनाम यूजर का ऑप्शन भी है। जिसके लिए ओटीपी यानी वन टाइम पासवर्ड के बिना ही फोटो या वीडियो डालकर शिकायत दर्ज करवाई जा सकती है।

ऐसे काम करेगा सीविजिल एप 

सीविजिल में शिकायत करने के बाद सबसे पहले इसे निराकरण के लिए फ्लाइंग स्कवाड, निगरानी टीम या रिटर्निंग ऑफिसर के पास भेजा जाएगा। घटना सही पाए जाने पर सूचना सीधे चुनाव आयोग के पास भेजा जाएगा। 100 मिनट के अंदर एक्शन टेकन रिपोर्ट शिकायत करने वाले को दी जाएगी।



Leave a Reply