gondwana express logo
Gondwana Express banner

बंगले पर ड्यूटी से भृत्य ने मना किया, नाराज जज ने कहा- कोर्ट के बाहर खड़े रहो; सजा के दौरान हो गया बेहोश

दुर्ग (एजेंसी) | जिला न्यायालय में एक जज ने भृत्य को कोर्ट के बाहर खड़े होने की सजा सुना दी, क्योंकि उसने जज के बंगले पर ड्यूटी करने से इंकार कर दिया था। घटना शुक्रवार की है। सजा के दौरान भृत्य बेहोश होकर गिर गया। जिसके बाद कोर्ट के अन्य भृत्य धरना देने लगे। वकीलों के समर्थन के बाद स्थिति उग्र हो गई।

डीजे गोविंद प्रसाद मिश्रा के आश्वासन के बाद कोर्ट में स्थिति थोड़ी संभली और लघु वेतन कर्मचारी संघ के सदस्य कोतवाली थाना में आवेदन देने पहुंच गए।

संघ के सदस्यों ने दो साल पहले हुई मौत की भी जांच कराने की मांग रखा

न्यायालय लघु वेतन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष संतोष यादव के अनुसार भृत्य सदानंद यादव ने बंगले में ड्यूटी करने से मना कर दिया इसलिए उसे सजा मिली। शाम करीब 4:30 बजे सदानंद बेहोश होकर गिर गया, उसे पहले जिला अस्पताल में भर्ती कराया बाद में मेकहारा रेफर किया गया। इस मामले के अलावा संघ के सदस्य 2 साल पहले हार्ट अटैक से जान गंवाने वाले कर्मचारी इतवारी की मौत के मामले की भी जांच की मांग की।

कोर्ट परिसर के बाहर व अंदर प्रदर्शन को देख जिला एवं सत्र न्यायाधीश गोविंद प्रसाद मिश्रा वकीलों से चर्चा के लिए बाहर आए। लेकिन कार्रवाई का आश्वासन न मिलने पर प्रदर्शनकारी मांगों पर अड़े रहे। इसके बाद डीजे ने वकीलों को अपने कक्ष स्थित सभागार में बुलाया और चर्चा की। प्रदर्शन के दौरान कर्मचारी संघ ने डीजे को लिखित आवेदन दिया। इसमें सजा देने वाले जज को बर्खास्त करने, प्रताड़ना के मामले में एफआईआर व विभागीय जांच करने की मांग की।

डीजे ने कार्रवाई का भरोसा दिया है

दुर्ग अधिवक्ता संघ के रविशंकर सिंह को संघ के सदस्यों ने अपनी पीड़ा बताई। उन्होंने कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।

Leave a Reply