Chhattisgarh Politics

गौरी-गौरा पूजा में बघेल को चाबुक मारने की रस्म निभाने वाले बुजुर्ग भरोसा राम ठाकुर का निधन, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हुए भावुक

भिलाई | छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार की सुबह एक भावानात्मक पोस्ट सोशल मीडिया पर साझा की। इस पोस्ट में उन्होंने जानकारी दी कि जंजगिरी गांव के रहने वाले भरोसा राम ठाकुर का निधन हो चुका है। भरोसा राम वही शख्स हैं जो हर साल दिवाली के अगले दिन होने वाली पूजा के दौरान मुख्यमंत्री को सोंटा (चाबुक) मारते थे।


इस पर सीएम ने लिखा-  मैं प्रत्येक वर्ष दीपावली के दूसरे दिन ग्राम जंजगिरी में आयोजित गौरी गौरा पूजा कार्यक्रम में हिस्सा लेता हूँ, जहां परंपरा अनुसार सभी विघ्नों के नाश तथा मंगल कामना के लिए भरोसा राम ठाकुर जी मुझे सोंटा लगाते थे। आज भरोसाराम जी के आकस्मिक निधन का समाचार प्राप्त हुआ। उनसे मेरे वर्षों पुराने आत्मीय संबंध रहे हैं, वे हमारे सम्मानीय बुजुर्ग थे। उनका निधन मेरे लिए पारिवारिक क्षति है।

यह है सोंटा मारने की परंपरा

गौरी-गौरा पूजा भगवान शंकर और मां पार्वती के विवाह का कार्यक्रम  होता है। छत्तीसगढ़ के ग्रामीण अंचलों में इस त्योहार का विशेष महत्व होता है। दीपावली के अगले दिन यह त्योहार मनाया जाता है। इस दौरान सुखी घास से बने चाबुक को हाथ पर मारा जाता है। यह ईश्वर के प्रति अपने तप को प्रकट करने का तरीका माना जाता है। मान्यता है कि इससे व्यक्ति के जीवन की परेशानियां दूर होती हैं, यह पवित्र होता है। बीते साल मुख्यमंत्री के सोंटा मरवाने के वीडियो के सामने आते ही भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा था कि यह सब करने से प्रदेश का विकास नहीं होगा। कांग्रेस ने इस बयान को छत्तीसगढ़ी संस्कृति का अपमान बताया था।

Leave a Reply