India

धम्म चक्र प्रवर्तन दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी का वक्तव्य: बुद्ध की शिक्षाओं से चुनौतियों से निपटने का रास्ता मिल सकता है

नई दिल्ली | कल आषाढ़ पूर्णिमा (गुरु पूर्णिमा) है। इस मौके पर शनिवार को धम्म चक्र प्रवर्तन दिवस मनाया गया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया गया। उन्होंने कहा, ‘दुनिया आज असाधारण चुनौतियों से जूझ रही है, बुद्ध की शिक्षाओं से इनसे निपटने का रास्ता मिल सकता है।’ आज ही के दिन महात्मा बुद्ध ने अपने पहले पांच शिष्यों को प्रथम उपदेश दिया था।


उन्होंने कहा, ‘मैं आज आषाढ़ पूर्णिमा के अवसर पर सभी को अपनी शुभकामनाएं देना चाहता हूं। इसे गुरु पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। यह हमारे गुरुओं को याद करने का दिन है, जिन्होंने हमें ज्ञान दिया। उस भावना से, हम भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि देते हैं। भगवान बुद्ध का आठ गुना मार्ग दुनिया के कई समाज और देशों को कल्याण की दिशा में रास्ता दिखाता है।

यह करुणा और दया के महत्व को समझाता है।  भगवान बुद्ध की शिक्षाएं विचार और काम दोनों में काम आती हैं।’

इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन से धम्म चक्र दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

बुद्ध के आदर्श आज भी कायम

उन्होंने कहा कि आज दुनिया असाधारण चुनौतियों से लड़ रही है। इन चुनौतियों के लिए, स्थायी समाधान भगवान बुद्ध के आदर्शों से आ सकते हैं। वे अतीत में प्रासंगिक थे। वे वर्तमान में प्रासंगिक हैं और वे भविष्य में प्रासंगिक बने रहेंगे।

Leave a Reply