सीबीआई के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे राहुल ने दी गिरफ्तारी, कांग्रेस का देशभर में प्रदर्शन

नई दिल्ली (एजेंसी) |  आज शुक्रवार को दिल्ली समेत पुरे देश में कांग्रेस ने रिश्वतखोरी विवाद के बाद सीबीआई के चीफ आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने के मोदी सरकार के फैसले के विरोध में प्रदर्शन किया। दिल्ली में प्रदर्शन की कमान पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने संभाली। उनके नेतृत्व में कांग्रेस के कार्यकर्ताओ ने दयाल सिंह कॉलेज से सीबीआई मुख्यालय तक मार्च निकाला।




सीबीआई मुख्यालय के बाहर पहले से ही बड़ी संख्या में पुलिस के जवान तैनात थे। राहुल ने बैरिकेड पर चढ़कर धरना दिया। जिसके बाद राहुल ने गिरफ्तारी दी। इसके बाद वे वहाँ से लोधी रोड स्थित पुलिस स्टेशन गए। हालांकि उन्हें  थोड़ी देर बाद ही छोड़ दिया गया। वहां से बाहर निकलने पर उन्होंने कहा- प्रधानमंत्री भाग सकते हैं, लेकिन आखिर में सच सामने आएगा।

वर्मा को छुट्टी पर भेजने के पीछे मोदी का हाथ -राहुल 

राहुल ने कल गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया था जिसमे उन्होंने कहा था कि सीबीआई विवाद राफेल मुद्दे से जुड़ा हुआ है। और सीबीआई चीफ आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हाथ है। सीबीआई चीफ पर कार्रवाई इसलिए हुई, क्योंकि वे राफेल से जुड़े मामले की जांच शुरू करने वाले थे। उनके कमरे को सील किया गया और जो दस्तावेज उनके पास थे, वे ले लिए गए। राफेल से जुड़े सबूतों को मिटाने के लिए यह काम रात दो बजे किया गया। देश नरेंद्र मोदी को छोड़ेगा नहीं, विपक्ष भी उन्हें नहीं छोड़ेगा।

राफेल का मामला सीबीआई तक कैसे पहुंचा?

अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर में दावा किया गया है कि सीबीआई चीफ अालोक वर्मा जिन मामलों को देख रहे थे, उनमें सबसे संवेदनशील केस राफेल डील से जुड़ा था। दरअसल, 4 अक्टूबर को ही वर्मा को पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वकील प्रशांत भूषण की तरफ से 132 पेज की एक शिकायत मिली थी। इसमें कहा गया था कि फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने की सरकार की डील में गड़बड़ी हुई है। आरोप था कि हर एक प्लेन पर अनिल अंबानी की कंपनी को 35% कमीशन मिलने वाला है। दावा है कि आलोक वर्मा को जब हटाया गया, तब वे इस शिकायत के सत्यापन की प्रक्रिया देख रहे थे।

माेइन कुरैशी के मामले की जांच से शुरू हुआ रिश्वतखोरी विवाद

सीबीआई में नंबर-2 अफसर राकेश अस्थाना मीट कारोबारी मोइन कुरैशी से जुड़े मामले की जांच कर रहे थे। इस जांच के दौरान हैदराबाद का सतीश बाबू सना भी घेरे में आया। एजेंसी 50 लाख रुपए के ट्रांजैक्शन के मामले में उसके खिलाफ जांच कर रही थी। सना ने सीबीआई चीफ को भेजी शिकायत में कहा कि अस्थाना ने इस मामले में उसे क्लीन चिट देने के लिए 5 करोड़ रुपए मांगे थे।



Leave a Reply