आचार संहिता का उल्लंघन: अमर्यादित विज्ञापन पर कांग्रेस अध्यक्ष से स्पष्टीकरण मांगा - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

आचार संहिता का उल्लंघन: अमर्यादित विज्ञापन पर कांग्रेस अध्यक्ष से स्पष्टीकरण मांगा

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने प्रदेश कांग्रेस के एक चुनावी विज्ञापन को आचार संहिता के उल्लंघन की श्रेणी में माना और इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण देने कहा है। विदित रहे, हाल ही प्रदेश कांग्रेस के प्रकाशित एक चुनावी विज्ञापन केा व्यक्तिगत आक्षेप व मानहानि वाला बताते हुए प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने अपना एतराज जताया था और इसे चुनाव की आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला बताकर आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की थी।




भाजपा के चुनाव विधिक विभाग के प्रदेश संयोजक नरेशचंद्र गुप्ता के उक्ताशय के पत्र के मद्देनजर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने उक्त विज्ञापन को आचार संहिता के उल्लंघन की श्रेणी में माना है एवं चुनाव प्रचार संबंधी निर्देशों का हवाला देकर उक्त विज्ञापन केा गंभीरता से लिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को इस संबंध में स्पष्टीकरण देने निर्देशित किया है।

चुनावी विज्ञापन, बघेल के खिलाफ एफआईआर के लिए आवेदन

भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश कांग्रेस के एक चुनावी विज्ञापन के मद्देनजर मौदहापारा थाने में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई है। उक्त चुनावी विज्ञापन को व्यक्तिगत आक्षेप और मानहानि करने वाला बताते हुए भाजपा ने कहा है कि उक्त विज्ञापन भारतीय दंड संहिता की धारा 463 एवं धारा 464 के तहत दंडनीय अपराध की श्रेणी में आता है। पार्टी के प्रदेश चुनाव विधिक विभाग के संयोजक नरेशचन्द्र गुप्ता ने इसे आपराधिक कृत्य बताते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 171, 463, 464, 499, 500, 501, 505 और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 123 (ए) के अंतर्गत मामला पंजीबद्ध कर दंडित करने की मांग की है।

इस दौरान शहर जिला भाजपा अध्यक्ष राजीव अग्रवाल, जयप्रकाश चन्द्रवंशी, अधिवक्तागण दीपक दीवान, ऋषिकुमार पिठवा, जे.पी. पाण्डेय, संजय पोपटानी, पार्षद विष्णुमहेश गिरी, श्याम चावला आदि भी उपस्थित थे। विदित रहे, इसी मामले में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण देने निर्देशित किया है।



Leave a Reply