रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 10 जनवरी “छेरछेरा” लोक पर्व पर प्रदेशवासियों को दी बधाई, दूधाधारी मठ परिसर के कार्यक्रम में होंगे शामिल - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 10 जनवरी “छेरछेरा” लोक पर्व पर प्रदेशवासियों को दी बधाई, दूधाधारी मठ परिसर के कार्यक्रम में होंगे शामिल

Cherchera-bhupesh-baghel-chhattisgarh

रायपुर. मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध लोक पर्व छेरछेरा की बधाई देते हुए प्रदेशवासियों की खुशहाली, सुख, समृद्धि की कामना की है। श्री बघेल ने आज यहां छेरछेरा पर्व की पूर्व संध्या पर जारी अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति में दान की पुरातन परम्परा रही है। नई फसल के घर आने के बाद महादान और फसल उत्सव के रूप में पौष मास की पूर्णिमा को मनाए जाने वाला छेरछेरा पुन्नी तिहार हमारी समृद्ध दानशीलता की गौरवशाली परम्परा को दर्शाता है। इस दिन गली-मोहल्लों के घर-घर में ‘छेरछेरा, कोठी के धान ल हेरहेरा‘ की गूंज सुनाई देती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छेरछेरा हमारे छत्तीसगढ़ की परम्परा रही है। इस दिन छोटे-बड़े सभी लोग घरों, खलिहानों में जाते हैं। धान मिसाई का काम आखरी चरण में होता है, वहां धान और धन इकट्ठा करते हैं और उसे गांव के विकास कार्यक्रमों में लगाने की परम्परा रही है। छेरछेरा का दूसरा पहलू आध्यात्मिक भी है, चाहे कोई छोटा हो या बड़ा हो सबके घरों में मांगने जाते हैं। देने वाला बड़ा होता है और मांगने वाला छोटा होता है। इस पर्व में अहंकार के त्याग की भावना है, जो हमारी परम्परा से जुड़ी है। सामाजिक समरसता सुदृढ़ करने में भी इस लोक पर्व का अपना महत्व रहा है। मुख्यमंत्री ने छेरछेरा के पावन अवसर पर प्रदेशवासियों से आव्हान किया है कि अपनी प्राचीन गौरवशाली परम्परा को आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के लिए आगे बढ़कर दान करें, जिससे हम अपने बच्चों को स्वस्थ, कुपोषण मुक्त, सुखद भविष्य दे सकें।

दूधाधारी मठ परिसर में आयोजित ‘छेरछेरा जोहार’ कार्यक्रम में होंगे शामिल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 10 जनवरी को छेरछेरा पुन्नी के दिन राजधानी रायपुर के दूधाधारी मंदिर मठपारा में आयोजित ‘छेरछेरा जोहार’ कार्यक्रम में शामिल होंगे। दूधाधारी मंदिर में दान, धर्म और फसल उत्सव के रूप में छेरछेरा त्यौहार का आयोजन सवेरे 9 बजे से किया गया है। मुख्यमंत्री श्री बघेल सवेरे 10.45 बजे दूधाधारी मंदिर पहुंचेंगे और वहां पूजा-अर्चना कर राजेश्री महंत रामसुदंर दास से छेरछेरा दान लेकर प्रदेशवासियों की खुशहाली की कामना करेंगे। मुख्यमंत्री कार्यक्रम में उपस्थित कलाकारों के साथ मंदिर के आस-पास के घरों से दान लेकर प्रदेश में सुपोषण अभियान को बढ़ावा देंगे।

इस मौके पर प्रदेश सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, महापौर एवं अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे। छेरछेरा पुन्नी जोहार कार्यक्रम का आयोजन छत्तीसगढ़ की लोक कला, संस्कृति, परम्परा, रीति-रिवाज, खान-पान, बोली-भाषा, वेश-भूषा और तीज-त्यौहारों के संरक्षण, संवर्धन और विकास के लिए संस्कृति विभाग और जनसम्पर्क विभाग के संयुक्त तत्वाधान में किया गया है।

Leave a Reply