cm-bhupesh-attends-ravidas-maharaj-jaynti-08-march-2021
Chhattisgarh

मुख्यमंत्री शामिल हुए संत शिरोमणी रविदास जयंती समारोह में, कहा ‘समाज शिक्षा से नाता जोड़ेे और कुरीतियों से नाता तोडे़’

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल  ने आज यहां संत शिरोमणी रविदास जयंती एवं मेहर युवक युवती परिचय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि समाज की उन्नति के लिए शिक्षा जरूरी है। समाज शिक्षा से नाता जोड़ेे और कुरीतियों से नाता तोडे़। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ब्लॉक स्तर में स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल प्रारंभ किए जाएंगे, जिससे समाज के कमजोर वर्ग के बच्चों को भी अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा प्राप्त हो सके। राजधानी रायपुर के महादेव घाट में संत शिरोमणी रविदास मंदिर के समीप स्थित छत्तीसगढ़ हरदिया साहू समाज के भवन में मेहर समाज द्वारा इस अवसर पर समाज के युवक-युवती परिचय सम्मेलन और आदर्श सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री ने यहां विवाह के बंधन में बंधे जोड़ों को उनके खुशहाल जीवन के लिए आशीर्वाद प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने इसके पहले संत शिरोमणी रविदास जी के मंदिर में पूजा अर्चना कर उनसे प्रदेश की खुशहाली का आशीर्वाद मांगा।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि नवा रायपुर में 200 बेड का अनुसूचित जाति आवासीय कोचिंग सेंटर बनाया जाएगा, नवा रायपुर में खुलने वाले राष्ट्रीय स्तर के स्कूल में दाखिला लेने वाले अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों की फीस राज्य सरकार  देगी। उन्होंने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने के लिए नशा छोड़ना जरूरी है समाज के लोग नशे की बुराइयों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए आगे आएं। मुख्यमंत्री ने समारोह को संबोधित करते हुए मेहर समाज के जाति प्रमाण पत्र में आ रही दिक्कतों को दूर करने के लिए जाति प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया के सरलीकरण का आश्वासन दिया, साथ ही उन्होंने समाज के भवन के जीर्णाेद्धार के लिए 20 लाख रूपए की स्वीकृति दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में चर्म शिल्प बोर्ड का गठन किया जाएगा। बोर्ड के माध्यम से समाज के लोगों को आधुनिक तरीके से जूता चप्पल बनाने का प्रशिक्षण देने और चर्म शिल्पकारों के लिए ब्लॉक स्तर पर कर्मशाला स्थापना का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विभिन्न शिल्पकारों, महिला स्व-सहायता समूहों के द्वारा तैयार उत्पादों की बिक्री और कोसा वस्त्र, कृषि उत्पादों सहित विभिन्न उत्पादों की बिक्री के लिए हर जिला मुख्यालय में सी-मार्ट खोले जाएंगे। इस वर्ष रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग में सी-मार्ट खुलेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कहते थे कि गांव भारत देश की आत्मा हैं। राज्य सरकार ने भी गांव को सशक्त और विकसित बनाने की पहल की है। छत्तीसगढ़ सरकार की किसान हितैषी नीतियों के कारण खेती छोड़ चुके लोग बड़ी संख्या में खेतों की ओर लौटे हैं। राजीव गांधी किसान योजना के माध्यम से किसानों को 10 हजार रूपए प्रति एकड़ के मान से आदान सहायता दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार का काम जनता की सेवा और गरीबों, किसानों, मजदूरों का सहयोग करना है। राज्य सरकार इस दिशा में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि गोधन न्याय योजना के माध्यम से 2 रूपए प्रति किलो की दर पर खरीदे गए गोबर से वर्मी कंपोस्ट बनाया जा रहा है। प्रदेश के 5 हजार गौठानों में ग्रामीण क्षेत्रों की लगभग 50 हजार महिलाओं को रोजगार मिला है। उन्होंने कहा कि गांवों में तेलघानी खोली जाएंगी।

मेहर समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्री खिलावन बघेल ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि  कि आज मेहर समाज उन्नति के पथ पर अग्रसर है। समाज के अनेक लोग डी.लिट की उपाधिधारी हैं, अनेक डॉक्टर, वैज्ञानिक, इंजीनियर, वकील और शिक्षक भी हैं। संसदीय सचिव श्री विनोद सेवन लाल चंद्राकर ने इस अवसर पर कहा कि राज्य सरकार सभी समाजों के उत्थान की दिशा में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही समाज को ऊपर उठाने का माध्यम है, इसलिए समाज को बच्चों की शिक्षा पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। कार्यक्रम में समाज के पदाधिकारियों ने शाल, श्रीफल और स्मृति चिन्ह भेंट कर मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया। इस अवसर पर मेहर समाज के महासचिव श्री परदेशी राम लहरी, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री राकेश मेहर, युवा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष श्री तुलसी डांेडिया, महिला संगठन की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती सरोजिनी रात्रे सहित समाज के अनेक पदाधिकारी और सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने मेहर समाज की ओर से दौलत राम कॉलेज कसडोल के प्राचार्य मेजर डॉ. एच.के.एस. गजेंद्र और और पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग के तकनीकी अधिकारी डॉ. चैतराम रात्रे को मेहररत्न सम्मान से सम्मानित किया।

Leave a Reply