दिनांक : 27-Nov-2022 05:00 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

विश्व बाघ दिवस: उदंती-सीतानदी टाइगर रिजर्व अंतर्गत विविध कार्यक्रम सम्पन्न

30/07/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर के मार्गदर्शन में एवं पीसीसीएफ (वन्यप्राणी) सह मुख्य वन्यप्राणी अभिरक्षक श्री पी व्ही नरसिंग राव के निर्देशन में उदंती-सीतानदी टाइगर रिजर्व में विश्व बाघ दिवस 29 जुलाई के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इसके अगले दिवस आज 30 जुलाई को भी समस्त परिक्षेत्रों में ड्राइंग एवं क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया और जनप्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया गया।

उप निदेशक श्री वरूण जैन ने बताया कि विश्व बाघ दिवस की पूर्व संध्या पर उदंती-सीतानदी टाइगर रिजर्व अंतर्गत इको पार्क मेचका और इको पार्क कोयबा में ओपन एयर थिएटर में बाल फिल्म ‘‘द लायन किंग’’ का प्रसारण किया गया। परिक्षेत्र अर्सिकन्हार स्थित मुचकुंद ऋषि पर्वत पर सुबह ट्रैकिंग आयोजित की गयी जिसमें बच्चे, जैव विविधता प्रबंधन समिति सदस्य एवं टाइगर रिजर्व के स्टाफ भी शामिल हुए। ट्रैकिंग अंतर्गत बच्चों एवं स्थानीय ग्रामीणों को प्रकृति के संरक्षण एवं ईको पर्यटन की ओर जागरूक किया गया। ट्रैकिंग उपरांत ईको पार्क मेचका में प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया जिसमें बाघों एवं अन्य वन्य प्राणियों के बारे में सवाल पूछे गये एवं सफल प्रतिभागियों को ट्रॉफी एवं मैडल दिए गये। परिक्षेत्र कुल्हाड़ीघाट स्थित माध्यमिक विद्यालय में बाल फिल्म का प्रसारण किया गया एवं ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस तारतम्य में बाघ संरक्षण के प्रति जनजागरूकता लाने के लिए परिक्षेत्र रिसगांव में भी पैदल रैली निकाली गयी एवं ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।