दिनांक : 05-Dec-2022 04:15 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

डोंगरगढ़ : शिवनाथ एक्सप्रेस के दो डब्बे पटरी से उतरे, दो महीनो में दूसरा हादसा, कोई हताहत नहीं

23/08/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

बीते दो महीने में नागपुर मंडल में तीसरा रेल हादसा हुआ है। इसमें लगातार दूसरी बार शिवनाथ एक्सप्रेस डिरेल हुई है। गंभीर बात यह है कि दोनों ही बार शिवनाथ डोंगरगढ़ में ही डिरेल हुई है। इससे मेंटेनेंस वर्क और सुरक्षा व्यवस्था को सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन मौके पर पहुंचे रेल अफसर जांच का आदेश देकर लौट गए।

मंगलवार तड़के 3.45 बजे शिवनाथ एक्सप्रेस के इंजन के पीछे लगी दो बोगियों के पांच पहिए पटरी से उतर गए। इसके पहले 27 जून को इसी ट्रेन की एक बोगी पटरी से उतर गई थी। राहत की बात रही कि मंगवार को हुआ हादसा भी तब हुआ जब ट्रेन यार्ड में चौथे लाइन पर शिफ्ट हुई थी, तब ट्रेन की स्पीड काफी कम थी, वहीं 27 जून को हुआ हादसा भी ट्रेन के स्टेशन पहुंचते ही हुआ।

इसके चलते यात्रियों को बड़ा नुकसान नहीं हुआ। 17 अगस्त को ही गोंदिया में भगत की कोठी एक्सप्रेस मालगाड़ी से टकरा गई थी। जिसमें 50 यात्रियों को चोटें आ। नागपुर रेल मंडल में दो महीने के भीतर ही तीन हादसे हो चुके हैं। तकनीकी अफसरों ने भी फिलहाल जानकारी नहीं दे पाने की बात कह दी। वहीं डीआरएम मनिंदर उत्पल ने हादसे की जांच जारी होने का दावा किया है।

बोगी में मची चीख-पुकार स्लीपर में किया शिफ्ट
पहियों के पटरी से उतरते ही यात्रियों को जोर का झटका लगा। तब ज्यादातर यात्री नींद में थे। अचानक लगे ऐसे झटके के बाद यात्री सहम गए। वहीं बोगी में चीख पुकार भी मच गई। अफसरों को जैसे ही घटना की जानकारी हुई, उन्होंने दोनों बोगियों में मौजूद यात्रियों को स्लीपर कोच में शिफ्ट किया। इससे यात्रियों की परेशानी और बढ़ गई।

कई एक्सप्रेस की टाइमिंग बिगड़ी, पहले ही लेट थीं
हादसे की वजह से करीब 7 एक्सप्रेस ट्रेनों की टाइमिंग दो से तीन घंटे प्रभावित हुई। इसमें छग एक्सप्रेस, गोंदिया बरौनी, बिलासपुर चेन्नई एक्सप्रेस सहित अन्य ट्रेनें शामिल हैं। हालाकि यार्ड में हादसा होने की वजह से आवाजाही पर बड़ा असर नहीं पड़ा। इधर 62 ट्रेनों को पहले ही रद्द कर दिया गया है, इससे यात्री और भी परेशान हैं।

तीन घंटे बेचैन रहे यात्री कर्मचारियों ने बांटा पानी
हादसे के बाद गोंदिया से पहुंची टूल वैन के कर्मचारियों ने मरम्मत कार्य शुरू किया। दोनों बोगियों को ट्रेन से अलग किया गया। इस दौरान करीब तीन घंटे तक समय लगा। तब तक बेचैन यात्रियों ने हंगामा मचाना भी शुरू कर दिया था। सुबह 5.45 बजे मरम्मत कार्य पूरा और ट्रेन को नांदगांव लाकर दोबारा गंतव्य के लिए रवाना किया गया।

मेंटेनेंस के लिए लगातार ब्लाक, फिर भी समस्या
लगभग हर महीने मेंटेनेंस वर्क के लिए कुछ ट्रेनों को रद्द किया जाता है। इसके बाद भी इस तरह के हादसों से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। नागपुर मंडल के डीआरएम मनिंदर उत्पल ने जानकारी दी कि हादसे की वजह की जानकारी जुटाई जा रही है। दूसरे तकनीकी अफसरों ने भी घटना स्थल का मुआयना मंगलवार दोपहर में किया।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।