दिनांक : 27-Nov-2022 04:20 AM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

मुख्यमंत्री ने आज फिर बोरवेल में फंसे राहुल के परिजनों से बात कर ढाढ़स बंधाया

12/06/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज पत्थलगांव से फिर जांजगीर-चांपा कलेक्टर के मोबाइल पर वीडियो कॉल करके मालखरौदा विकासखंड के गांव पिहरीद में 11 वर्षीय बालक राहुल साहू को बोरवेल से निकालने के लिए चल रहे रेसक्यू ऑपरेशन की प्रगति और राहुल के स्वास्थ्य जानकारी ली। राहुल एक बोरवेल में 60 फीट की गहराई में फंसा है। मुख्यमंत्री ने राहुल के परिजनों से भी बात की। उन्होंने परिजनों को चिंतित न होने और प्रशासन की ओर से पूरा सहयोग दिए जाने की बात कही। मुख्यमंत्री ने राहुल के परिजनों से कहा कि धीरज बनाए रखें, राहुल को सुरक्षित वापस निकालने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं, पूरा विश्वास है कि राहुल सुरक्षित वापस आएगा।

मुख्यमंत्री ने राहुल के फूफा बजरंग साहू की उपस्थिति में दादी श्याम बाई साहू से बात की। उन्होंने रोबोट के माध्यम से रेस्क्यू करने और अन्य विकल्प भी रेस्क्यू के लिए तैयार रहने की बात कही। मुख्यमंत्री ने रोबोट के संचालक महेश अहीर और उनके पिता से भी बात की।
मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉल में बोरवेल में हो रहे रेस्कयू, खुदाई के काम को भी देखा। गुजरात के अमरेली से आए रोबोट संचालक महेश अहीर ने राहत और बचाव के संबंध में अपनी बातें रखी। उन्होंने बताया कि अभी तक कई डेमो कर चुके है। इसके अलावा 3 रेस्कयू भी किया है। इनके साथ इनके पिताजी ऊका भाई अहीर भी साथ आये है।  मुख्यमंत्री ने भी रोबोट और इसके संचालन की प्रक्रिया वीडियो कॉल से देखी। विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत और प्रभारी मंत्री श्री जय सिंह अग्रवाल ने भी पिहरीद के घटनाक्रम की जानकारी

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।