दिनांक : 05-Feb-2023 06:54 PM   रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रकाशन   संस्थापक : पूज्य श्री स्व. भरत दुदानी जी
Follow us : Youtube | Facebook | Twitter English English Hindi Hindi
Shadow

रायपुर : मुख्यमंत्री 10 जून को करेंगे जगार मेले का शुभारंभ, छत्तीसगढ़ सहित 11 राज्यों के शिल्पकलाओं का होगा समागम

09/06/2022 posted by Priyanka (Media Desk) Chhattisgarh, India    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल कल शुक्रवार 10 जून को संध्या 6.30 बजे राजधानी के पण्डरी हाट-बाजार में छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा आयोजित जगार मेला-2022 का शुभारंभ करेंगे। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी तथा ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार करेंगे। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड अध्यक्ष श्री चंदन कश्यप, बोर्ड के सदस्यगण एवं अन्य जनप्रतिनिधि विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे।

जगार मेला-सह प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ राज्य के सुप्रसिद्ध हस्तशिल्प बेलमेटल शिल्प, लौह शिल्प, काष्ठ शिल्प, बांस शिल्प कालीन शिल्प, शिसल शिल्प, गोदना शिल्प, तुमा शिल्प, टेराकोटा शिल्प, छिंद कांसा, हाथकरघा वस्त्रों में कोसे की साड़िया, दुपट्टा, सलवार सूट, ड्रेस मटेरियल, बेडशीट, चादरें एवं विभिन्न प्रकार के रेडीमेंट वस्त्र का प्रदर्शन सह-विक्रय किया जाएगा।

जगार मेला-2022 में उत्तर प्रदेश के लखनऊ की चिकनकरी, बनारस की बनारसी साड़ी, मध्यप्रदेश की चंदेरी, महेश्वरी एवं टीकमगढ़ का ब्रांस, पश्चिम बंगाल का जूटवर्क, कांथावर्क एवं बंगाली साड़ियों के अतिरिक्त पंजाब की फूलकारी, राजस्थान की मोजरी व गुजरात, दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, बिहार एवं जम्मू-कश्मीर सहित कुल 11 राज्यों की शिल्प कलाओं का संग्रह रहेगा। इस जगार मेला में शिल्पकारों को अपनी उत्कृष्ट शिल्पकला का प्रदर्शन सह-विक्रय करने का अवसर मिलेगा। जगार-2022 में लोग अपने पसंद के अनुरूप घरेलू व सजावटी सामान सस्ते दामों पर खरीद सकेंगे।

Author Profile

Priyanka (Media Desk)
Priyanka (Media Desk)प्रियंका (Media Desk)
"जय जोहार" आशा करती हूँ हमारा प्रयास "गोंडवाना एक्सप्रेस" आदिवासी समाज के विकास और विश्व प्रचार-प्रसार में क्रांति लाएगा, इंटरनेट के माध्यम से अमेरिका, यूरोप आदि देशो के लोग और हमारे भारत की नवनीतम खबरे, हमारे खान-पान, लोक नृत्य-गीत, कला और संस्कृति आदि के बारे में जानेगे और भारत की विभन्न जगहों के साथ साथ आदिवासी अंचलो का भी प्रवास करने अवश्य आएंगे।