विधानसभा चुनाव 2018: आगामी छत्तीसगढ़ चुनाव दिसम्बर में 2 चरणों में हो सकता है

रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2018 की तैयारियों को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने राजनीतिक दलों और सभी 27 जिलों के कलेक्टर-एसपी, कमिश्नर, आईजी और अधिकारियों के साथ बैठक की। तैयारियों को देखते हुए समझा जा रहा है कि दिसंबर में होने वाले चुनाव 2 चरण में हो सकते हैं। हालांकि, सत्तारुढ़ भाजपा के साथ जोगी कांग्रेस ने तीन चरणों में और प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने एक चरण में चुनाव कार्यक्रम बनाने की मांग की। सूत्रों के अनुसार बस्तर आईजी ने नक्सल क्षेत्र में वोटिंग के लिए अलग चरण की मांग की। नक्सल क्षेत्र में 200 नई बटालियन की मांग भी की गई है। रावत ने अपने दोनों आयुक्तों के साथ करीब साढ़े पांच घंटे मैराथन बैठक की।




इसमें पिछले चुनाव से लेकर भावी चुनाव की तैयारियों के बारे में कलेक्टरों-एसपी की रिपोर्ट पर चर्चा की। दरअसल, आयोग की ओर से इस दूसरी समीक्षा बैठक के लिए सभी कलेक्टरों और एसपी को 11 बिंदुओं पर प्रजेंटेशन देना था। इसमें आयोग की ओर से पिछले चुनाव में कितनी शराब जब्त की गई, ऐसे मतदान केंद्र जहां सबसे ज्यादा चुनावी खर्च हुआ जैसी जानकारी मांगी गई थी। जिन जिलों की तैयारियों में कमियां रहीं वहां जल्द सुधार करने के निर्देश दिए गए। अफसरों के साथ बैठक में आयोग ने दो स्तर पर चुनाव तैयारियों का जायजा लिया। जिनमें से एक चुनाव के दौरान सुरक्षा इंतजाम और दूसरी प्रबंधन से जुड़ी थी।

सुगम मतदान की तैयारियों पर आयोग की ओर से सबसे ज्यादा जोर दिया गया। इसके तहत सभी मतदान केंद्रों पर दिव्यांग वोटरों के लिए रैंप, व्हील चेयर जैसी सुविधाओं की तैयारियों की जानकारी ली गई। मतदाता सूची के चल रहे संक्षिप्त पुनरीक्षण पर भी अपडेटेड जानकारी मांगी गई थी। इसमें नए मतदाता, सर्विस वोटर, मतदाताओं के वेरीफिकेशन जैसे बिंदु शामिल थे।



Leave a Reply