special - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

special

दिव्यांग क्रिकेट टूर्नामेंट: सचिन के ट्विट से चर्चा में आए मड्‌डा राम ने पहली बार खेला व्हील चेयर क्रिकेट

दिव्यांग क्रिकेट टूर्नामेंट: सचिन के ट्विट से चर्चा में आए मड्‌डा राम ने पहली बार खेला व्हील चेयर क्रिकेट

special, video, छत्तीसगढ़
रायपुर | क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के ट्वीट की वजह से मशहूर हुए दंतेवाड़ा के मड्डा राम ने अपना क्रिकेट टैलेंट रायपुर पहुंचकर दिखाया। शनिवार को शहर के सुभाष स्टेडियम में फेस्टिवल ऑफ क्रिकेट का आयोजन किया गया। यहां खास तौर पर दिव्यांग खिलाड़ियों के लिए क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। दिव्यांग खिलाड़ियों ने व्हील चेयर पर क्रिकेट खेला। पहली बार दिव्यांग मड्डा ने भी व्हील चेयर पर बैठ, गेंद को बांउड्री के पार पहुंचाया। येलो 11 ने जीता मुकाबला दिव्यांग टूर्नामेंट में पहला मैच ग्रीन छत्तीसगढ़ और येलो 11 के मध्य खेला गया, आयोजक प्रवीण जैन ने बताया कि ग्रीन 11 ने टॉस जीत कर बल्लेबाजी करते हुए 10 ओवर में 58 रन बनाए, जिसमें सार्वजिक संतु कोसले ने 21 रन का योगदान दिया, यलो की ओर से युधिष्ठिर ने 3 विकेट प्राप्त किये, जबाव में  येलो की टीम ने 5 ओवरों में 9 विकेट से जीत दर्ज कर ली यलो की ओर से सर्वा
रायपुर : कुपोषण के जाल से बाहर आई बिंदिया, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से आया परिर्वतन

रायपुर : कुपोषण के जाल से बाहर आई बिंदिया, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से आया परिर्वतन

special, छत्तीसगढ़
दुर्ग | एकीकृत बाल विकास परियोजना दुर्ग (शहरी) के परिक्षेत्र-बोरसी अंतर्गत वार्ड क्रं.-48 उत्कल नगर दुर्ग अंतर्गत पिता श्री लिंगराज एवं माता श्रीमती सरिता के घर तीन साल पहले 8 अक्टूबर को दूसरी संतान के रूप में एक स्वस्थ बालिका ने बिंदिया जन्म लिया। माता-पिता पुत्री के जन्म से प्रसन्न थे। लेकिन निम्न आय वर्ग से संबंधित होने के कारण जीविकोपार्जन हेतु बच्ची को उसके 5 वर्षीय बड़े भाई के साथ घर पर छोड़ कर जाने लगे, जिसके कारण बच्ची धीरे-धीरे कुपोषण का शिकार होंने लगी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के द्वारा राज्य सरकार की महत्वकांक्षी योजना मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत दुर्ग जिले में सुपोषण अभियान का शुभारंभ गांधी जयंती के दिन हुआ। योजना अंतर्गत कुपोषित बच्चों एवं एनीमिक महिलाओं को क्रमशः कुपोषण एवं एनीमिया मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया। इसी योजना अंतर्गत बच्ची कुमारी बिंदिया को भी शामिल
छत्तीसगढ़ की दो बहादुर बच्चियों को गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति कोविंद द्वारा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा

छत्तीसगढ़ की दो बहादुर बच्चियों को गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति कोविंद द्वारा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा

special, छत्तीसगढ़
रायपुर | अपनी जान की परवाह किए बगैर दूसरों की जान बचने वाली छत्तीसगढ़ की दो बहादुर बच्चियों को २५ जनवरी २०२० को नई दिल्ली में राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2019 से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा नवाजा जाएगा। छत्तीसगढ़ राज्य बल कल्याण परिषद ने अदम्य सहस का परिचय देने के लिए धमतरी जिले की भामेश्वरी निर्मलकर और सरगुजा जिले की कांति सिंह को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित करने की सिफारिश की थी। भामेश्वरी ने गहरे पानी से बच्चियों को निकाला ही नहीं होश में भी ले आई धमतरी जिले के कानीडबरी गांव में 12 साल की भामेश्वरी (पिता श्री जगदीश नेमलकर) ने गांव की दो बच्चियों को तालाब में डूबने से बचाया। गौरतलब है कि, कक्षा सातवीं की छात्रा भामेश्वरी को खुद तैरना ही नहीं आता था, फिर भी 17 अगस्त 2019 को गांव की दो बच्ची सोनम और चांदनी तालाब में डूबने से बचाया। जब दोनों बच्चे डूबने लगे उसी वक्त भामेश्व
रायपुर : UNICEF (यूनिसेफ) ने छत्तीसगढ़ सरकार के कुपोषण मुक्ति के प्रयासों को सराहा

रायपुर : UNICEF (यूनिसेफ) ने छत्तीसगढ़ सरकार के कुपोषण मुक्ति के प्रयासों को सराहा

india, special, छत्तीसगढ़
रायपुर. छत्तीसगढ़ में कुपोषण मुक्ति के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा दृढ़ संकल्पित होकर किए जा रहे समन्वित अभिनव प्रयासों को लोगों की लगातार सराहना और सहयोग मिल रहा है। आज एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय संस्था यूनिसेफ ने छत्तीसगढ़ में कुपोषण मुक्ति के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। यूनिसेफ इंडिया ने अपने ट्वीटर हैण्डल से मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के शुभारंभ की पोस्ट साझा करते हुए लिखा कि ’’खून की कमी और कुपोषण रोकने के लिए मलेरिया की रोकथाम बहुत जरूरी कदम है। जिससे बस्तर के आदिवासी इलाकों में महिलाओं और बच्चों की जान बचाई जा सकती है। यह छत्तीसगढ़ सरकार का महत्वपूर्ण कदम है।’’ इससे पहले भी यूनिसेफ ने अपने ट्वीटर और फेसबुक एकाउंट पर दंतेवाड़ा जिले के प्राथमिक शाला बेंगलुरू की फोटो साझा कर स्कूलों में चल रहे किचन गार्डन बागवानी की सराहना
‘आमचो संकल्प मलेरिया मुक्त बस्तर‘ का ग्राम चारगांव से हुआ आगाज, 15 जनवरी से 14 फरवरी चलेगा मलेरिया मुक्ति अभियान

‘आमचो संकल्प मलेरिया मुक्त बस्तर‘ का ग्राम चारगांव से हुआ आगाज, 15 जनवरी से 14 फरवरी चलेगा मलेरिया मुक्ति अभियान

politics, special, छत्तीसगढ़
बस्तर | विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम चारगांव में आज कलेक्टर नीलकंठ टीकाम द्वारा मलेरिया मुक्ति के लिए चलाये जा रहे संभाग स्तरीय अभियान का जिले में शुभारंभ किया। ‘आमचो संकल्प मलेरिया मुक्त बस्तर‘ अभियान के शुरुवात पर कलेक्टर ने कहा कि कुछ वर्ष पूर्व तक पोलियो, चेचक जैसे रोगो को समाप्त करना एक परिकल्पना प्रतीत होता था। परन्तु निरंतर प्रयासों से आज इन रोगो से हमारा देश मुक्त हो चुका है इसी प्रकार संकल्प के द्वारा हमें मलेरिया को जड़ से उखाड़ फेकना है। सुपोषण का लक्ष्य भी तभी सफल हो पायेगा जब हम बच्चों को मलेरिया जैसे रोगो से बचा पायेंगे, क्योंकि ये रोग बच्चों में खून की कमी एवं कमजोरी लाते है जो इन्हें भविष्य में समर्थवान बनने से रोकता है। इस दौरान कलेक्टर ने मच्छरदानी लगाने अपने आस-पड़ोस में पानी जमा न होने देने एवं घरो के आस-पास साफ-सफाई रखने की अपील की साथ ही बीमार पड़ने पर तुरंत चिकित
राजिम माघी पुन्नी मेला की तैयारी शुरू, केन्द्रीय समिति की बैठक 17 जनवरी को राजिम में

राजिम माघी पुन्नी मेला की तैयारी शुरू, केन्द्रीय समिति की बैठक 17 जनवरी को राजिम में

special, छत्तीसगढ़
गरियाबंद | राजिम माघी पुन्नी मेला की तैयारी शुरू हो गई है। धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री ताम्रध्वज साहू 17 जनवरी को मेला आयोजन की तैयारियों के संबंध में केन्द्रीय समिति की बैठक लेंगे। यह बैठक सांस्कृतिक भवन राजिम में शाम 5 बजे होगी। बैठक में रायपुर संभाग के कमिश्नर, रायपुर, गरियाबंद एवं धमतरी जिले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक, प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ पर्यटन मण्डल, संचालक संस्कृति एवं पुरातत्व, मुख्य वन संरक्षक और लोक निर्माण, जल संसाधन तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख अभियंता उपस्थित रहेंगे। राजिम माघी पुन्नी मेला वर्ष 2020 के आयोजन की तैयारियाँ  के संबंध में केन्द्रीय समिति की बैठक शुक्रवार 17 जनवरी 2020 को सायं 5 बजे सांस्कृतिक भवन राजिम में आयोजित की गई है। समिति के अध्यक्ष तथा प्रदेश के धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व, गृह व लोक निर्माण मंत्री और गरियाबंद जिले के प्रभारी म
मंत्री भगत ने किया ‘मधुर गुड़ योजना‘ का शुभारंभ,  बस्तर संभाग के साढ़े छह लाख से अधिक  गरीब परिवारों को मिलेगा लाभ

मंत्री भगत ने किया ‘मधुर गुड़ योजना‘ का शुभारंभ, बस्तर संभाग के साढ़े छह लाख से अधिक गरीब परिवारों को मिलेगा लाभ

politics, special, छत्तीसगढ़
जगदलपुर | खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने आज जगदलपुर के मिशन कम्पाउंड ग्राउण्ड में आयोजित समारोह में ‘मधुर गुड़ योजना‘ का शुभारंभ किया। इस मौके पर भगत ने कहा कि मधुर गुड़ योजना से बस्तर संभाग के 6 लाख 59 हजार से अधिक गरीब परिवारों को लाभ मिलेगा। इस योजना के तहत प्रत्येक गरीब परिवार को 17 रुपए प्रतिकिलो की दर से 2 किलो गुड़ प्रतिमाह दिया जाएगा। मधुर गुड़ योजना के क्रियान्वयन में हर साल 50 करोड़ रूपए खर्च किया जाएगा। बस्तर क्षेत्र में वितरण के लिए 15 हजार 800 टन गुड़ उपलब्ध कराया जाएगा। बस्तर क्षेत्र में गुड़ वितरण योजना कुपोषण मुक्ति के लिए प्रारंभ की गई है। खाद्य मंत्री ने इस अवसर पर मधुर गुड़़ तथा मलेरिया मुक्त बस्तर प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया। उन्होंने इस अवसर पर हितग्राहियों को मधुर गुड़ और एपीएल उपभोक्ताओं को राशन कार्ड भी वितरित किया। भगत ने समारोह में नवनिर्वाचित महापौर, सभा
अम्बिकापुर : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना से पारा मोहल्ला में मिल रही स्वास्थ्य सुविधा, जिले के 28 हजार मरीजों को मिला निःशुल्क स्वास्थ्य जांच एवं उपचार

अम्बिकापुर : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना से पारा मोहल्ला में मिल रही स्वास्थ्य सुविधा, जिले के 28 हजार मरीजों को मिला निःशुल्क स्वास्थ्य जांच एवं उपचार

special, छत्तीसगढ़
अम्बिकापुर | मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना से आदिवासी एवं दुरस्थ अंचलों के ग्रामीणों के लिए घर पहुँच स्वास्थ्य सुविधा मिलने से इसका भरपूर फायदा उठा रहे हैं। ग्रामीण साप्ताहिक हाट बाजार में सब्जी-भाजी खरीदते हुए बीमारी का भी ईलाज करा लेते हैं। कलेक्टर डाॅ0 सारांश मित्तर के मार्गदर्शन में जिले के सातों विकासखण्ड के 24 साप्ताहितक हाट बाजारों में 2 अक्टूबर गांधी जयंती से योजना का शुभारंभ किया गया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. पीएस सिसोदिया ने बताया है कि जिले में 12 जनवरी 2020 तक 28 हजार मरीजों का स्वास्थ्य जांच कर उपचार किया गया है। डाॅ. सिसोदिया ने बताया कि मैनपाट विकासखण्ड में कुल 4 हाट बाजार में 107 स्वास्थ्य शिविरों से 5 हजार 353 मरीज, बतौली विकासखण्ड में कुल 3 हाट बाजार में 75 शिविर से 3 हजार 600 मरीज, धौरपुर विकासखण्ड में कुल 4 हाट बाजार में 107 शिविर से
कटेकल्याण ब्लॉक की बेंगलूर स्थित प्राथमिक शाला में है किचन गार्डन; यूनिसेफ ने स्कूल में किचन गार्डन को सराहा

कटेकल्याण ब्लॉक की बेंगलूर स्थित प्राथमिक शाला में है किचन गार्डन; यूनिसेफ ने स्कूल में किचन गार्डन को सराहा

special, छत्तीसगढ़
दंतेवाड़ा | कटेकल्याण ब्लॉक की बेंगलूर प्राथमिक शाला को सराहना मिली है। यह सराहना अंतरराष्ट्रीय संस्था यूनिसेफ इंडिया द्वारा अपने ट्विटर व फेसबुक पेज की गई है। जिसमें इस स्कूल में बच्चों द्वारा तैयार किचन गार्डन , बागवानी की फ़ोटो शेयर की गई है। सीएम भूपेश बघेल ने भी टि्वटर पर शेयर करते हुए सराहा है। We are committed to eradicate malnutrition and anemia from Chhattisgarh and that too with proper awareness and people's participation. We are confident that we shall succeed. https://t.co/OOzGMDbmDA — Bhupesh Baghel (@bhupeshbaghel) January 14, 2020 इसके पहले नीति आयोग द्वारा अपने मुख्य पेज में जगह दी गई थी। बेंगलूर गांव को हालही में एक दिव्यांग बच्चे मड्डाराम की वजह से देश मे पहचान मिली थी। इसके बाद अब यहां की स्कूल के किचन गार्डन को सराहना मिलने पर गांव, स्कूल स्टाफ व विभाग काफी
मकर सक्रांति 2020: सूर्य हुए उत्तरायण, धनु से मकर राशि में किया प्रवेश, धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

मकर सक्रांति 2020: सूर्य हुए उत्तरायण, धनु से मकर राशि में किया प्रवेश, धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

special, छत्तीसगढ़
सूर्य को अन्न धन का दाता और समस्त ऊर्जा का आधार माना गया है। भारत में सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होकर मकर रेखा की ओर जाने का स्वागत उमंग और उत्साह से किया जाता है। देश के विभिन्न क्षेत्रों में इसे मकर संक्रांति, पोंगल और लोहड़ी पर्व के नाम से मनाते है। मकर संक्रांति का यह त्यौहार ऋतु परिवर्तन का संदेश लेकर आता है। इस बार मकर सक्रांति की तिथि को लेकर संशय बना है। ज्योतिषियों के मुताबिक मकर सक्रांति इस बार 15 जनवरी को पड़ेगी। मकर सक्रांति का जितना धार्मिक महत्व है उतना ही वैज्ञानिक महत्व भी है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। माना जाता है क‍ि मकर संक्रांति के दिन ही सूर्य देव अपने पुत्र शनि से नाराजगी छोड़कर उनके घर गए थे। इसके अलावा यह भी मान्यता है कि भगीरथ के