india

8 साल से कुत्ते के नाम पर राशन लेता रहा परिवार, महिला ने पूछा, ‘कालू कुत्ते का नाम राशन कार्ड में लिख सकते हो तो मेरा क्यों नहीं?’ तब हुआ मामले का खुलासा

8 साल से कुत्ते के नाम पर राशन लेता रहा परिवार, महिला ने पूछा, ‘कालू कुत्ते का नाम राशन कार्ड में लिख सकते हो तो मेरा क्यों नहीं?’ तब हुआ मामले का खुलासा

india
गुजरात (एजेंसी) | गुजरात में पालनपुर जिले के जेतवास गांव में एक परिवार आठ साल तक कुत्ते के नाम पर सरकारी राशन लेता रहा। मामले का खुलासा तब हुआ, जब कालू नाम के कुत्ते की मौत हो गई और परिवार नई बहू का नाम जुड़वाने के लिए तहसीलदार कार्यालय पहुंच गया। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); दरअसल, परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। कुछ समय पहले घर में नई बहू मुगलीबेन परमार आई है। जिसका नाम राशन कार्ड में दर्ज करवाने के लिए परिवार के सदस्य तहसीलदार कार्यालय के चक्कर लगा रहे थे। लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हो रही थी। परिवार की परेशानी देखकर मुगलीबेन खुद तहसीलदार कार्यालय पहुंच गई। यहां उसने कर्मचारियों से कहा कि कालू कुत्ते का नाम राशन कार्ड में लिख सकते हो तो मेरा क्यों नहीं? यह सुनते ही दफ्तर में खलबली मच गई। इसके बाद तहसीलदार कार्यालय के कर्मचारियों ने स्थिति को भां
हेलिकॉप्टर के नीचे उतरते ही दरवाजा खोलकर भागने लगे राहुल गांधी, सभा के लिए हो गए थे  लेट

हेलिकॉप्टर के नीचे उतरते ही दरवाजा खोलकर भागने लगे राहुल गांधी, सभा के लिए हो गए थे लेट

india
उदयपुर (एजेंसी) | कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को राजस्थान में तीन सभाएं कीं। राजस्थान में बुधवार को चुनाव प्रचार का आखिरी दिन है। मंगलवार को उदयपुर के सलूंबर में राहुल गांधी निर्धारित समय से काफी लेट हो गए थे। शाम 5.26 बजे जैसे ही उनका हेलीकॉप्टर लैंड हुआ तो वे गेट खुलते ही भागते हुए निकले। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); जल्दी-जल्दी मंच पर गए, भाषण दिया और 5.58 बजे टेकऑफ कर गए। वे मंच पर भी बार बार घड़ी देख रहे थे। क्योंकि शाम होने के बाद हेलीकॉप्टर उडाने की परमिशन नहीं मिलती है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उदयपुर के सलूंबर में आम सभा की। वे यहां निर्धारित समय से काफी लेट हो गए थे। ऐसे में जैसे ही उनका हेलिकॉप्टर लैंड हुआ तो उन्होंने गेट खुलते ही दौड़ लगा दी। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
अमेरिकी टूरिस्ट जॉन एलेन ने मरने से एक दिन पहले लिखा था, ‘जीसस मेरे साथ हैं। हो सकता है कि कल को मुझे गोली लग जाए या तीर लग जाए, कल फिर जाऊंगा’

अमेरिकी टूरिस्ट जॉन एलेन ने मरने से एक दिन पहले लिखा था, ‘जीसस मेरे साथ हैं। हो सकता है कि कल को मुझे गोली लग जाए या तीर लग जाए, कल फिर जाऊंगा’

india
पोर्ट ब्लेयर (एजेंसी) | 14 साल बाद अंडमान निकोबार के आईलैंड पर रहने वाले सेंटनल आदिवासी फिर सुर्खियों में हैं। वजह- उन्होंने आईलैंड पर पहुंचे अमेरिकी टूरिस्ट जॉन एलेन की तीर मारकर हत्या कर दी। इससे पहले सेंटनल 2004 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आए थे, जब उन्होंने आईलैंड के ऊपर से गुजर रहे भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टर पर तीर बरसा दिए थे। करीब 60 हजार साल से दुनियाभर से कटकर इस आईलैंड पर रह रहे सेंटनल आदिवासियों के बीच 12 साल बाद बाहरी दुनिया का कोई व्यक्ति पहुंचा था। इससे पहले 2006 में सैंटनल ने आईलैंड पर गलती से पहुंच गए 2 मछुआरों को भी मार दिया था। गुरुवार को जॉन एलेन का शव ढूंढने के लिए एक हेलीकॉप्टर भी आईलैंड के ऊपर पहुंचा। आदिवासियों ने उस पर भी तीर बरसा दिए। हालांकि इस बीच एक नोट सामने आया है, जो जॉन ने मौत से एक दिन पहले ट्रैवल डायरी में अपने माता-पिता के नाम लिखा था। इ
मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018: वह कौन शख्‍स है जो कमलनाथ के भीतरी कमरे का VIDEO बनाकर लीक कर रहा है?

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018: वह कौन शख्‍स है जो कमलनाथ के भीतरी कमरे का VIDEO बनाकर लीक कर रहा है?

india
भोपाल (एजेंसी) | मध्य प्रदेश की सियासत को इन दिनों कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष कमलनाथ के कथित वीडियो ने गर्मा दिया है। ये वीडियो उस कक्ष के हैं, जहां आम आदमी आसानी से और प्रदेशाध्यक्ष के सिपहसालारों की अनुमति के बगैर नहीं पहुंच सकता है। सवाल है कि आखिर कमलनाथ का विभीषण कौन है, जो वीडियो बना-बनाकर सार्वजनिक करने में लगा है। दरअसल कमलनाथ के एक के बाद एक जारी हुए दो वीडियो ने या कहें कि एक वीडियो के दो हिस्सों ने राज्य की सियासत को गर्मा दिया है और उसे ध्रुवीकरण की ओर मोड़ने का काम किया है. अब और वीडियो के आने की संभावना बन गई है. यदि कमलनाथ से जुड़े और वीडियो सामने आते हैं तो कांग्रेस को यह खोजना ही होगा कि कमलनाथ के भीतरी कमरे का विभीषण आखिर कौन है? (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); राज्य के मालवा-निमांड अंचल को छोड़ दिया जाए तो अन्य किसी भी हिस्से में ध्
ट्रैक पर गिरी 1 साल की बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, खरोंच भी नहीं आई

ट्रैक पर गिरी 1 साल की बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, खरोंच भी नहीं आई

india
मथुरा (एजेंसी) | जाको राखे सांईया मार सके ना कोई यह काहवत आज मथुरा रेलवे स्टेशन में घटी घटना पर फिट बैठती हैं। मथुरा रेलवे स्टेशन में एक महिला यात्री की गोद से एक साल की बच्ची छूटकर रेलवे ट्रैक पर जा गिरी। स्टेशन परिसर में उपस्थित लोग इस दृश्य को देखकर सहम गए। बच्ची के ऊपर से ट्रेन गुजर गई। इसके बाद जो हुआ, वो वास्तव में चमत्कार से कम नहीं है। मथुरा रेलवे स्टेशन पर एक महिला यात्री की गोद से 1 साल की बच्ची छूटकर रेलवे ट्रैक पर गिर गई। उसके ऊपर से ट्रेन के 22 डिब्बे गुजर गए। लेकिन बच्ची सही सलामत बच गई। ट्रेन के गुजरने के बाद लोगों ने बच्ची को उठा लिया। बच्ची के माता-पिता झांसी जाने के लिए समता एक्सप्रेस पर चढ़ रहे थे इसी दौरान धक्का-मुक्की में वह मां की गोद से छूटकर ट्रैक पर जा गिरी। बच्ची के पैर पटरी से सटे हुए थे। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); यह वा
अंडमान में धर्म परिवर्तन कराने पहुंचे अमरीकी नागरिक की आदिवासियों ने बाण चलाकर कर दी हत्या

अंडमान में धर्म परिवर्तन कराने पहुंचे अमरीकी नागरिक की आदिवासियों ने बाण चलाकर कर दी हत्या

india
पोर्ट ब्लेयर (एजेंसी) | अंडमान निकोबार द्वीप समूह के उत्तरी सेंटीनेल द्वीप में सेंटीनेल जनजाति के लोग (सेंटीनलीज) आदिवासियों ने तीरों से अमेरिकी नागरिक जॉन एलन चाऊ (27) की हत्या कर दी। सेंटीनलीज बाहरी दुनिया के संपर्क में रहना पसंद नहीं करते हैं। चाऊ का शव ढूंढने के लिए स्थानीय प्रशासन ने हेलिकॉप्टर भेजा था, लेकिन आदिवासियों के हमले के कारण वह द्वीप में उतर नहीं सका। अमेरिकी अधिकारियों की शिकायत के बाद पुलिस ने सातों मछुआरों को गिरफ्तार कर लिया और पूछताछ शुरू कर दी। अंडमान निकोबार द्वीप समूह के अधिकारियों ने चाऊ का शव खोजने के लिए हेलिकॉप्टर भेजे, लेकिन वे सेंटीनलीज के हमले की वजह से द्वीप में उतर नहीं सके। 2011 में 40 सेंटीनलीज थे इस द्वीप पर पुलिस के मुताबिक, सात मछुआरे चाऊ को उत्तरी सेंटीनेल द्वीप ले गए थे, जहां सेंटीनेल जनजाति के लोग (सेंटीनलीज) रहते हैं। इस जनजाति और उनके
भैंस से टकराकर बस गिरी महानदी पर बने पुल से नीचे; 12 की मौत, 49 जख्मी

भैंस से टकराकर बस गिरी महानदी पर बने पुल से नीचे; 12 की मौत, 49 जख्मी

india
कटक (एजेंसी) | ओडिशा के कटक में जगतपुर के पास मंगलवार को एक बस भैंस से टकराकर महानदी पर बने पुल से 30 फीट नीचे गिर गई। हादसे में 12 लोगों की मौत हो गई, 49 जख्मी हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थानीय लोगों के साथ मिलकर रेस्क्यू अभियान शुरू किया। मृतकों में तीन महिलाएं और नौ पुरुष शामिल हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); #SpotVisuals: A bus carrying around 30 passengers fell from the Mahanadi bridge near Jagatpur in Cuttack today. Rescue teams present at the spot. More details awaited. #Odisha pic.twitter.com/Mkqr00R7DW— ANI (@ANI) November 20, 2018 रिपोर्ट के मुताबिक, बस कटक से अंगुल जा रही थी। हादसे में भैंस की भी मौत हो गई। हादसे के बाद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दुख जताया। उन्होंने आसपास के अस्पतालों को मरीजों का इलाज मुफ्त में करने का आदेश भ
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ऐलान- ‘अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी’, खराब सेहत का दिया हवाला

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ऐलान- ‘अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी’, खराब सेहत का दिया हवाला

india
इंदौर (एजेंसी) | विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (66) ने अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है। सुषमा ने मंगलवार को इंदौर में यह घोषणा की।  उन्होंने इंदौर में पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि वह अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने इसके पीछे अपने स्वास्थ्य का हवाला दिया है। सुषमा ने कहा कि इस तरह के फैसले पार्टी करती है, लेकिन मैंने अगला चुनाव नहीं लड़ने का मन बना लिया है। सुषमा मध्यप्रदेश के विदिशा से लोकसभा सदस्य हैं। वे देश की सबसे युवा विधायक और किसी राज्य की सबसे युवा कैबिनेट मंत्री रह चुकी हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सुषमा स्वराज मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचार करने पहुंची थीं। सुषमा स्वराज इस वक्त 66 साल की हैं और वह फिलहाल मध्य प्रदेश के विदिशा से सांसद हैं। मूलरूप से हरियाणा के अंबाला कैंट की रहने वाली सुषमा स्वराज वकालत के
देवउठनी एकादशी आज, पर 7 दिसंबर के बाद होंगे शुभ कार्य, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि, कथा और महत्व

देवउठनी एकादशी आज, पर 7 दिसंबर के बाद होंगे शुभ कार्य, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि, कथा और महत्व

india
देवउठनी एकादशी के लिए नगर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में गन्ना मंडप बनाकर शालीग्राम का तुलसी विवाह मनाया जाएगा।देवउठनी एकादशी से ही सारे मांगलिक कार्य जैसे कि विवाह, नामकरण, मुंडन, जनेऊ और गृह प्रवेश की शुरुआत हो जाती है। इसके लिए शहर में रविवार की सुबह से ही ग्रामीण क्षेत्रों से गन्ने की बिक्री के लिए दुकानें लग गई थी। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); देवउठनी एकादशी, देवोत्थान एकादशी और तुलसी विवाह (Tulsi Vivah) का हिन्‍दू धर्म में विशेष महत्‍व है। ऐसी मान्‍यता है कि सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु चार महीने तक सोने के बाद दवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं। हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार देवउठनी एकादशी या तुलसी विवाह कार्तिक माह की शुक्‍ल पक्ष एकादशी को मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक यह त्‍योहार हर साल नवंबर में आता है. इस बार देवउठनी एकादशी या तुलसी वि
अंतरिक्ष से भी दिखाई देती है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, अमेरिकी सैटेलाइट ने जारी की तस्वीर

अंतरिक्ष से भी दिखाई देती है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, अमेरिकी सैटेलाइट ने जारी की तस्वीर

india
नेशनल न्यूज़ (एजेंसी) | गुजरात के अहमदाबाद में नर्मदा नदी के किनारे बनी दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी अंतरिक्ष से भी साफ दिखाई देती है। अमेरिका के कमर्शियल सैटेलाइट नेटवर्क- प्लैनेट ने शुक्रवार को 182 मीटर (597 फीट) ऊंची प्रतिमा की अंतरिक्ष से ली गई एक फोटो ट्वीट की। तस्वीर 15 नवंबर को खींची गई थी। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की फोटो जारी करने वाली अमेरिकी कंपनी स्काईलैब है। 2017 में इसरो ने एक साथ 104 सैटेलाइट लॉन्च करने का कीर्तिमान बनाया था। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इसी के साथ स्टैच्यू ऑफ यूनिटी उन कुछ मानव निर्मित संरचनाओं में से है, जो पृथ्वी के ऊपर से भी दिखाई देते हैं। दुबई के तट पर बना पाम आइलैंड, मिस्र का ग्रेट पिरामिड ऑफ गीजा समेत दो अन्य मानव निर्मित संरचनाएं हैं जो अंतरिक्ष से दिखाई देती हैं। इसरो से सैटेलाइट