food

#foodrecipe जानिए छत्तीसगढ़ का फेवरेट नाश्ता “फरा” बनाने की विधि

#foodrecipe जानिए छत्तीसगढ़ का फेवरेट नाश्ता “फरा” बनाने की विधि

food, tourism
हमारा छत्तीसगढ़ धन का कटोरा है। यहाँ चावल की कई प्रजाति उगाई जाती है। उसी तरह यहाँ चावल को कई तरह की डिश बनाकर खायी जाती है। हम आपको फरा बनाने की विधि बता रहे है।  इसे पके हुए चावल (भात) और चावल के आटे से बनाया जाता है। फरा बनाने के लिए सामग्री 1. उबला चावल (भात) - 1 कटोरी 2. चावल का आटा - 2 कटोरी 3. खड़ा तिल - 2 चम्मच 4. खड़ा लाल मिर्च - 1-2 कलियाँ 5. मीठी पत्ती - थोडा सा 6. नमक - स्वादानुसार 7. तेल - तलने के लिए (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बनाने की विधि 1. सबसे पहले भात और चावल आटे को पानी मिलाकर गूंध ले। 2.अब इस गूंधे हुए आटे की छोटी छोटी लोई लेकर उसे पतली बत्ती की तरह बना ले। 3. अब एक कढ़ाई में तेल गरम करे। 4. उसमे तिल, मीठी पत्ती और मिर्ची डालकर तड़का लगाए। 5. अब उसमे पानी (आवश्यकतानुसार उतना पानी डाले जितने में फरा डूब ज
#foodrecipe बनाये करौंदे की चटनी, चटपटे स्वाद के साथ सेहत भी

#foodrecipe बनाये करौंदे की चटनी, चटपटे स्वाद के साथ सेहत भी

food, tourism
बरसात के मौसम में आप सबने करौंदे की चटनी जरुर खाई होगी। कच्चे फलों का खट्टा और पके फलों का खट्टा-मीठा स्वाद हमने बचपन में जमकर लिया है।छत्तीसगढ़ में करौंदे की झाड़ियाँ बहुतायत में पाई जाती थी मगर दूसरे फलों के पौधे का साथ यह भी छत्तीसगढ़ में विलुप्ति के कगा़र पर खड़ी है।90 के दशक में छत्तीसगढ़ी परिवारों की बाड़ियों और खलिहानों में इसकी झाड़ियाँ आवश्यक रूप से रहती थी। करौंदा एक झाड़ी नुमा पौधा है। इसे अंग्रेजी में Cranberry  इसका वैज्ञानिक नाम कैरिसा कैरेंडस (Carissa carandus) है। करौंदे के फलों का उपयोग सब्जी और अचार बनाने में किया जाता है। यह पौधा भारत में राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हिमालय के क्षेत्रों में पाया जाता है।करौंदे की झाड़ियों में फूल आना मार्च के महीने में शुरू हो जाता है और जुलाई से सितम्बर के बीच फल पक जाता है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});