chhattisgarh

ओडिशा के बांध खोलने से बस्तर की नदियां उफान पर बाढ़ की आशंका

ओडिशा के बांध खोलने से बस्तर की नदियां उफान पर बाढ़ की आशंका

chhattisgarh
जगदलपुर में इंद्रावती का पानी खतरे के निशान तक पहुंच गया है। बीजापुर जिले में भोपालपट्टनम और मद्देड़ के बीच नेशनल हाइवे पर डेढ़ सौ मीटर सड़क बह गई है। सुकमा में शबरी का जलस्तर 24 घंटे में 9.89 मीटर बढ़ गया है। इससे आसपास के इलाके में बाढ़ का पानी भरने लगा है। बस्तर | छत्तीसगढ़ के दक्षिणी हिस्से में कुछ दिनोें से हो रही बारिश के चलते कई नदी-नाले उफान पर हैं। ओडिशा ने खातीगुड़ा बांध के दो दरवाजे खोल दिए हैं। इसके कारण बस्तर, बीजापुर और सुकमा जिलों में कई कस्बे बाढ़ से घिरने लगे हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सुकमा में शबरी नदी उफान पर है। इसमें 24 घंटे में पानी चार मीटर बढ़ा है। जगदलपुर में इंद्रावती खतरे के निशान पर पहुंच चुकी है। बीजापुर में बाढ़ में करीब 700 मवेशी बह चुके हैं। 65 मकान ढह गए हैं जबकि 268 मकानों को नुकसान हुआ है। करीब डेढ़ हजार एक
नक्सलियों ने आदिवासियों के वरिष्ठ नेता की गला रेत कर हत्या की

नक्सलियों ने आदिवासियों के वरिष्ठ नेता की गला रेत कर हत्या की

chhattisgarh
राजनादगांव (एजेंसी)| मानपुर में नक्सलियों ने आदिवासियों की एक वरिष्ठ नेता की गला रेत कर हत्या कर दी है। घटना राजनादगांव के मानपुर का है, जहां माओवादियों मानपुर थाने से महज पांच किलोमीटर दूर ग्राम ढ़ब्बा में क्षेत्रीय आदिवासी समाज के वरिष्ठ नेता चैतूराम तुलावी की गाला रेट कर मौत के घाट उतार दिया और गांव से 100 मीटर दूर फेंककर फरार हो गए हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
आज सावन का आखिरी सोमवार, महादेव घाट में करेंगे खारुन मइया की महाआरती

आज सावन का आखिरी सोमवार, महादेव घाट में करेंगे खारुन मइया की महाआरती

chhattisgarh
रायपुर(एजेंसी)। सावन महीने के आखिरी सोमवार की पूर्व संध्या पर रविवार को शिव मंदिरों में सहस्त्राभिषेक का आयोजन किया गया। सुबह शिवलिंग का पंचामृत से अभिषेक किया गया और इसके बाद सैकड़ों श्रद्धालुओं ने जलाभिषेक किया। दोपहर बाद हुई बारिश के बावजूद भक्तों का उत्साह कम नहीं हुआ। बरसते पानी में भी शहर के विभिन्न इलाकों से कांवरियों के पहुंचने का सिलसिला शाम तक चलता रहा। गाजे-बाजे और डीजे की धुन पर भक्ति गीतों के साथ श्रद्धालु कांधे पर कांवर लटकाए और बोल बम, हर-हर महादेव के जयकारे लगाते हुए महादेवघाट की ओर जाते नजर आए। बूढ़ेश्वर मंदिर से लेकर लाखे नगर, सुंदर नगर, रायपुरा चौक होते हुए महादेवघाट तक सड़कों पर शिवभक्ति का माहौल रहा। हटकेश्वर महादेव मंदिर में जल अर्पण करके श्रद्धालुओं ने खारुन नदी से जल कांवर में भरा और अपने इलाके के मंदिरों में पहुंचकर जलाभिषेक किया। महादेवघाट परिसर में भजन गायकों ने
छत्तीसगढ़ सरकार केरल को करेगी 10 करोड़ की मदद, मालगाड़ी से राशन भेजी जाएगी

छत्तीसगढ़ सरकार केरल को करेगी 10 करोड़ की मदद, मालगाड़ी से राशन भेजी जाएगी

chhattisgarh
रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार केरल बाढ़ पीड़ितों को सहायता राशि उपलब्ध करायेगी। केरल बाढ़ पीड़ितों को छत्तीसगढ़ की तरफ से एक रैक चावल और ढ़ाई करोड़ रुपये की सहायता राशि उपलब्ध करायी जायेगी। ये कुल सहायता राशि करीब 10 करोड़ रुपये की होगी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में सीएम हाउस में शनिवार को बैठक हुई। बैठक में केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए चर्चा की गयी। इस बैठक में सीएम सचिवालय के अलावा सभी विभाग के शीर्ष अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद जल्द ही छत्तीसगढ़ से चावल भेजने की प्रक्रिया शुरू की जायेगी। सोमवार तक एक मालगाड़ी चावल लेकर छत्तीसगढ़ से रवाना होगी। इससे पहले मुख्यमंत्री रमन सिंह ने केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयनन से फोन पर बात की। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने केरल सरकार को आश्वस्त किया कि प्राकृतिक आपदा की इस घड़ी में छत्तीसगढ़ सरकार उनके साथ खड़ी है। और सरकार
कल पूरे प्रदेश भर के स्कूलों, दफ्तरों में सार्वजनिक अवकाश घोषित

कल पूरे प्रदेश भर के स्कूलों, दफ्तरों में सार्वजनिक अवकाश घोषित

chhattisgarh
रायपुर | राज्यपाल बलरामदास टंडन के निधन पर छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने कल प्रदेश भर में सार्वजनिक अवकाश का ऐलान किया है। सामान्य प्रशासन छग विभाग की तरफ से आज इस आशय का पत्र सभी जिला कलेक्टरों और विभाग के प्रमुखों को जारी कर दिया है। आदेश में लिखा गया है। “माननीय राज्यपाल स्वर्गीय श्री बलरामजी दास टंडन” का अंतियोष्ठि संस्कार दिनांक 16/08/2018 को चंडीगढ़ में संपन्न होगा। राज्य शासन एतद द्वारा दिनांक 16/08/2018 को राज्य के सभी कार्यालयों के लिए सार्वजनिक अवकाश घोषित करता है। https://twitter.com/GondwanaExp/status/1029719428085121025/photo/1 आपको बता दें कि राज्यपाल बलरामजी दास टंडन का निधन कल रायपुर में दिल का दौरा पड़ने से हो गया था। इस निधन पर राज्य सरकार ने सात दिन का राजकीय शोक का ऐलान किया है। छत्तीसगढ़ राज्य सरकार के इस आदेश के बाद कल प्रदेश के सभी स्कूलो, कार्यालयों व अन्य सरकार स
गोंडवाना एक्सप्रेस की ओर से आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

गोंडवाना एक्सप्रेस की ओर से आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

chhattisgarh
इस 72 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गोंडवाना एक्सप्रेस (www.gondwanaexpress.com) की तरफ से हार्दिक शुभकामनाये। स्वतंत्रता दिवस हमें उन बलिदानों की याद दिलाता है जो हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने ब्रिटिश शासन की गुलामी से भारत को आज़ाद कराने के लिए दे दी। यह स्वतंत्रता दिवस हमें उन लोगों को याद रखने देता है जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपनी जान का त्याग किया। स्वतंत्रता के पिछले सात दशकों में, भारत ने शिक्षा से खगोल विज्ञान तक हर क्षेत्र में प्रगति की है। जीवन के सभी क्षेत्रों और समाज के हर वर्ग के लोग स्वतंत्र होने की भावना का जश्न मनाते हैं। देशभक्ति की भावना कार्यालयों, स्कूलों और सार्वजनिक स्थानों में तिरंगा फहराया जाता है। इस 72 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गोंडवाना एक्सप्रेस (www.gondwanaexpress.com) की तरफ से हार्दिक शुभकामनाये। (adsbygoogle = window.adsb
राज्यपाल का निधन: ध्वजारोहन होगा, नहीं होगा कोई भी सांस्कृतिक कार्यक्रम, आदेश जारी

राज्यपाल का निधन: ध्वजारोहन होगा, नहीं होगा कोई भी सांस्कृतिक कार्यक्रम, आदेश जारी

chhattisgarh
रायपुर। राज्यपाल बलराम दास जी टंडन के निधन के बाद छत्तीसगढ़ में 14 अगस्त से 20 अगस्त तक 7 दिनों का राजकीय शोक घोषित किया गया है। शोक के दौरान शासकीय भवन में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है, वहां ध्वज आधे झुकाया जाएंगे। स्वतंत्रता दिवस के पर किसी भी प्रकार का मनोरंजक या सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होगा। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
PM नरेन्द्र मोदी ने राज्यपाल के निधन पर किया ट्वीट, कहा हमने सम्मानित सार्वजनिक व्यक्ति खो दिया…

PM नरेन्द्र मोदी ने राज्यपाल के निधन पर किया ट्वीट, कहा हमने सम्मानित सार्वजनिक व्यक्ति खो दिया…

chhattisgarh
रायपुर। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामदास जी टंडन के निधन पर पीएम नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट करके अपनी संवेदना व्यक्त की है। उन्होने कहा कि, "छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन के निधन से दुखी। हमने व्यापक रूप से सम्मानित सार्वजनिक व्यक्ति खो दिया है जिसकी समाज सेवा हमेशा याद रखा जाएगा। दुख के इन क्षणों में मेरे विचार उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं।" Saddened by the demise of Shri Balramji Dass Tandon, the Governor of Chhattisgarh. We have lost a widely respected public figure whose service to society will always be remembered. My thoughts are with his family and well-wishers in this hour of grief. — Narendra Modi (@narendramodi) August 14, 2018 (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); उन्होने कहा कि, "बलरामजी दास टंडन ने दशकों में पंजाब में शांति और प्रगति
राज्यपाल बलरामजीदास टंडन का निधन, दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में कराया गया था भर्ती

राज्यपाल बलरामजीदास टंडन का निधन, दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में कराया गया था भर्ती

chhattisgarh
राज्यपाल बलरामजीदास टंडन का निधन… दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में कराया गया था भर्ती….सुबह 8 बजे आया था हार्ट अटैक रायपुर ।  राज्यपाल बलरामदास टंडन का निधन हो गया, वो 91 साल के थे। आज सुबह करीब 8 बजे उन्हें दिल का दौरा पड़ा था, जिसके बाद उन्हें राजभवन के अस्पताल में प्रारंभिक जांच के तुरंत बाद रायपुर के आंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डाक्टरों ने जांच के उपरांत मृत घोषित कर दिया। राज्यपाल बलरामदास टंडन को सुबह करीब साढ़े 9 बजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जानकारी के मुताबिक अस्पताल में तत्काल उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया, डाक्टरों की लंबी कोशिशों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); राज्याल बलरामदास टंडन की तबीयत का हाल जानने मुख्यमंत्री रमन सिंह, विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल सहित कई मंत्री
हरेली पर आज से अभियान, गांव-गांव जाकर बताएंगे-कोई महिला टोनही नहीं

हरेली पर आज से अभियान, गांव-गांव जाकर बताएंगे-कोई महिला टोनही नहीं

chhattisgarh
जादू-टोने के संबंध में, टोनही प्रताड़ना के खिलाफ लोगों को जागरूक करने ग्राम सभा सरपंचों से टोनही प्रताड़ना के विरोध में शपथ दिलवाई जाएगी। दुर्ग | गांवों में महिलाएं आज भी टोनही प्रताड़ना का शिकार हो रही हैं। इस युग में ऐसे भ्रम चिंताजनक है। ग्रामीणों का यही भ्रम दूर करने का बीड़ा उठाया है अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने। यह समिति शनिवार को हरेली से पूरे एक हफ्ते गांवों में जाकर ग्रामीणों को जागरूक करेगी। इस मुहिम को नाम दिया है, कोई नारी टोनही नहीं...। गांववालों से कहा जाएगा कि जादू-टोने का कोई अस्तित्व नहीं है। भूत-प्रेत, टोनही का खौफ सिर्फ भ्रम है। बीमारियों से बचने के लिए गांव को तंत्र-मंत्र से बांधने के बजाय स्वास्थ्य सुरक्षा के नियमों का पालन करें। समिति के अध्यक्ष डॉ. दिनेश मिश्र ने कहा कि इस मुहिम के तहत दुर्ग जिले के पाटन ब्लाॅक के ग्राम तेलीगुंडरा में ग्रामसभा होगी। (ad