business

भारत से इन 50 वस्तुओं के निर्यात पर अमेरिका लगाएगा शुल्क, ट्रम्प का आदेश 1 नवंबर से लागु

भारत से इन 50 वस्तुओं के निर्यात पर अमेरिका लगाएगा शुल्क, ट्रम्प का आदेश 1 नवंबर से लागु

business
बिजनेस न्यूज़ (एजेंसी) | अमेरिका ने 90 वस्तुओं को ड्यूटी फ्री आयात की सूची से हटा दिया है। यानी इन वस्तुओं के आयात पर अमेरिका में अब शुल्क लगेगा। भारत इनमें से करीब 50 वस्तुओं का निर्यात अमेरिका को करता है। इनमें ज्यादातर हैंडलूम और कृषि क्षेत्र के उत्पाद हैं, जिन्हें छोटे-मझोले कारोबारी तैयार करते हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का यह आदेश 1 नवंबर से लागू हो गया है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ट्रंप प्रशासन के इस फैसले से भारत का कितना निर्यात प्रभावित होगा, यह अभी स्पष्ट नहीं है। 2017 में भारत ने जीएसपी के तहत अमेरिका को 5.6 अरब डॉलर का ड्यूटी फ्री निर्यात किया था। अमेरिका को कुल निर्यात 47.8 अरब डॉलर का था। अमेरिका ने इन वस्तुओं को अभी तक जनरलाइज्ड सिस्टम आफ प्रेफरेंस (जीएसपी) के तहत रखा था। इस सूची में शामिल वस्तुओं पर वहां आयात शुल्क नहीं लगता है
शेयर मार्केट में आज भारी गिरावट से DHFL को हुआ करोड़ो का घाटा, ये रही वजहें

शेयर मार्केट में आज भारी गिरावट से DHFL को हुआ करोड़ो का घाटा, ये रही वजहें

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | शुक्रवार को शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव देखने मिला। कुछ खास बैंकों और हाउसिंग फाइनेंस कंपनी की शेयरों में हुई भारी बिकवाली से सेंसेक्‍स में 1100 अंकों से ज्‍यादा की गिरावट देखी गई। हालांकि, बंद होते समय यह गिरावट 279.62 अंकों की रही और सेंसेक्‍स 36841.60 अंकों पर बंद हुआ। निफ्टी भी 91.25 अंकों की गिरावट के साथ 11143.10 अंकों पर बंद हुआ। विशेषज्ञों के अनुसार, क्रूड ऑयल की बढ़ती कीमतें, डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी और कमजोर वैश्विक संकेतों के कारण शेयर बाजार में गिरावट हुई। विशेषज्ञों ने शुक्रवार को आई गिरावट के लिए IL&FS के वित्‍तीय संकट और RBI द्वारा यस बैंक के एमडी और सीईओ राणा कपूर को सेवा विस्‍तार न दिए जाने को जिम्‍मेदार ठहराया है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इन कंपनियों के शेयरो में हुई भारी गिरावट DHFL के शेयर 4
बेटी के भविष्य को समृद्ध बनाने के लिए खुलवाए ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ में खाता, ये है तरीका जानिए इसके फायदे

बेटी के भविष्य को समृद्ध बनाने के लिए खुलवाए ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ में खाता, ये है तरीका जानिए इसके फायदे

business
हर माता-पिता अपने बच्‍चों के उज्‍ज्‍वल भविष्‍य का सपना देखती है। अगर आपके घर में नन्‍ही बिटिया हो तो उसके समृद्ध भविष्‍य के लिए मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई सुकन्‍या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) योजना का लाभ उठाना चाहिए। 1 अक्‍टूबर 2018 से इस योजना पर न सिर्फ पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) की तुलना में आधा फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज मिलेगा बल्कि, यह माता-पिता की टैक्‍स प्‍लानिंग में भी मददगार होता है। इस योजना में आप अपनी 10 साल तक उम्र की बेटी के लिए यह खाता खुलवा सकते हैं। इस पर वर्तमान में 8.1 फीसदी सालाना का ब्‍याज मिल रहा है जो 1 अक्‍टूबर 2018 से 8.5 फीसदी हो जाएगा। वहीं पीपीएफ (PPF) पर अभी 7.6 फीसदी ब्‍याज मिल रहा है जो 1 अक्‍टूबर 2018 से 8 फीसदी हो जाएगा। ये है सुकन्‍या समृद्धि योजना का खाता खुलवाने की विधि सुकन्‍या समृद्धि योजना का खाता आप किसी भी पोस्‍ट ऑफिस या बैं
किसानों को एमएसपी दिलाने के लिए नई खरीद नीति ‘अन्नदाता आय संरक्षण अभियान (पीएम-आशा)’ को कैबिनेट की मंजूरी

किसानों को एमएसपी दिलाने के लिए नई खरीद नीति ‘अन्नदाता आय संरक्षण अभियान (पीएम-आशा)’ को कैबिनेट की मंजूरी

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | केंद्र सरकार ने बुधवार को नई फसल खरीद नीति को मंजूरी दे दी। इसके तहत यदि तिलहन किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम पर फसल बेचने की नौबत आई तो सरकार कीमत में अंतर का भुगतान करेगी। इसे अन्नदाता आय संरक्षण अभियान (आशा) नाम दिया गया है। कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने बताया कि दो साल के लिए 15,053 करोड़ मंजूर किए गए हैं। इस साल 6,250 करोड़ रु. खर्च होंगे। इस नीति का मकसद तिलहन उत्पादन बढ़ाना और खाद्य तेल का आयात कम करना है। देश हर साल 1.4 से 1.5 करोड़ टन खाद्य तेल आयात करता है। यह घरेलू जरूरत का 70% है। कृषि मंत्री ने स्पष्ट किया कि धान-गेहूं जैसी फसलों के लिए पहले से जारी खरीद योजनाएं जारी रहेंगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रमोदी ने ट्वीट कर कहा, "देश का हर नागरिक हमारे मेहनतकश किसानों का आभारी है। हम 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के सपने को पूरा करने के ल
आइडिया-वोडाफोन का विलय पूरा, 38 फीसदी मार्केट शेयर के साथ बनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

आइडिया-वोडाफोन का विलय पूरा, 38 फीसदी मार्केट शेयर के साथ बनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | आइडिया सेल्युलर और वोडाफोन इंडिया के बीच विलय पूरा होने के साथ देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी अस्तित्व में आ गई है। नई कंपनी का नाम वोडाफोन आइडिया लिमिटेड होगा। 44.33 करोड़ ग्राहक संख्या के साथ इसकी 38.67% बाजार हिस्सेदारी होगी। इस विलय के साथ भारती एयरटेल पहले से दूसरे नंबर पर खिसक गई है। इसके 34.45 करोड़ ग्राहक हैं और 30.5% की बाजार हिस्सेदारी है। वहीं, 21.52 करोड़ ग्राहकों के साथ रिलायंस जियो तीसरी बड़ी टेलीकॉम कंपनी है। इसकी 18.78% बाजार हिस्सेदारी है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); आइडिया और वोडाफोन 1.6 लाख करोड़ रुपए के इस विलय के सौदे से अपने खर्चों में 14,000 करोड़ रुपए की कटौती कर पाएंगी। साथ ही घरेलू बाजार में रिलायंस जियो से मिल रही प्रतिस्पर्धा का सामना भी अच्छी तरह कर पाएंगी। इस सौदे में वोडाफोन इंडिया की वैल्यू 82,800 करोड़ रुप
बिना लाइसेंस ऑनलाइन दवाएं नहीं बेच सकेंगी ई-फार्मेसी कंपनियां 

बिना लाइसेंस ऑनलाइन दवाएं नहीं बेच सकेंगी ई-फार्मेसी कंपनियां 

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | अब देश में ऑनलाइन दवा बेचने वाली कंपनिया रजिस्ट्रेशन कराए बिना कारोबार नहीं कर सकेंगी। जो भी ई-फार्मेसी कंपनियां ऑनलाइन दवाएं बेचेंगी उनके नाम सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) की वेबसाइट पर सार्वजनिक किए जाएंगे। यही नहीं, सीडीएससीओ की ओर से एक लोगो भी जारी किया जाएगा जो इन कंपनियों के पोर्टल पर होगा। इससे असली-नकली की पहचान हो सकेगी। अभी ऑनलाइन दवा खरीदने वालों को क्वालिटी का पता नहीं होता। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया डॉ. एस. ईश्वरा रेड्डी ने शनिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया, 'देशभर में ई-फार्मेसी सालाना 3000 करोड़ रुपए का है। यह 100% सालाना की दर से बढ़ रहा है। इसलिए इसको रेगुलेट करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी किया गया है और 45 दिन के भीतर सभी स्टेकहोल्डर्स से राय मांगी गई है।' डॉ. रेड्‌डी ने कहा, '
Flipkart-Walmart Deal: ट्रेडर्स ने ट्रिब्यूनल से किया आग्रह वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील रद्द करें

Flipkart-Walmart Deal: ट्रेडर्स ने ट्रिब्यूनल से किया आग्रह वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील रद्द करें

business
नई दिल्ली (एजेंसी)| अमेरिकी रिटेल कंपनी वालमार्ट द्वारा फ्लिपकार्ट को खरीदने का मामला नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) में पहुंच गया है। ट्रेडर्स के संगठन कैट ने मंगलवार को इसके खिलाफ याचिका दायर की। इसमें डील को प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) से मिली मंजूरी को चुनौती दी गई है। कैट ने अपीलेट ट्रिब्यूनल से सौदे को रद्द करने का आग्रह किया है। प्रतिस्पर्धा आयोग ने 8 अगस्त को सौदे को मंजूरी दी थी। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने बयान में कहा कि सौदे के खिलाफ आयोग में आपत्तियों का विस्तृत दस्तावेज जमा किया गया था। संगठन के अनुसार आयोग ने यह तो माना कि ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म पर डिस्काउंट और लागत से कम दाम पर माल बेचा जाता है, लेकिन उसने यह कहकर सौदे को मंजूरी दे दी कि यह उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं है (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वालमार्ट-फ
स्किल इंडिया : सर्टिफिकेट लेने वालों को मिलेगा दो लाख रुपए का बीमा

स्किल इंडिया : सर्टिफिकेट लेने वालों को मिलेगा दो लाख रुपए का बीमा

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) के तहत सर्टिफिकेट लेने वाले युवाओं को दो लाख रुपए का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा मिलेगा। यह बीमा तीन साल के लिए होगा। सरकार उन्हें डिजिटल लॉकर की सुविधा भी देगी। उन्हें ट्रेनिंग पूरी करने के बाद स्किल सर्टिफिकेट डिजिटल लॉकर में मिलेगा। पीएमकेवीवाई का उद्देश्य युवाओं को उद्योगों से जुड़ी ट्रेनिंग देना है ताकि उन्हें रोजगार पाने में मदद मिल सके। इसमें ट्रेनिंग की फीस सरकार भरती है। कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय में संयुक्त सचिव और सीवीओ राजेश अग्रवाल ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया, मंत्रालय की इस योजना का संचालन नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (एनसीडीसी) कर रहा है। कौशल बीमा मुहैया कराने के लिए न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी से गठजोड़ किया गया है। इसके तहत ट्रेनिंग पूरी करने वाले युवाओं की दुर्घटना में मृत्यु या स
गूगल पे एप से लोन का आवेदन करें, पैसे तत्काल खाते में आएंगे

गूगल पे एप से लोन का आवेदन करें, पैसे तत्काल खाते में आएंगे

business
दिल्ली (एजेंसी) | गूगल अपने पेमेंट एप गूगल पे पर नई सेवा शुरू करने जा रही है। एप के जरिए बैंकों के ग्राहक प्री-अप्रूव्ड लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। लोन की रकम तत्काल उनके बैंक खाते में जमा हो जाएगी। फिलहाल इसने चार बैंकों- आईसीआईसीआई, कोटक महिंद्रा, फेडरल और एचडीएफसी बैंक से समझौता किया है। इनकी सेवाएं शुरू होने में कुछ हफ्ते लगेंगे। गूगल ने पिछले साल सितंबर में तेज नाम से पेमेंट एप लांच किया था। उसका नाम बदलकर गूगल पे किया गया है। कंपनी का दावा है कि हर महीने इसके 2.2 करोड़ सक्रिय यूजर हैं। सालभर में इन्होंने 75 करोड़ ट्रांजैक्शन में दो लाख करोड़ रुपए का लेनदेन किया है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});