Chhattisgarh

रायपुर में 500 से ज्यादा पहुंची मरीजों की संख्या, दूषित पानी की आपूर्ति के कारण पीलिया का प्रकोप

बिलासपुर | छत्तीसगढ़ में कोराेना के साथ अब पीलिया ने भी पैर पसारना शुरू कर दिया है। इसकी शुरुआत रायपुर से हो चुकी है। शहर में पीलिया मरीजों की संख्या अब 519 तक पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे में पीलिया के 36 नए मरीज मिले हैं। पीलिया पीड़ितों में 6 साल का बच्चा भी शामिल है। इनमें 32 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। इसे देखते हुए हाईकोर्ट से नियुक्त न्यायमित्र ने निगम कमिश्नर को पत्र लिखकर प्रभावित इलाकों में टैंकर से पानी सप्लाई करने के लिए कहा है।

न्यायमित्र सौरभ डांगी ने बताया कि हाईकोर्ट में जनहित याचिका लंबित है। इसमें पीने योग्य पानी और रायपुर शहर में ई-कोलाई बैक्टीरिया की उपस्थिति को लेकर याचिका दायर की गई है। विभिन्न वार्डों में निगम के दूषित पानी की आपूर्ति के कारण पीलिया व हेपेटाइटिस ई का प्रकोप हुआ है। इसके लिए निगम आयुक्त को पत्र लिखा है। उनसे सबसे ज्यादा प्रभावित नहरपारा और मोवा में हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में टैंकर से पानी सप्लाई करने की बात कही है।

अधिवक्ता मनोज परांजपे, अमृतो दास व सौरभ डांगी को बनाया गया है न्यायमित्र

पत्र में यह यह भी लिखा है कि निगम पीने योग्य पानी उसी मैकेनिज्म से पीलिया प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचाएं जैसा कि हाईकोर्ट ने निर्धारित किया है। वहां की नालियों से जाने वाली पेयजल लाइन को बदले। पिछले वर्ष बिलासपुर, रायपुर, दुर्ग सहित राज्य के विभिन्न जिलों में पीलिया फैला था। ऐसे में हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका दायरपर तीन अधिवक्ताओं अधिवक्ता मनोज परांजपे, अमृतो दास और सौरभ डांगी को न्यायमित्र नियुक्त किया है।

रायपुर के 58 इलाकों से लिया सैंपल, 32 जगह दूषित पानी

नेहरू मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने शहर के 58 इलाकों से पानी के सैंपल लिए। इनमें से 32 जगहों के पानी में ई-कोलाई, क्लेबसिएला और स्यूडोमोनास बैक्टीरिया मिले हैं। फिलहाल शहर के आमापारा, मंगलबाज़ार, डीडी नगर, महामाया पारा, मंगल बाजार, वासुदेव पारा, चांगोराभाठा, दलदल सिवनी, मोवा, टाटीबंध, अटारी, महामाया पारा, चूड़ामणि, उरकुरा, उरला समेत बीरगांव में पीलिया के मरीज आए हैं।

Leave a Reply