Chhattisgarh

बीजापुर : 54 हजार 334 परिवारों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत् गरीब परिवारों को मिल रहा निःशुल्क राशन

बीजापुर. कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में किसी को भूखा सोने नहीं देंगे। जरूरतमंदों को किसी प्रकार की परेशानी होने नहीं देंगे। राज्य में 56 लाख राशन कार्डधारियों को निःशुल्क राशन देने का फैसला किया गया। नये राशन कार्ड बनाने का कार्य भी युद्धस्तर पर चल रहा है। राज्य सरकार ने यह भी तय किया है, कि ऐसे जरूरतमंद लोग जिनके पास वर्तमान में किसी कारणवश राशनकार्ड नहीं हैं, उन्हें भी एक माह का राशन निःशुल्क प्रदान करने की व्यवस्था की गयी है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार लॉकडाउन के दौरान खाद्य विभाग बीजापुर द्वारा जिले के सभी 54 हजार 334 बीपीएल कार्डधारियों को शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से दो माह का निःशुल्क चावल एवं नमक का वितरण किया जा रहा है। इसके साथ ही जिले के एपीएल 3 हजार 84 कार्डधारियों को 10 रूपए की दर से अप्रैल माह का चावल वितरण किया जा रहा है। इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान शासन के निर्देशानुसार बिना राशन कार्डधारी लोगों को जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायत के माध्यम से राशन उपलब्ध कराई गई है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा लॉक डाउन के दौरान जिले में प्रभावित श्रमिकों, जरूरतमंदो को भी मुफ्त में राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। इसमें स्वयंसेवी संस्थाओं के द्वारा भी सहयोग किया जा रहा है।

खाद्य विभाग बीजापुर से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के चारों विकासखण्ड में 157 शासकीय उचित मूल्य की दुकान संचालित की जा रही है। जिले में 54 हजार 334 गरीब राशन कार्डधारक है। सभी शासकीय राशन दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए निर्धारित दूरी पर गोल मार्क किया गया है, जिसमें राशन लेने के लिए आए लोग में सामान्य दूरी बना रहे।

जिला खाद्य अधिकारी ने बताया कि जिले के अन्त्योदय बीपीएल कार्डधारियों को प्रति कार्ड 35 किलों चावल एवं प्रति कार्ड 2 किलो अमृत नमक के हिसाब से अप्रैल और मई माह के लिए एक मुश्त निःशुल्क चावल और नमक प्रदान किया जा रहा है। इसके अलावा शक्कर, चना, गुड़ भी प्रदान किया जा रहा है। एपीएल राशन कार्ड धारियों को केवल अप्रैल माह के लिए प्रति किलो 10 रूपए की दर पर चावल प्रदान किया जा रहा है।

Leave a Reply