File Photo
Chhattisgarh

दंतेवाड़ा-बीजापुर की सीमा से लगे जंगलों में मुठभेड, पुलिस ने एक नक्सली मार गिराया, नक्सलियों ने आरक्षक सहित दो को मारा

दंतेवाड़ा | दंतेवाड़ा और बीजापुर की सीमा पर पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़ हुई है। गुरुवार को हुई इस मुठभेड़ में एक नक्सली के मारे जाने की खबर है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक फायरिंग हुर्रेपाल के जंगल में हुई। वही, मुठभेड़ में मारे गए नक्सली का शव गुरुवार को बरामद कर लिया गया।

देर रात वापस लौटी टीम ने दंतेवाड़ा एसपी को इसकी जानकारी दी। एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि फिलहाल यही पता चला है कि मारा गया नक्सली तीन सालों से नक्सलियों के लिए काम कर रहा था। हमने इसके परिजन को भी सूचित किया है। उनसे भी जानकारी ली जा रही है।

दंतेवाड़ा-बीजापुर की सीमा में हुई मुठभेड़ के जवानों को किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है। मुठभेड़ स्थल से पुलिस को बंदूक, पिस्टल, कुछ कारतूस और नक्सलियों के सामान मिले हैं। इसमें जैकेट, वर्दी और दवाएं हैं। यह मुठभेड़ हुर्रेपाल के जंगल में हुई थी। इलाके में नक्सलियों के जमा होने के इनपुट पर बीजापुर और दंतेवाड़ा डीआरजी की टीमें सर्चिंग के लिए निकलीं थी। कुछ अन्य नक्सली फायरिंग के बाद भागने में कामयाब रहे।

तीसरी बार मूसरघाट में मिला बम, बीजापुर में नक्सलियों ने आरक्षक सहित दो को मारा

कांकेर जिले का मूसरघाट नक्सली दृष्टिकोण से हाट स्पाट बनता जा रहा है। यहां नक्सली बार बार बम लगा फोर्स को नुकसान पहुंचाने प्रयास कर रहे हैं। लाकडाउन के दौरान तीसरी बार बुधवार को मुसरघाट से 5 किलो का कुकर बम मिला। पिछले एक माह में यहां से चार बार में 17 बम बरामद किए जा चुके हैं। नक्सली यहां बड़ी वारदात की फिराक में हैं। वहीं बस्तर में नक्सलियों ने सहायक आरक्षक सहित दो की हत्या कर दी।

परतापुर थानांतर्गत महला बीएसएफ कैंप से पुलिस व बीएसएफ जवान 15 अप्रैल को गश्त पर बम डिटेक्टर के साथ निकले थे। मुसरघाट के पास सड़क से 800 मीटर अंदर जवानों को बम डिटेक्टर से रेड सिग्नल मिला। आसपास खुदाई की तो पांच किलो का कुकर बम मिला। रिमोट से ऑपरेट होने वाले इस बम को जवानों ने विस्फोट कर मौके पर ही नष्ट कर दिया। फोर्स को नुकसान पहुंचाने नक्सली मूसरघाट में लगातार बम प्लांट कर रहे हैं।

महला कैंप के जवानों को निशाना बनाने पिछले दो माह में कई बार कोशिश कर चुके हैं। ग्राम परतापुर से महला तक सडक़ निर्माण कार्य चल रहा है, जिसका नक्सली विरोध कर रहे हैं। इस सड़क निर्माण को बीएसएफ जवान सुरक्षा दे रहे हैं। नक्सली इस निर्माण को रोकना चाहते हैं इसलीए वे जवानों को निशाना बनाने बार-बार बम लगा रहे हैं। गत 20 फरवरी को नक्सलियों ने ग्राम महला के आगे बहने वाली मेढ़की नदी पुल निर्माण में लगे ठेकेदार के मुंशी की हत्या कर दी थी।

दो इनामी नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

नक्सल सेल कार्यालय में गुरुवार को एक-एक लाख रुपए के इनामी दो नक्सलियों ने पुलिस व सीआरपीएफ अफसरों के सामने आत्मसमर्पण किया। सरेंडर नक्सलियों में पोलमपल्ली थाना क्षेत्र निवासी महिला नक्सली कवासी भीमे व मलकानगिरी जिले के माथली थाना क्षेत्र निवासी सोमारु धुरवा शामिल हैं। बताया गया कि भीमे वर्तमान में किसान आदिवासी मजदूर संघ अध्यक्ष के रूप में सक्रिय थी।

Leave a Reply