प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं के बीच EVM का प्रदर्शन, कलेक्टर ने युवाओं से 23 अप्रैल को वोट डालने की अपील

बलौदाबाजार (एजेंसी) | जिले में स्वीप कार्यक्रम के अंतर्गत यहां जिला ग्रंथालय में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे सैकड़ों युवाओं के बीच ईव्हीएम मशीन का प्रदर्शन किया गया। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कार्तिकेया गोयल स्वयं इन युवाओं को ईव्हीएम मशीन की खूबी और चुनाव प्रक्रिया की बारीकियों से अवगत कराया। उन्होंने इन युवाओं को तीसरे चरण में 23 अप्रैल को स्वयं वोट डालने और अपने परिवार सहित आस-पास के लोगों से वोट डालने के लिए प्रेरित करने का आह्वान भी किया।

गोयल ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं में कामयाब होने का कोई शार्टकट रास्ता नहीं है। अपने लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित करके कड़ी मेहनत और धैर्य से ही सफलता मिलेगी। जिला पंचायत के सीईओ श्री एस.जयवर्धन और जिला शिक्षा अधिकारी श्री ए.के.भार्गव भी इस अवसर पर उपस्थित थे। कार्यक्रम का आयोजन जिला स्तरीय स्वीप समिति और निर्वाचन साक्षरता क्लब द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

कार्यक्रम में कलेक्टर भी रहे मौजूद

कलेक्टर गोयल शनिवार को शाम करीब घण्टे भर यहां जिला ग्रंथालय में इन युवाओं के बीच बिताए। उन्होंने इन युवाओं को लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए चुनाव प्रक्रिया में हिस्सेदारी निभाने का आग्रह किया। कलेक्टर ने बताया कि बड़ी मेहनत और काफी सोच-विचार के बाद भारत चुनाव आयोग द्वारा निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिए ईव्हीएम मशीन तैयार किए गए हैं। ये इतने पुख्ता तरीके से बनाए गए हैं कि इन्हें कोई हैक नहीं कर सकता।

उन्होंने बताया कि कन्ट्रोल यूनिट, व्हीव्हीपैट और बैलेट यूनिट को मिलाकर ईव्हीएम मशीन बनता हैं। व्हीव्हीपैट मशीन एक तरह से प्रिन्टर की तरह होता है। मतदाता जिस प्रत्याशी को वोट करेगा, कुछ समय के लिए व्हीव्हीपैट में इसे देख सकता है। उन्होंने कहा कि चुनाव संबंधी प्रत्येक प्रक्रिया बड़ी सावधानी, सुरक्षित और पारदर्शिता पूर्ण तरीके से संपन्न की जाती है। राजनीतिक दलों और चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों की मौजूदगी और उन्हें विश्वास में लेकर सभी काम किए जाते हैं।

स्टडी सर्कल के रूप में विकसित हो रहा जिला ग्रंथालय

उल्लेखनीय है कि जिला मुख्यालय के चक्रपाणि स्कूल परिसर में संचालित जिला ग्रन्थालय स्टडी सर्कल के तौर पर विकसित हो रहा है। ग्रंथालय में प्रतियोगी परीक्षा सहित विभिन्न प्रकार की सात हजार के लगभग किताबें उपलब्ध हैं। बड़ी संख्या में युवक-युवतियां यहां पढ़ने के लिए आते हैं। ई-लाईब्रेरी की सुविधा में यहां निःशुल्क रूप से उपलब्ध है। छत्तीसगढ़ पीएससी द्वारा आयोजित मुख्य परीक्षा को ध्यान में रखते हुए एक नया बैच सोमवार से शुरू हो रहा है। स्थानीय काॅलेजों के पांच प्रोफेसरों ने यहां स्वैच्छिक तौर से पढ़ाने का जिम्मा उठाया है। इनमें डीके. काॅलेज के असिस्टेण्ट प्रोफेसर डाॅ. शशिकांत त्रिपाठी सहित सहायक प्राध्यापक अजय मिश्रा, सहायक प्राध्यापक नरेन्द्र देव मिर्झा, सहायक प्राध्यापक लकेश्वरी साहू तथा रिसदा स्कूल के व्याख्याता रमेश नेगी शामिल हैं। उनके द्वारा पीएससी के सिलेबस के आधार पर विभिन्न विषयों को रोचक तरीके से शाम 6 से 8 बजे तक पढ़ाया जाएगा।

जिला कलेक्टर गोयल ने यहां स्वैच्छिक आधार पर सेवा देने वाले प्रोफेसरों की सराहना की। उन्होंने कहा कि वास्तविक खुशी तो हमे तब होगी जब हमारे बलौदाबाजार जिले से ज्यादा से ज्यादा बच्चे राज्य स्तर पर प्रतियोगी परीक्षाओं में कामयाबी का पताका फहराएं। उन्होंने युवाओं को अपना लक्ष्य पाने तक सोशल मीडिया से दूर रहने का सबक भी दिया। जिला पंचायत के सीईओ जयवर्धन ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए यह ग्रंथालय काफी उपयोगी साबित होगा।

तैयारी कर रहे बच्चों के सामूहिक रूप से पढ़ाई करने से प्रतियोगिता की गहराई का अंदाजा होता है। इस अवसर पर नायब तहसीलदार अंजली शर्मा ने लोकतंत्र में एक-एक वोट के महत्व को स्वीप कार्यक्रम के अंतर्गत बताया। बच्चों की जिज्ञासाओं का समाधान भी किया गया। युवक-युवतियों ने इस अवसर पर आगामी 23 अप्रैल को अनिवार्य रूप से मतदान करने की शपथ भी दोहराया। आभार प्रदर्शन जिला मिशन समन्वयक सोमेश्वर राव ने किया। सैकड़ो की संख्या में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवक-युवतियों और शिक्षक इस मौके पर मौजूद थे।

Leave a Reply