Chhattisgarh Politics

बलौदाबाजार : राज्य सरकार के कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से अघोषित अवकाश, नहीं खुले कई कार्यालयों के ताले

बलौदाबाजार, जिला मुख्यालय सहित समूचे छत्तीसगढ़ राज्य में आज कर्मचारी फेडरेशन संघ के तत्वावधान में सामूहिक रूप से अवकाश लेकर सभी अधिकारी कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन हड़ताल पर चले गए। जिस से पूरी तरह सरकारी कामकाज ठप हो गया। लोग दफ्तरों के चक्कर लगाते नजर आए। किंतु काम होने के बजाय उन्हें सिर्फ आफिसों में तालाबंदी नजर आई। ज्ञात हो कि केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों को मंहगाई भत्ता 28% दे दिया है। जब कि राज्य के कर्मचारियों को सिर्फ 12% महंगाई भत्ता मिल रहा है। इस असमानता को दूर करने कर्मचारी संगठन एकजुट हो गए हैं। उन्होंने पहले भी कई बार राज्य सरकार से महंगाई भत्ता बढ़ाने की मांग की है, किंतु सरकार कर्मचारियों की सुनने को तैयार नहीं है। लगातार उनकी मांगों की अनदेखी कर रही है। जिसके कारण मजबूर होकर कर्मचारियों को यह कदम उठाना पड़ा। एक ओर राज्य सरकार अपने आप को केंद्र सरकार से बेहतर कार्य करने का दावा करती है, दूसरी ओर कर्मचारियों की वाजिब मांगों को अनसुना कर रही है।

जब कि कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के प्रमुख नेता राहुल गांधी ने खुद प्रधानमंत्री से मांग की थी कि कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ाया जाए। किंतु राज्य सरकार अपने केंद्रीय नेतृत्व के नैता द्वारा उठाई गई आवाज को भी नहीं सुन पा रही है। अब कर्मचारी संगठन के पदाधिकारियों ने राहुल गांधी के छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान उनसे मुलाकात कर महंगाई भत्ता बढ़ाने की मांग करेंगे । एक ओर सभी शासकीय दफ्तर बंद रहने से लोग भटकते नजर आए वहीं दूसरी ओर आज से स्कूल खुलने वाले थे। स्कूलों में भी तालाबंदी नजर आई। राज्य सरकार की कथनी और करनी में अंतर के परिणाम प्रत्यक्ष दिखाई दे रहे हैंl तहसीलदार महोदय को मुख्यमंत्री महोदय एवं मुख्य सचिव के नाम ज्ञापन सौंपते हुए, फेडरेशन के पदाधिकारी गण एलएस ध्रुव जिला संयोजक पीके हिरवानी जिला अध्यक्ष छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ वीरेंद्र कुमार सिरमौर जी जिलाध्यक्ष डिप्लोमा इंजीनियर संघ राम लाल साहू जी लिपिक संघ बीएल दिवाकर जी अविनाश तिवारी जिलाध्यक्ष शिक्षक फेडरेशन श्रीमती सरोज बाघमार प्रांत अध्यक्ष एवं प्रवक्ता फेडरेशन वेद राम ध्रुव जी लघु वेतन कर्मचारी संघ जिला अध्यक्ष इत्यादि द्वारा ज्ञापन सोते हुए