Gondwana Special Tourism

हरतालिका तीज व्रत आज: रात 11.11 से लेकर 1.10 बजे तक पूजा का शुभ मुहूर्त, सुबह से चतुर्थी

भादो मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर हर साल की तरह इस बार भी हर तालिका तीज का व्रत मनाया जाएगा। शुक्रवार को सुबह से विवाहित महिलाएं सुहाग की लंबी आयु और अविवाहित युवतियां योग्य वर की कामना से यह व्रत रखेंगी। इस दिन भगवान शंकर और मां पार्वती की पूजा की जाती है। श्रीदेव पंचांग के अनुसार भगवान शंकर और मां पार्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त रात को 11.11 बजे से लेकर 1.10 बजे तक है। इसके बाद चतुर्थी तिथि लग जाएगी। सुबह सूर्योदय होने के बाद तीज व्रत का पारणा किया जा सकता है।

सुहाग की रक्षा और सुख समृद्धि के लिए रखा व्रत

परंपरा के अनुसार तीज का व्रत रखने वाली महिलाएं और युवतियों ने गुरुवार की रात करेले की सब्जी के साथ चावल खाने की परंपरा निभाई। करु भात खाने की परंपरा निभाने के लिए मायके वाले प्रमुख घर के साथ रिश्तेदारों के घर भी गए। यही कारण रहा कि करेले की गुरुवार को भारी मांग रही।

करु भात इसलिए…करेला करता है पित्त का शमन

शासकीय आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर के पंचकर्म विभाग के अध्यक्ष डॉ. हरींद्र मोहन शुक्ला ने बताया कि उपवास रखने से शरीर में पित्त की मात्रा बढ़ती है। करेले में पाए जाने वाले तत्व न केवल पित्त का शमन करते हैं बल्कि शरीर में पानी की कमी भी नहीं होने देते। इसी कारण करु भात खाते हैं।

दिनभर महिलाएं तीज व्रत की तैयारी में जुटीं रहीं

गुरुवार को दिनभर महिलाएं हर तालिका तीज व्रत की तैयारी में जुटीं रहीं। इस दौरान ससुराल से बेटियों के मायके आने का भी दौर चलता रहा। वहीं कुछ भाइयों ने कोरोना के प्रभाव को देखते हुए बहनों के लिए तीज की साड़ियां छोड़ने गए। देर रात तक यह सिलसिला चलता रहा।

Leave a Reply