Chhattisgarh

85 साल के जनसंघी देवेश्वर सिंह को प्रधानमंत्री ने किया फोन, कहा- छत्तीसगढ़ वाले मुझे बुलाते ही नहीं

अंबिकापुर | कोरोना संकट काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार अपने पुराने नेताओं, कोरोना वॉरियर्स व कोरोना फाइटर्स से फोन पर बात कर उनका हाल-चाल जान रहे हैं। इस कड़ी में प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को 85 वर्षीय जनसंघी नेता और पूर्व विधायक देवेश्वर सिंह से भी बात की और उनका हाल जाना। इस दौरान पूर्व विधायक ने अंबिकापुर से दिल्ली ट्रेन चलाने की मांग पीएम के सामने रखी।

प्रधानमंत्री बोले- आपका आशीर्वाद लेने के लिए फोन किया

पीएमओ ऑफिस से कहा गया आप घर पहुंच गए हों तो बात कराएं। प्रधानमंत्री जी बात करना चाहते हैं। इस पर उनके पोते ने मोबाइल देवेश्वर सिंह को दिया।

देवेश्वर सिंह : प्रणाम मोदी जी
पीएमओ ऑफिस : हां, रुकिए, प्रधानमंत्री जी बात करेंगे। (थोड़ी देर बाद)
पीएम : हेलो… हेलो… हेलो
देवेश्वर सिंह : हेलो
पीएम : देवेश्वर जी नमस्ते
देवेश्वर सिंह : नमस्कार, प्रणाम प्रधानमंत्री जी
पीएम : बस आपका आशीर्वाद लेने के लिए फोन किया। मैंने कहा बहुत दिन हो गए। छत्तीसगढ़ वाले बुलाते नहीं हैं। चलो नमस्ते कर लूं आपसे।
देवेश्वर सिंह : आपने बहुत अच्छी व्यवस्था की है। काफी लोगों की जान बचा दी आपने। नहीं तो चीन वाले ऐसा किए थे कि यहां भी बुरी तरह से लोग मरते।
पीएम : आपका आशीर्वाद है। आप लोगों के बीच रहकर जो काम सीखा है, उसको कर रहा हूं। उसी कारण देश की सेवा कर रहा हूं।
देवेश्वर सिंह : अच्छी सेवा कर रहे हैं आप। मेरी बहुत पुरानी अभिलाषा है कि अंबिकापुर से दिल्ली वाली ट्रेन चले।
पीएम : देखेंगे, देखिए, कभी न कभी यह भी होगा। एयरपोर्ट वाला काम कर दिया था।
देवेश्वर सिंह : मुझे पूरी उम्मीद और आशा है कि ये काम पूरा होगा। और आपके हस्तक्षेप से ही हाेगा।
पीएम : बस देश को अभी निकाल दें कोरोना में से फिर आगे देखते हैं कि कैसा-कैसा कर सकते हैं। तबीयत पूछने और प्रणाम करने के लिए फोन किया था। नमस्कार जी।
देवेश्वर सिंह : नमस्कार

देवेश्वर सिंह सरगुजा भाजपा जिलाध्यक्ष भी रहे

देवेश्वर सिंह 1967 से 1972 तक विधायक रहे। फिर 1977 में अविभाजित सरगुजा भाजपा ज़िले के अध्यक्ष बनाए गए। सरगुजा संभाग कार्यालय भी उनकी दान में दी गई जमीन पर बनाया गया है। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने की मां और रजनी ताई को फोन कर उनका हाल-चाल पूछा था।

Leave a Reply