जोगी ने कहा, 'मैं भी शराब पीता था, लेकिन ये खराब है। कुछ लोग चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ शराब में डूबा रहे।' - गोंडवाना एक्सप्रेस
gondwana express logo

जोगी ने कहा, ‘मैं भी शराब पीता था, लेकिन ये खराब है। कुछ लोग चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ शराब में डूबा रहे।’

रायपुर (एजेंसी) | पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा प्रदेश की बर्बादी की सबसे बड़ी वजह शराब है। जोगी ने कहा कि आपने अपने घोषणा पत्र में पूर्ण शराबबंदी के वादा किया है। जोगी ने कहा कि 15 साल में राज्य में शराब की खपत 15 गुना बढ़ गई। मैं इसे छत्तीसगढ़ वासियों के खिलाफ साजिश मानता हूं। कुछ लोग ये चाहते हैं कि पूरा छत्तीसगढ़ शराब के नशे में डूबा रहे और वो हमारा हीरा, सोना, कोयला सबकुछ लूट कर ले जाएं।




हम कुछ नहीं कह पाते, आंदोलन नहीं कर पाते। आज कम से कम मुझे बोलने के लिए आपने मुझे अवसर दिया तो मैं आज भावनात्मक रूप से कह रहा हूँ मैने भी शराब पी। आदिवासी गांव था, सब पीते थे हम भी पीते रहे। एक बार विदेश यात्रा पर गए वहां भी हम पीये। लेकिन लगा कि अजीत जोगी जिंदगी में कुछ बनना है तो इस लत से अलग होना पड़ेगा।

मैं भी शराब पीता था, लेकिन ये खराब है- जोगी

अजीत जोगी ने सदन में कहा कि राज्य की बर्बादी का कारण शराब है। सत्ता पक्ष ने घोषण पत्र में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया है। मेरा मित्र भी शराब के कारण बर्बाद हो गया। 200 एकड़ का किसान शराब की लत से भूमिहीन हो सकता है। जोगी ने कहा कि वो भी शराब पीते थे। आदिवासी गांव है तो सब पीते थे और साथ में वो भी पीते थे। उन्होंने कहा कि ये खराब है। इससे महिलाओं को ज्यादा तकलीफ होती है। जोगी ने सरकार से पूर्ण शराबबंदी करने की मांग की।

उन्होंने सरकार द्वारा शुरू होेने वाली ठेका पद्धति पर भी आपत्ति जताई है। जोगी ने कहा कि शराब के कारण महिलाएं सबसे ज्यादा प्रताड़ित हैं। उन्होंने कहा कि मैं हाथ जोड़कर निवेदन कर रहा हूँ कि यदि छत्तीसगढ़ को सच मे बचाना है तो पुनर्विचार कीजिये. शराबबंदी कीजिये। जोगी ने कहा कि पेंड्रा गौरेला को जिला बनाने की मांग रखी है। मनरेगा में सालों से कोई पेमेंट नही हुआ है। जोगी ने राज्यपाल के अभिभाषण,अनुपूरक बजट और जनघोषणा पत्र के बिंदुओं का जिक्र करते हुए कहा कि तीनों में विरोधाभास है। इस तरह का विरोधाभास नहीं होना चाहिए। क्योंकि लोगों ने आप पर भरोसा कर झाराझार जनादेश दिया है। इसका सम्मान करना आपका कर्तव्य है।



Leave a Reply