Education & Jobs

एडमिशन अलर्ट:इंजीनियरिंग व फार्मेसी में प्रवेश सितंबर में, 12वीं में मिले नंबरों से तय होगी सीटें

इंजीनियरिंग, फार्मेसी, पॉलिटेक्निक समेत पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रक्रिया सितंबर से शुरू हो सकती है। तकनीकी शिक्षा संचालनालय से इसकी तैयारी की जा रही है। एंट्रेंस एग्जाम नहीं होने के कारण इस बार मेरिट के आधार पर सीटें आबंटित की जाएगी। इंजीनियरिंग व फार्मेसी की सीटें बारहवीं में मिले नंबरों से तय होगी।

जबकि पॉलिटेक्निक की सीटें बांटने के लिए दसवीं को आधार बनाया जाएगा। तकनीकी विवि से जुड़े कॉलेज व अन्य संस्थानों के तकनीकी पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रति वर्ष व्यापमं से प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस बार भी व्यापमं से तैयारी की गई थी। आवेदन भी मंगाए गए थे। लेकिन कोरोना वायरस की वजह से प्रवेश परीक्षा का आयोजन संभव नहीं था। बाद में यह तय किया गया कि इस बार मेरिट के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। इस वजह से प्रवेश में देरी हुई है।

सूत्रों ने बताया कि तकनीकी विश्वविद्यालय की ओर से एफिलिएशन (संबद्धता) लिस्ट तकनीकी शिक्षा संचालनालय को भेज दी गई है। इसलिए यह माना जा रहा है कि सितंबर के पहले सप्ताह से इंजीनियरिंग, फार्मेसी, पॉलिटेक्निक समेत अन्य तकनीकी पाठ्यक्रमों में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। इसके लिए नए सिरे से आवेदन मंगाए जाएंगे।

कितनी सीटों पर प्रवेश, सूचना जल्द

शिक्षाविदों ने बताया कि इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक व अन्य तकनीकी पाठ्यक्रम में इस बार कितनी सीटों पर प्रवेश होगा इसकी सूचना जल्द जारी होगी। पिछली बार राज्य के 38 इंजीनियरिंग कॉलेजों में करीब साढ़े 15 हजार सीटें थी। पॉलिटेक्निक के 54 कॉलेजों में साढ़े दस हजार सीटें थे। अनुमान है कि इस बार इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक कॉलेजों में बड़ी संख्या में छात्र प्रवेश लेंगे।

Leave a Reply