अब भी मतदाता सूची में जुड़वा सकते है नाम, 27 सितम्बर होगी लास्ट डेट

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 दिसम्बर में होने वाले है, इसके मद्देनजर मतदाता सूची में नाम जुड़वाने की आखिरी तारीख यानी 7 सितंबर थी। लेकिन अगर आप 18 साल के है और अपना नाम रजिस्टर नहीं करा पाए है तो उनके लिए 27 सितंबर तक भी एक मौका है, लेकिन अब ज्यादा औपचारिकताएं पूरी करनी होंगे। दरअसल अब निर्वाचन आयोग मतदाता सूची के दूसरे संक्षिप्त पुनरीक्षण का काम पूरा कर चुका है। 20 सितंबर से पहले वोटर लिस्ट पर दावे-आपत्तियों का निराकरण कर होगा, उसके बाद मतदाता सूची प्रकाशित की जाएगी, जिसके आधार पर विधानसभा चुनाव में वोट डाल सकेंगे। लेकिन चूंकि यह काम निर्धारित तिथि के बाद करना पड़ता है, इसलिए प्रक्रिया थोड़ी जटिल हो जाती है। इसके लिए भी नामांकन की आखिरी तारीख से कम से कम सात दिन पहले तक आवेदन देना होता है।

ग़ौरतलब है कि वोटर लिस्ट का दूसरा संक्षिप्त पुनरीक्षण 21 अगस्त तक होना था। इसे बढ़ाकर छत्तीसगढ़ चुनाव आयोग ने पहले 31 अगस्त तक और फिर 7 सितंबर तक कर दिया था। इस दौरान ऑनलाइन, मतदान केंद्रों और तहसील दफ्तरों में वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने, संशोधन, मतदान केंद्रों के परिवर्तन, मतदाता सूची से नाम कटवाने आदि के लिए फॉर्म भरे गए। 20 सितंबर से पहले इस अवधि में की गई दावा-आपत्तियों का निराकरण होगा। 26 सितंबर को पूरी मतदाता सूची के डाटा को अपडेट किया जाएगा। 27 सितंबर को अंतिम सूची प्रकाशित हो जाएगी, जिसमें संशोधन की प्रक्रिया कठिन है।




आखिरी दिन तक जुड़ते हैं नाम 

नामांकन के आखिरी दिन तक नाम जुड़ते हैं, क्योंकि अंतिम मतदाता सूची के प्रकाशन के बाद भी दो मतदाता सूची यानी पूरक एक और पूरक दो भी आती है। लेकिन नामांकन की तारीख के 7 दिन पहले तक ही आवेदन दिए गए, तभी यह संभव है। जैसे, नामांकन की आखिरी तारीख 8 नवंबर है तो कम से कम 30 अक्टूबर तक फॉर्म भरना होगा। वेरीफिकेशन और अन्य पड़ताल के बाद नाम जुड़े। इस अवधि में पूरी प्रक्रिया होने के बाद नाम जुड़ता है, तो संबंधित व्यक्ति को इस चुनाव में भी वोट डालने की पात्रता रहेगी।

ऑनलाइन वालों को जल्द मैसेज 

ऐसे लोग जिन्होंने दूसरे संक्षिप्त पुनरीक्षण के दौरान ऑन लाइन आवेदन किया हैं, उनके पास दावा-आपत्ति के निराकरण के लिए मैसेज आएगा। ये मैसेज तीन तरह के होंगे। इसमें सुनवाई, मंजूर या खारिज इस तरह के संदेश मिलेंगे। सुनवाई की स्थिति में एआरओ यानी अस्सिटेंट रिटर्निंग अफसर, और अस्सिटेंट इलेक्टोरल रजिस्ट्रेशन अफसर के पास दावा आपत्ति का निराकरण होगा।

1.70 लाख ने दिए आवेदन 

आयोग ने 1 सितंबर को बताया कि राज्य में दूसरे संक्षिप्त पुनरीक्षण के दौरान अलग-अलग कैटेगरी में करीब 1 लाख 70 हजार आवेदन मिले हैं। इनमें फॉर्म 6 यानी नाम जुड़वाने या ट्रांसफर होने पर मतदाता सूची में नाम जोड़ने के लिए सबसे ज्यादा 1 लाख से ज्यादा फॉर्म आए। जबकि करीब 43 हजार आवेदन नाम कटवाने के लिए मिले। बाकी आवेदन वोटर कार्ड में नाम पते की गलती के संशोधन के हैं। साथ ही एक ही विधानसभा क्षेत्र में मतदान केंद्र बदलने के आवेदन भी आए हैं। इनकी तादाद करीब 27 हजार है।



Leave a Reply