naxali-surrender-in-dantewada
Chhattisgarh India

दंतेवाड़ा : लोन वर्राटू (घर वापस आइए) अभियान से प्रभावित होकर 03 ईनामी सहित कुल 25 माओवादियों ने थाना कुआकोण्ड़ा में कलेक्टर- पुलिस अधीक्षक के समक्ष किया आत्मसमर्पण

दंतेवाड़ा. जिले में चलाये जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत् के दरभा डिवीजन के कटेक्लयाण एरिया कमेटी/मलांगिर एयिा कमेटी अंतर्गत नकक्सली अग्र संगठन में कार्यरत सक्रिय 25 माओवादियों ने माओवादी संगठन के खोखली विचारधारा से तंग आकर लोन वर्राटू(घर वापस आइए) अभियान तथा छत्तीसगढ़ शासन के पुनर्वास योजना से प्रभावित होकर समाज के मुख्य धारा से जुड़कर विकास में सहयोग करने की इच्छा व्यक्त कर श्री दीपक सोनी कलेक्टर दन्तेवाड़ा, श्री डी.एन.लाल उप पुलिस महानिरीक्षक (परि) के.रि.पु. बल दन्तेवाड़ा, डॉ. अभिषेक पल्लव (भा.पु.से.) पुलिस अधीक्षक दन्तेवाड़ा, श्री डब्ल्यू.आर. जोसेफ कमाण्डेट 230वीं बटा. के.रि.पु.बल श्री अम्ब्रेष शर्मा कमाण्डेट 111 बट.के.रि.पु. बल के समक्ष थाना कुआकोण्डा में आत्समर्पण किया।

ज्ञात हो कि विगत 15 दिनों से जिला दन्तेवाड़ा के विभिन्न ग्रामों के नक्सली संगठन में सक्रिय सदस्यों के घर वासपी हेतु थाना/कैम्पों एवं ग्राम पंचायतों में सम्बंधित ंक्षेत्र के सक्रिय माओवादियों के नाम चस्पा कर माओवादी संगठन के खोखली विचारधार को छोड़कर समाज की मुख्य धारा में शामिल होने हेतु लोन वर्राटू (घर वापस आइए) अभियान चलया जा रहा है, एवं कलेक्टर, श्री दीपक सोनी और पुलिस अधीक्षक डॉ. अभिषेक पल्लव (भा.पु.से.) के द्वारा नक्सली संगठन में सक्रिय माओवादियों से आत्मसमर्पण कर सम्मानपूर्वक जीवनयापन करने के लिये लगातार आव्हान कर अपील किया जा रहा है, जिससे प्रभावित होकर उक्त माओवादियों के द्वारा आत्मसर्पण किया गया है। इस दौरान श्री राजेन्द्र जायसवाल अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक श्री देवांश राठौर पुलिस अनुविभागीय अधिकारी किरन्दुल श्री हिरनारायण कम्पनी कमाण्डर सी/230 बटा.के.रि.पु. बल रेुंगानार श्री सलीम खाखा थाना प्रभारी कुआकोण्डा एवं अन्य अधिकारी कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

छत्तीसगढ़ शासन के पुर्नवास निति के तहत् आत्मसर्पण पश्चात समाज के मुख्य धारा में सामिल होने पर स्वागत करते हुए सभी आत्मसमर्पित माओवादियों को श्री दीपक सोनी कलेक्टर दन्तेवाड़ा डॉ. अभिषेक पल्लव पुलिस अधीक्षक दन्तेवाड़ा के द्वारा प्रोत्साहन राशि दस -दस हजार रूपये प्रदान किया गया । आत्मसर्पण माओवादियों में श्री बुधराम तामो पिता स्व. हुर्रा , श्री माझी बारसे पिता श्री माड़का बारसे, देवे सोढ़ी पिता श्री हांदा सोढ़ी, हुर्रा उर्फ डोरा कुंजाम पिता श्री पाण्डरा कुंजाम, हुर्रा उर्फ कीके पिता श्री देवा कुंजाम, भीमा राम तामों पिता श्री हिंगाराम तामो, सुदरू भास्कर पिता स्व. भदरू भास्कर, लक्ष्मण बरसा पिता स्व. जग्गू बारसा, हिड़मा कुंजाम उर्फ पनकू पिता श्री पण्डरा कुंजाम, गंगा कोर्राम पिता श्री कोसा कोर्राम, माड़का बारसे श्री छन्नू बारसे, हिड़मा कुंजाम पिता श्री पाण्डा कुंजाम, बुधराम सोरी पिता श्री भीमा सोरी, बामन उर्फ पाकलू पिता श्री बूमा मडकाम, सुक्को सोढ़ी पिता श्री मासा सोढ़ी, देवा सोढ़ी पिता श्री बोड्डा सोढ़ी, श्री हुंगा सोढ़ी पिता श्री कोना सोढ़ी, हुंगा ओयामी पिता श्री मासा ओयामी, श्री गणेश राम पदम पिता श्री मारा पदम, श्री लिंगा कोहरामी पिता श्री हिड़मा कोहरामी, श्री दुले माड़वी, पति श्री आशिष माड़वी, श्री हुर्रे बारसे पति श्री माड़का बारसे, कु. माड़के बारसे पिता श्री हुर्रा बारसे, श्री बिज्जा कड़ती पिता श्री बिज्जा बैय्या, श्री सोना कुंजाम पिता श्री बोसे कुंजाम, शामिल है।

जो छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा प्रतिबंधित अग्र संगठन(डीकेएमएस केएएमएस सीएनएसम, जनताना सरकार/जनमिलिशिया) के अन्तर्गत नक्सली संगठन कार्य में कार्य करते हुए थाना कुआकोण्डा क्षेत्र में वर्ष 2009 में ग्राम छोटे बेड़मा में  हुंगा राम पोयाम की जन अदालत लगाकर हत्या करने की घटना वर्ष 2013 में नकुलनार साप्ताहिक बाजार में प्रधान आरक्षक गौतम पाण्डे से एसएलआर रायफल छिनकर हत्या करने एवं उपनिरीक्षक सत्यावादी साहू को चोट पहंुचाकर घायल करने की घटना वर्ष 2014 में श्यामगिरी घाट में पुलिस पार्टी के ऊपर हमला कर हथियार लूटकर हत्या करने एवं मोटर सायकल को जलाने, 2015 में मिडि़मी पारा फूलफाड़ में सुजित कुमार मिडि़मी का अपहारण कर हत्या करने की घटना, 2016 में मैलावाड़ा सुकमा रोड़ मे सीआरपीएफ के लैण्ड माईंस व्हीकल को ब्लास्ट कर 07 जवानों की हत्या करने की घटना, वर्ष 2016 में नकुलनार में निर्माणाधीन आईटीआई भवन में मिक्चर मशीन को जलाने की घटना में शामिल रहे है।

उपरोक्त घटना के अलावा आत्मसमर्पित माओवादियों के द्वारा ग्राम मैलावाड़ा, मोखपाल, बडे़ बेडमा, पेन्टा, फुलफाड़, श्यामगिरी क्षेत्र में हत्या, हत्या का प्रयास, आगजनी, रोड़ खोदने, पुल-पुलिया क्षतिग्रस्त करने एवं पुलिस पार्टी के आने-जाने के संभावित रास्तो पर प्रेशर आईईडी व नुकीली स्पाईक लगाने सहित ग्रामिणों को माओवादी संगठन में जोड़ने हेतु प्रचार-प्रसार करना, मार्ग में माओवादी बैनर,पोस्टर लगाकर ग्रामिणों में भय उत्पन्न करना, गस्त पर निकली पुलिस पार्टी की सूचना फटाखा फोड़कर माओवादियों तक पहुंचाने तथा राशन पहुंचाने का काम किया जाता था।

Leave a Reply