Chhattisgarh Politics

विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर 12 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण, शहीद कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा की बेटी और पत्नी ने तिलक लगा कर किया स्वागत

झीरम नक्सल हमले में अपने पिता और कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा को खो चुकीं, उनकी बेटी तुलिका रविवार को नक्सलियों का तिलक लगाकर स्वागत करती दिखीं। 5 इनामी नक्सलियों समेत कुल 12 नक्सली आत्मसमर्पण करने एसपी दफ्तर पहुंचे थे। विश्व आदिवासी दिवस का भी मौका था इसलिए कर्मा परिवार ने इनका मुख्य धारा में जुदा अंदाज में स्वागत किया। इस दौरान तुलिका की मां और दंतेवाड़ा से विधायक देवती कर्मा भी मौजूद रहीं। यह आत्मसमर्पण दंतेवाड़ा पुलिस द्वारा चलाए जा रहे अभियान लोन वर्राटू (घर वापस आइए) के तहत हुआ।

पुलिस के मुताबिक 2 लाख रुपए का इनामी चंदू राम सेठिया, 1-1 लाख के इनामी लखमू हेमला, सुनील ताती, मानू मंडावी और मातूराम बारसा ने सरेंडर किया। इनके अलावा सरेंडर करने वालों में अमित कवासी, कवासी जोगा, राम सिंह, आयातू, अशोक मंडावी, हुंगा कश्यप, रमेश कुमार ने भी आत्मसमर्पण किया है। इन नक्सलियों में से चंदू ने साल 2008 में भूसारास इलाके में 40 किलो की आईडी से एक बस को उड़ा दिया था इस घटना में दो ग्रामीण सहित 23 पुलिसकर्मी शहीद हुए थे।

2010 और 2016 की घटनाओं में सीआरपीएफ के 1-1 जवान शहीद हुए थे। चंदू इस वारदात में शामिल था। मादुराम ने साल 2018 में बस को रोककर उसमें आग लगा दी थी। बरसा ने साल 2010 में भैरमगढ़ में रहने वाले एक एसपीओ, 2018 में 1 और 2019 में एक ग्रामीण को पुलिस का मुखबीर बताकर मारा था। अमित कवासी उस घटना में शामिल था जब चुनाव से पहले पुलिस के जवान और दूरदर्शन के कैमरामैन शहीद हुए थे। अन्य नक्सली बड़े नक्सलियों के लिए खाने-पीने का बंदोबस्त करने और पुलिस की जानकारी नक्सलियों को देने का काम कर रहे थे। अब सभी के रोजगार का इंतेजाम सरकारी योजना के तहत किया जाएगा।

Leave a Reply